27 August 2016

धर्म वही है जो मानव मात्र के उत्थान का मार्ग प्रशस्त कर सके ------- श्री रामानुज

  ' जो  धर्म  लोगों  में   भेदभाव  की  दीवारों   को  ऊँचा  करता  है   उसे  श्रेष्ठ  मानना  भूल  है   ।  रामानुज  ने   धार्मिक  समता  का  प्रचार  किया  ,  छुआछूत  और  ऊँच - नीच   का   विरोध  किया   ।  उन्होंने  दीन - दुःखियों  की  सेवा  को  धर्म  का  सर्वोच्च  लक्षण  बताया  । '
  श्री  रामानुज  ने  श्रीरंगम  की  महन्त   की  गददी  का  कार्यभार  संभाला   ।  इस  उच्च  पदवी  पर  पहुँच  कर  भी   उन्होंने  मंदिर  की  आय  में  से   अपने  लिए  कुछ  भी  खर्च  करना  अनुचित  समझा  , वह  सब  मंदिर  की  व्यवस्था  में  ही  खर्च  की  जाती  थी  ।   और  रामानुज  एक  साधु  की  तरह  भिक्षा  लेकर  ही  निर्वाह  करते  थे  ।  
  श्री  रामानुज  चरित्र  और  कर्तव्यपालन  को  सर्वाधिक  महत्व  देते  थे  ,  उनका  कहना  था  कि  जनेऊ  पहन  लेने   से  ही  कोई  ब्राह्मण  नहीं  हो  जाता   ।
  ' मनुष्य  एक  सामाजिक  प्राणी  है  ,  जन्म  से  मृत्यु  तक   उसका  निर्वाह  अन्य  अनेक  व्यक्तियों  के  सहयोग  से  होता  है   ।   एक  अकेले  व्यक्ति  के  सुधर  जाने  से ,  सद्गुण  ग्रहण  करने  से   कोई  विशेष  फल  नहीं   निकल  पाता  ।  इसलिए  जिस  समाज  में  हम  रहते  हैं ,  जीवन  यापन  करते  हैं   उसे  उन्नत  बनाने  का ,  गिरे  हुओं  को  ऊँचा  उठाने  का  प्रयत्न  करना  चाहिए  । 

26 August 2016

दान का मर्म --------

 ' स्रष्टि  के  इतिहास  में  युगों  बाद  विरले  क्षण  आते  हैं   जब  पराचेतना  स्वयं  मानव  से  दान  की  गुहार  करती  है  l  ऐसे  में    धन - दौलत  की  अपेक्षा  श्रेष्ठ  होता  है  ---- स्वयं  के  श्रम  और  समय  का  दान  ,   और  इससे  भी  कहीं  श्रेष्ठतम  है  ----- स्वयं  का ,  स्वयं  के  व्यक्तित्व  का  दान  ---- युग  निर्माण  के  लिए  अपना    उदाहरण    प्रस्तुत  करना  । '
        भगवान  बुद्ध   वैशाली  नगर  पधारे  ।  प्रवचन  समाप्त  होने  पर  वैशाली  के  दण्डनायक  हाथ  जोड़  कर  प्रार्थना  की ---- " प्रभु  ! भिक्षु  संघ  का  स्वागत  करने  का  सौभाग्य  मांगने  आया  है  यह  जन  सेवक   । "
  तथागत  ने  कहा   " भन्ते ! बुद्ध  कृपण  की  भिक्षा  स्वीकार  नहीं  करते   ।  दान  करना  चाहते  हो  तो  दान  का  मर्म  समझो   और  श्रेष्ठतम  दान  करो  । "
वैशाली  का  प्रचंड  दण्डनायक,  नगर  में  जिस  ओर  निकलता  था  ,  सब  उसके  अभिवादन  में  खड़े  हो  जाते  थे   ।  आज  गणमान्य  नागरिकों ,  भिक्षुओं  से  भरी  सभा  में  उसका  अपमान ,  कृपण  का  संबोधन  ।  उसकी  मुख  कांति  लुप्त  हो  गई   ।  वह  सोचता , विचार  करता  रथ  पर  जा  बैठा  ----- ' दान  सत्कार्य  में  सत्प्रयोजन  के  लिए  स्वयं  की  शक्तियों  का  नियोजन  है  '  ------- अब  वह  ऐश्वर्य  लुटाने  लगा ,  दीन - दुःखी  ,  दरिद्र , भिखारी   सभी   कृतार्थ   हो  रहे  थे  ,  चारों  ओर  उसकी  ख्याति  फैलने  लगी  ।
      दण्डनायक  की  ख्याति  के  स्वर  बुद्ध  तक  पहुंचे  ,  यह  सुन कर  उन्होंने  कहा ----- " सम्पदा  को  लुटा - फेंकने  का  नाम  तो  दान  नहीं  है  ।  पात्र  - कुपात्र  का  विचार  किये  बिना  संचित  साधनों  को  भावुकता  वश  फेंकने   लगना,   अर्जित  पूंजी  को  अँधेरे  कुएं  में  डालना  है   जिसके  सत्परिणाम  कम  और  दुष्परिणाम       अधिक  देखने  में  आते  हैं    और  समय  आने  पर  सत्पात्र  को  अनसुना  कर  देना  घातक  है  । "
  दण्डनायक  सोचने  लगा  ,  उसे  अपनी  भूल  समझ  में  आने  लगी  कि--- अभी  तक  तो  दान  के  नाम  पर  सिर्फ  अहम्  का  पोषण  रहा  ,  नाम  को  फ़ैलाने   और  यश  को  बटोरने  की  ओछी  शुरुआत  भर  हुई  ।
  उनका  मन  प्रायश्चित  से  भर  उठा  ।   वे  सोचने  लगे   कि  स्वयं  की  शक्तियां  क्या  हैं  ?  इसका  स्रोत  क्या  है   ?   इसका  स्रोत  है  -- स्वयं  का  व्यक्तित्व  ।
वे  अपनी  पत्नी  के  साथ  भगवन  बुद्ध  के  समीप  पहुंचे  ,  उनके  चरणों  में  निवेदन  कर  बोले ---- " प्रभु  ! सम्पति  आपकी ,  निवास  आपका  और  हम  दोनों  आपके  । "    महादान  का  यह  स्वरुप  देखकर  सब  आश्चर्य  चकित  हुए   ।  बुद्ध  ने  कहा  ---- स्वयं  से  ज्योति  का  सत्कार  करो ,  अपनी  बातों  और  भाषणों  से  नहीं ,  अपने  आचरण  से शिक्षा  दो  ।                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

25 August 2016

दान की सार्थकता

   उच्च  कोटि  का  दान  ' ज्ञान  दान '  है  ।  हमारे  अधिकांश  कष्टों  का  एक  बड़ा  कारण  अज्ञान  और  अविद्दा  ही  होता  है  ।  यदि  कोई  सदुपदेश , सत्संग , सद्ग्रंथों  द्वारा  हमारे  अज्ञान  को  दूर  कर  देता  है  तो  यह  एक  ऐसा  दान  है   जिसकी  तुलना   अन्य  किसी  दान  से  नहीं  की    जा  सकती  ।  क्योंकि  अन्न , वस्त्र , धन  आदि  से  हमारी  कोई  सामयिक  आवश्यकता  ही  पूरी  हो  सकती  है  और  कुछ  समय  बाद   फिर  वही  अभाव  उपस्थित  हो  जाता  है  ।  हमारे  अज्ञान , असमर्थता  को  दूर  करके  सुखी  होने  का  सच्चा  मार्ग  दिखला  देता  है  ,  तो  यह  एक  महान  उपकार  है  ।
   अनेक   पंडा  - पुजारी  इस  बात  का  विज्ञापन  करते  हैं  कि  अमुक  व्यक्ति  ने  यहाँ  इतने  हजार  का  दान  किया  ,  यह  देख  और  लोग  भी   बड़े  धूमधाम  से  ,  प्रदर्शन  के  साथ  दान  करते  हैं  ।  इस  प्रकार  की नामवरी   अथवा  अहंकार  की  तुष्टि  के  लिए  किया  गया  दान  उत्तम  नहीं  होता   ।   '  गीता '  में  इसे    
  ' तामसी '    श्रेणी                  का  कहा  गया  है   ।
 स्वामी  दयानंद  का  कहना  है  कि जो  समीपवर्ती  दीन - दुःखी  जन  पर  तो  दया  भाव  नहीं   दिखाता ,  किन्तु  दूरस्थ  मनुष्य  के  लिए   उसका  प्रकाश  करता  है  , उसे  दयावान  और  सहानुभूति  प्रकाशक  नहीं  कह  सकते  ।   दान  आदि  वृतियों  का  विकास  ,  दीपक  की  ज्योति  की  भाँती ,  समीप  से  दूर  तक  फैलना  चाहिए  ।    धन  का  दान  करने  की  अपेक्षा  सेवा  और  सहायता  का  दान   कहीं  उत्कृष्ट   है  । 
                                                                                                                                                                        स्वामीजी  का  कहना  था  कि  जो  निर्धन  अन्न  आदि  का  दान  नहीं  कर  सकते   वे  विपन्न  और   व्याधि  ग्रस्त  लोगों  की  मदद  करें  ,  मीठे  वचनों  से  उन्हें  शान्ति  दें  ।                                                                                                                                             

24 August 2016

जब आचार्य की कठोरता से सम्राट का अहंकार करुणा में परिवर्तित हो गया

गुर्जर  प्रदेश  में  जन्मे  आचार्य  हेमचन्द्र  ( जन्म 1145 ) दर्शन , धर्म , संस्कृति , साहित्य , कला , राजनीति  और  लोक नीति   के  प्रकाण्ड  पंडित  थे  ,  उन्हें  जन - जन  ने  ' गुर्जर - सर्वज्ञ '  की  उपाधि  से  विभूषित  किया  था   ।  उनके  अहिंसा , करुणा  के  उपदेशों  से  प्रभावित  होकर  गुर्जराधिपति  सम्राट  कुमारपाल   ने  उन्हें  अपना    गुरु    बना  लिया   । 
आचार्य  हेमचन्द्र  कुछ  समय  के  प्रवास  के  बाद  राजधानी  पाटन  लौट  रहे  थे  ।  वे  पैदल   ही  यात्रा  करते  थे  ,  मार्ग  में  कहीं  रात्रि   विश्राम  करते  थे   ।  एक  रात्रि  वे  एक  गाँव  में  एक  निर्धन  विधवा  के  अतिथि  बने  ।  उसके  पास  जो  कुछ  भी  मोटा  अन्न  था  उसने  वह  प्रेम  से  उन्हें  खिलाया  ।  प्रात:  जब  वे  चलने  लगे  तो  उस  मुंहबोली  बहिन  ने  अपने  हाथ  से  कटे  सूत  की  चादर  उन्हें  भेंट  की   ।  आचार्य    ' ना '  करते  रहे  किन्तु  बहिन  आयु  में  उनसे  बड़ी  थी   अत:  वे  उपहार  ठुकरा  न  सके  और  प्रसन्नता  पूर्वक   मोटे  सूत  की  चादर   ओढ़  कर  पाटन  चल  पड़े  ।
  सम्राट  कुमारपाल  को  उनके  आने  की  खबर  मिली  तो  अपने  शान - वैभव  के  साथ   वे  गुरुदेव  का  स्वागत  करने  नगर  के  बाहर   आ  गये  ।  प्रथम  उन्होंने  गुरुदेव  का  चरण - स्पर्श  किया ,  आशीर्वाद  लिया  ।  किन्तु  उन्हें  गुरुदेव  के  कन्धे  पर  मोटे  गाढ़े  की  चादर  किंचित  मात्र  न  भायी  ।
  सम्राट  ने  निवेदन  किया  --- " आचार्य  प्रवर  !  यह  क्या  ?  सम्राट  कुमारपाल  के  गुरुदेव  के  कन्धों  पर  यह  गाढ़े  का  बेढंगा  चादर  बिलकुल  शोभा  नहीं  देता  ,  इसे  बदल  लीजिये  । "
 आचार्य  समझ  गये  कि  सम्राट  का  अहम्   करवटें  ले  रहा  है  ।  उन्होंने  कहा  ____ " यह  शरीर  तो  अस्थि , चर्म  और  मांस , मज्जा  का  ढेर  है  ।  इस  चादर  को  ओढ़ने  से  ऐसा  क्या  अपमान  हो  गया  इसका  । "
सम्राट  ने  कहा --- " गुरुदेव  आप  तो  दैहिक  सुख ,  शोभा  से  निर्लिप्त  हैं  पर  मुझे  तो  लज्जा  आती  है  कि  मेरे  सम्राट  होते  हुए    मेरे  गुरुदेव  के  कन्धों  पर  बहुमूल्य  कौशेय  उत्तरीय  न  होकर   गाढे  की  चादर हो "
       सम्राट  का  यह  कहना  था  कि  आचार्य  हेमचन्द्र  अपनी  ओजपूर्ण  वाणी  में  बोल  उठे ------ " इस  चादर  को  मैंने  ओढ़  रखा  है   इस  बात  को  लेकर  तुम्हे  शर्म  आ  सकती  है    पर  कई  गरीबों  का  तो  यह  व्यवसाय  ही  है  ।   कई  असहाय  विधवाओं  और  वृद्धाओं  द्वारा  दिन  भर  सूत  कात - कात  कर   बनायीं  गई  ये  चादरें  ही  उनका  पालन - पोषण  करती  हैं   ।  उन्हें  पहनने  में  मुझे  लज्जा  नहीं  गर्व  की  अनुभूति  होती  है   ।    तुम्हारे    जैसे    धर्मपरायण    सम्राट     के  राज्य  में  भी   ऐसी  कितनी  ही  बहिने  हैं   जिन्हें  दिन  भर  श्रम  करने  पर  भी  भर - पेट  भोजन  नहीं  मिलता   ।  ऐसी  ही  एक  बहिन  की  दी  हुई  यह  मूल्यवान  भेंट  मेरे  मन  को  जो  सादगी , निर्मलता  और  शोभा  प्रदान  करती  है   उसे   मैं   जानता  हूँ  ।  इस  चादर  में  जो  स्नेह , प्रेम  ,  श्रम  और  श्रद्धा  के  सूक्ष्म  धागे  बुने  हुए  हैं   उनकी  श्री  , शोभा  के  आगे   तुम्हारे  हजारों  कौशेय  परिधान  वारे  जा  सकते  हैं  । "
  आचार्य  के  ये  मार्मिक  वचन  सुनकर  सम्राट  का  सिर  लज्जा  से  नत  हो  गया  ,  उनका  अहम्  विगलित  हो  गया  ।  प्रजा  की  सम्पति  का   सदुपयोग  किस  प्रकार  करना  चाहिए  यह  उनकी  समझ  में  आ  गया  ।   सम्राट  ने  तत्काल  घोषणा  की ----- "  राजकोष  से  प्रतिवर्ष  करोड़  स्वर्ण  मुद्राएँ  ऐसे  असहाय  स्त्री - पुरुषों  की  सहायता  में  व्यय  किये  जाएँ  जिनके  पास   आजीविका  के  समुचित  साधन  नहीं  हैं  ।  " 
आचार्य  हेमचन्द्र  की  यह  कठोरता  भी  समाज  का  बहुत  बड़ा  हित  कर  गई  ।  अपने  शिष्य  के  सम्राट  होने  का  अहम्  विदीर्ण  करके  उसके  स्थान  पर  उन्होंने  करुणा  व  कर्तव्यपालन  की  सरिता  बहायी  थी   जिसमे  स्नान  कर  कितने  ही  दीन - दुःखियों   की  कष्ट  कालिमा  धुल  गई   l   

22 August 2016

संत साहित्यकार --------- चिम्मन लाल गोस्वामी

 ' आंतरिक  निष्ठा  बदलते  ही  ---- बाह्य  जगत  भी  बदल  जाता  है  ।  वैभव  के  खीर - पकवानों   से  सेवा - साधना  में  मिली  रुखी  रोटी  रुचिकर  लगने  लगती  है    l  '
 चिम्मन  लाल  गोस्वामी  ( जन्म  1900 )   ऐसे  ही  अवसर  की  तलाश  में  थे  ,  जिनसे  आंतरिक  और  आत्मिक  क्षुधा  को  तृप्त  किया  जा  सके  ।    गोस्वामी  जी   बीकानेर  राज्य  में  एक  उच्च  पद  पर  नियुक्त  थे    जहाँ  उनका  जीवन  सुख - सुविधापूर्ण   और  साधन - संपन्न  था    ।
  एक  बार  कल्याण  के  संपादक  श्री   हनुमान  प्रसाद  जी  पोद्दार  ने  बीकानेर  में  सत्संग  गोष्ठियाँ  चलायीं  l  पोद्दार  जी  के  प्रवचन  सुनकर   उन्हें  लगा   कि  अब  उनकी  खोज  पूरी  हो  गई ,  गोस्वामी  जी  आनंदित  हो  उठे  l   दो - चार  दिनों  के  सानिध्य  ने  ही  उनकी  जीवन  की  दिशा  बदल  दी   और  उन्होंने  सेवा  को  ही  अपना   आदर्श - लक्ष्य  बना  लिया   l
  उन्होंने  1933  में  उन्होंने  बीकानेर  राज्य  की  नौकरी  से  इस्तीफा  दे  दिया  ,  और  कल्याण  का  संपादन  भर  उन  पर  आया  l  उनके  सम्पादन  में  कल्याण  के  कई  खोजपूर्ण  विशेषांक  निकले   l 

21 August 2016

साहस व धैर्य के धनी ------ बहादुरशाह जफर

 बहादुरशाह  अच्छे  शायर  थे   ।  ' जफर '  उनका  उपनाम  था  ।  ' जफ़र ' नाममात्र  के  बादशाह  थे    , वे  अपमान  और  परवशता  के  जीवन  से  मृत्यु  को  बेहतर  समझते  थे  ,  उनकी  यह  व्यथा  उनकी  कृतियों  में  स्पष्ट  हुई  है ---- ' लगता  नहीं  है  दिल  मेरा  उजड़े  दयार  में -------
                                 दो गज  जमीन  भी  न  मिली  कुएँ  ए  यार  में    ।
 20  सितम्बर  1858  का  दिन  था  ।  अंतिम  मुगल  सम्राट  किले  में  नजरबन्द  थे   ।   अपने  मन  की  साध  पूरी  हो  जाने  का  उस  वृद्ध  शहंशाह  को  सन्तोष  था  l  स्वतंत्रता  संग्राम  में  विजयश्री  भले  ही  न  मिली  हो  पर  अन्याय  का  प्रतिकार  करने  के  लिए  वह  उठ  खड़ा  तो  हुआ  था  ,  इस  सन्तोष  की  चमक  उसके  चेहरे  पर  थी   l                 अंग्रेज  सेनापति   हडसन  ने   कक्ष  में  प्रवेश  किया   । ।  हडसन  के  साथ  एक  सैनिक  भी  था  जिसके  हाथ  में  बड़े  से  रेशमी  रुमाल  से  ढका  हुआ  थाल  था  ।  हडसन  ने  बादशाह  को  अभिवादन  करते  हुए  कहा --- " बादशाह  सलामत  ! कम्पनी  ने  आपसे  दोस्ती  का  इजहार  करते  हुए   आपकी  खिदमत  में  यह  नायाब  तोहफा  भेजा  है  ।  इसे  कबूल  फरमाएँ  । " उसके  इस  कथन  के  साथ  ही  सैनिक  ने  थाल  बहादुरशाह  ' जफर '  के  सामने  कर  दिया  ।
  कांपते  हाथों  से  किन्तु  दृढ  ह्रदय  से  उन्होंने  कपड़ा  हटाया  तो  अंग्रेजों  की  क्रूरता  निरावृत  हो  गई  ।  उसमे  बादशाह  के  पुत्रों  के  कटे  हुए  सिर  थे  ।
  हडसन  ने  सोचा  था  कि  बूढ़ा  अपने  बेटों  के  कटे  सिर  देखकर  विलाप  करेगा  किन्तु  इस  संभावना  के  विपरीत  वृद्ध  पिता  कुछ  क्षण  अपने  पुत्रों  के  कटे  सिरों  की  ओर  देखकर  अपनी  नजरें  हडसन  के  क्रूर  चेहरे  पर  जमाते  हुए  निर्विकार  भाव  से  कहा --- " अलह  हम्दो  लिल्लाह  !"
  तैमूर  की  औलाद  ऐसे  ही  सुर्खरू  होकर  अपने  बाप  के  सामने  आया  करती  हैं  ।   गजब  का  धैर्य  था  उनमे  ।   27  जनवरी  1859  को  उन्हें  रंगून  के  बंदीगृह  में  भेज  दिया  गया  ,  सामान्य  नागरिकों  की  तरह  उन्हें  बंदी  जीवन  भोगना  पड़ा  ।
कारावास  के  इस  जीवन  से  जफर  व्यथित  नहीं  थे  ,  वे  उसे  अपने  पापों  के  प्रायश्चित  के  रूप  में  ही  लेते  थे   । 

20 August 2016

महानता तथा सर्वप्रियता -------- पं . मदनमोहन मालवीयजी

'  मालवीयजी  धर्म  भक्त ,  देश  भक्त  और समाज - भक्त  होने  के  साथ  ही  सुधारक  भी  थे  ,  पर  उनके  सुधार  कार्यों में   अन्य   लोगों  से  कुछ  अंतर  था  |   अन्य   सुधारक  जहाँ  समाज  से  विद्रोह   और  संघर्ष  करने  लग  जाते  हैं , वहां  मालवीयजी  समाज  से  मिलकर  चलने  के  पक्षपाती थे  ।  उन्होंने   काशी  में   गंगा  तट  पर  बैठकर   चारों  वर्णों   के  लोगों   को  जिसमे   चांडाल  और  शूद्र  भी   थे    मन्त्रों  की  दीक्षा  दी l    उन्होंने  यह  कार्य  लोगों  को  समझा  - बुझाकर  और  राजी  करके  ही   दी  l
  मालवीयजी   देशभक्ति  को  साधारण  कर्तव्य  ही  नहीं  वरन  एक  परम  धर्म  मानते  थे  l   जिसके  बिना  ठाकुर जी  की  कोरी  भजन  - पूजा  या  एकांत  स्थान  में  बैठकर  मन्त्र जप  करना  निरर्थक  हो  जाता  है  ।  वे  शास्त्रों  की  इस  बात  को  कहते  थे   और  स्वयं  वैसा  आचरण  भी  करते  थे  कि----  ' बिना  दूसरों  के  कष्ट  में  सहायता  पहुंचाए  ,  बिना  नीचे  गिरे  हुओं  को   ऊपर  उठाये  धर्म  की  प्राप्ति  नहीं  हो  सकती   ।