28 April 2017

धार्मिक क्रान्ति के प्रतीक ------- भगवन परशुराम

   परशुराम  जी  जन कल्याण  के  लिए  ज्ञान  और  विग्रह  दोनों  को  ही  आवश्यक  मानते  थे   l   उनका  कहना  था  कि  नम्रता  और  ज्ञान  से  सज्जनों  को    और  प्रतिरोध   तथा  दण्ड  से  दुष्टों  को  जीता  जा  सकता  है   l 
  उनका   कहना  था  कि   क्रोध   वह  वर्जित  ( बुरा )  है    जो  स्वार्थ  या  अहंकार  की  रक्षा  के  लिए  किया  जाये   l        अन्याय  के  विरुद्ध  क्रुद्ध  होना  मानवता  का  चिन्ह  है   l
  उनके  विचारों  और  कार्यों  में  हिंसा   और  अहिंसा  का  अद्भुत  समन्वय   है  l   ऋषि  होते  हुए  भी  उन्होंने  आवश्यकता   पड़ने  पर     काँटे  से  काँटा  निकालने,  विष  से  विष  मारने  की  निति  के  अनुसार  धर्म  की  रक्षा  के  लिए    सशस्त्र  अभियान  आरम्भ   किया   l   उनका  कहना  था  ----  अनीति  ही   हिंसा  है  l   उसका  प्रतिकार  करने  के  लिए   जब  अहिंसा  समर्थ  न  हो   तो  हिंसा  भी  अपनाई  जा  सकती  है   l 

27 April 2017

WISDOM ---- सफलता

 ' परिस्थितियां  कितनी  भी   विपन्न  और  विषम  क्यों  न  बनी  रहीं  हों  ,  पर  धुन  के  धनी  लोगों  ने   जीवन  की  महत्वपूर्ण  सफलताएँ  अर्जित  कर  दिखाई  हैं   l '  जिन  व्यक्तियों  ने  अपनी  प्रसुप्त  प्रतिभा  को  उपयोगी  दिशा  में  लगाया  है  ,  उसके  सत्परिणाम  भी  उन्हें    मिले  हैं   l '
     अमेरिका    के  प्रख्यात   मनोविज्ञानवेत्ता    पादरी   नार्मन    विन्सेंट   पील   ने   बर्तन   बेचने  से  अपना  कार्य  आरंभ  किया   l  प्रारंभ  में  उन्हें    लोगों  की  उपेक्षा  - उपहास  का  शिकार  बनना  पड़ा  किन्तु    अपनी  लगन  और  निष्ठा    बल  पर  आगे  बढ़ते  गए  और  अंतत:  पादरी  बने  l
  उन्होंने  कई  ऐसी  पुस्तकें  लिखीं  जिनको  पढ़कर  जीवन  विरोधी  परिस्थितियों  से   जूझने और  सफलता  अर्जित  कर  सकने  की  प्रेरणा  मिलती  है  l  " ऐन्थूजियाज्म मेक्स  द डिफरेंस "  नामक  पुस्तक  में   उन्होंने  ग्यारह  शब्दों  का  एक  फार्मूला  सुझाया  है  ---- ' एव्री   प्रॉब्लम  कन्टेन्स   विदिन  इटसेल्फ  द  सीड्स   ऑफ  इट्स  ओन  सौलुशन  '    l ------ अर्थात  प्रत्येक    समस्या  स्वयं   में    समाधान  के   बीज  रखती  है  l  उन्हें  अंकुरित  और  विकसित  करने  की  जिम्मेदारी   मनुष्य  की  होती  है   कि  अपने  उद्देश्य  की  पूर्ति  हेतु   वह  संकल्प बद्ध  प्रयास  करे   l 

26 April 2017

WISDOM

  जर्मनी  के  सम्राट फ्रेडरिक  महान   यह  जानकर  चिंतित  हो  उठे  कि  उनके  देश  की  आर्थिक  स्थिति   निरंतर  दयनीय  होती  जा  रही  है   l   जब  राजकोष   काफी  कम  रह  गया  तो  उन्होंने  एक  दिन  अपने  राज्य  के  अधिकारियों  को  विचार - विमर्श  हेतु  बुलाया  और  पूछा  ----- " राजकोष  के  रिक्त  होने  का  कारण  क्या  है   ? "  दरबार  में  यह  प्रश्न  पूछते  ही    सन्नाटा  छा  गया   और  सभी  एक दूसरे  का  मुंह  देखने  लगे   l   उन्हों  अधिकारियों  में  उपस्थित   एक  अनुभवी  महामंत्री  ने   सम्राट  से  कहा   कि  वे  इस  प्रश्न  का  उत्तर  देने  को  तैयार  हैं  l  यह  कहकर  उन्होंने  मेज  पर  प्याले  में  रखे  बरफ  के  एक  टुकड़े  को  उठाया  और  उसे  अपने  निकट  बैठे  व्यक्ति  को  देते  हुए  कहा  ---- " इसे  आपके  पास  बैठे  हुए  व्यक्ति  को  दे   दें  l   इसे  एक  के  बाद  एक  ------ दूसरे  हाथों  में  बढ़ाते  हुए   अंतत:  सम्राट  तक  पहुँचाना  है   l   देखते  - ही - देखते  वह  बरफ  का  टुकड़ा   अनेक  हाथों  से  होता  हुआ  सम्राट  के  हाथ  में  पहुंचा  l   वहां  पहुँचने  तक  उसका  आकार   चौथाई  हो  चुका  था  l
  सम्राट  ने  पूछा ----- " बरफ  का  यह  टुकड़ा   तो  यहाँ  आते - आते  छोटा  हो  गया   है  l   इसके  माध्यम  से  आप  क्या  कहना  चाहते   हैं  ? "   वृद्ध  महामंत्री  ने  अपना  मंतव्य   स्पष्ट  करते  हुए  कहा  --- " महाराज  ! जिस  तरह  यह   बरफ  का  टुकड़ा  कई  हाथों   से  होता  हुआ   आपके    हाथों  तक  पहुँचने  में  अपने  मूल   वजन  का  चौथाई  रह  गया  ,  वैसे  ही  प्रजा  से  वसूले  गए  कर  की  राशि  कई  हाथों  से  गुजरने  के  कारण  सरकारी  कोष  तक  पहुँचते  पहुँचते  चौथाई  ही  रह  जाती  है   l  "  सम्राट  वृद्ध  महामंत्री  का  कहा  समझ  गए  और  उन्होंने  कड़े  निर्णय  लेते  हुए   भ्रष्ट  कर्मचारियों  की  छंटनी  शुरू  कर  दी  l  कुछ  ही  दिनों  में  राजकोष  में  वृद्धि  होने  लगी   l 

25 April 2017

WISDOM ----- अप्रिय सत्य न बोलें

   प्रख्यात  दार्शनिक  और  वैज्ञानिक    बर्ट्रेंड  रसेल   ने  अपनी   जीवन  गाथा   में  लिखा  है ---- ' मेरी  पहली  पत्नी  इतनी  भली  थी  कि  उसकी  स्मृति  कभी  मस्तिष्क   पर  से  उतरी  ही  नहीं  l दोनों  के  बीच  अगाध  प्रेम  था  ,  पर  एक  दिन  किसी  बात  पर  अनबन  हो  गई  l  नाराजगी  में  दफ्तर  गया  l  रास्ते  में  जो  विचार  बने  ,  उन्हें  पत्नी  को  बता  देने  में  सच्चाई  समझी   l   वापस  लौट  आया  ,  पत्नी  ने  कारण  पूछा   तो  कहा ,  " तुम्हे  बिना  छिपाए  वस्तुस्थिति  बताने  आया  हूँ   कि  अब  तुम्हारे  लिए  मेरे  मन  में  तनिक  भी  प्रेम  नहीं  रहा   l "
  पत्नी  उस  समय  तो  कुछ  नहीं  बोली  ,  पर  उसके  मन  में  यह  बात  घर  कर  गई  कि  मैं  कपटी  हूँ  ,  अब  तक  व्यर्थ  ही  प्रेम  की  दुहाई  देता  रहा   l    खाई  दिन - दिन  चौड़ी  होती  गई  l  बिना  टकराव  के  भी  उदासी  बढ़ती  गई  l  मेरे  सफाई  देने  का  भी  कुछ  असर  न  हुआ   और  परिणति  तलाक  के  रूप  में  सामने  आई   l
   अब  मैं  महसूस  करता  हूँ  कि  जीवन  में  बन  पड़ी  अनेक  भूलों  में  से  यह  एक  बहुत  बड़ी  भूल  थी  ,  जिसमे  मन  की  बात  तत्काल   उगलने  की  उतावली  अपनाई  गई  l  उस  सत्य  को  यदि  छुपाये  रहता   तो  शायद  वह  असत्य  भाषण  की  तुलना  में   हलका  पाप  होता  l  यहाँ  यह  उक्ति  याद  रखी  जानी  चाहिए कि -  ' अप्रिय  सत्य  न  बोले  '   --- यह  व्यावहारिक  शिष्टाचार  है  कि  हो  बात  जीवन  साथी  के  मन  में  चुभती  हो  ,  उसे  कहने  से  बचा  जाये   l  

23 April 2017

सरलता ------- श्रीमती ललिता शास्त्री

  स्व. प्रधानमंत्री   श्री  लाल बहादुर शास्त्री  की पत्नी   श्रीमती  ललिता  शास्त्री   ने  अपने  जीवन  के  रोचक  प्रसंग  सुनाते  हुए  बताया -------  " जब  मैं  पहली  बार  अपने  पति  के  साथ  रूस  यात्रा  के  लिए  तैयार  हुई  ,  तो  मुझे  बड़ा   डर  लग  रहा  था  l  मैं  सोच  रही  थी  कि  मैं  सीधी - सादी  भारतीय  गृहणी  हूँ  l   राजनीति  का  मुझे  ज्ञान  नहीं  ,  विदेशी  तौर - तरीकों   का  पता  नहीं  l  कहीं  मुझसे  ऐसे  प्रश्न  न  किए  जाएँ  ,  जिनका  उत्तर  मैं  ठीक  से  न  दे  पाऊं  और  तब  मेरे  पति   अथवा  देश  का  गौरव  कुछ  घटे   अथवा  उनकी  हंसी  हो   l   किन्तु  फिर  मैंने  यह  निश्चय  करके  अपना   डर  दूर  कर  लिया  कि  मैं  एक  महान  देश  के  प्रधानमंत्री  की  पत्नी  के  रूप  में   अपने  को  प्रस्तुत  नहीं  करुँगी  l  मैं  तो  सबके  सामने   अपने  को  एक  एक  साधारण  भारतीय  गृहणी  के  रूप  में  रखूंगी  l  मैंने  जाकर  अपने  को   एक  गृहणी  के  रूप  में  ही  पेश  किया   l   वहां  के  अच्छे  लोगों  ने   मुझसे  घर - गृहस्थी  के  विषय  में  ही  बातचीत  की  ,  जिसका  उत्तर  देकर  मैंने  सबको  संतुष्ट  कर  दिया   l   इस  प्रकार  मैंने  एक  बहुमूल्य  अनुभव   यह   पाया   कि   मनुष्य   वास्तव  में   जो  कुछ  है   ,  यदि  उसी  रूप  में   स्वयं  को  दूसरों  के  सामने  पेश  करे  ,  तो  उसे  कोई  असुविधा  नहीं  होती   और  उसकी  सच्ची  सरलता  उपहास  का  विषय  न  बनकर   स्नेह  और  श्रद्धा  का  विषय  बनती  है    l   "

22 April 2017

जिन्होंने अपने पति श्री जमनालाल बजाज के छोड़े हुए कार्यों को पूरा करने के लिए अपना सर्वस्व लगा दिया -------- जानकी देवी बजाज

   भारत  के  स्वाधीनता  संग्राम  के  एक  सुद्रढ़  स्तम्भ   श्री  जमनालाल  जी  बजाज  की  पत्नी   जानकी  देवी  बजाज   ने  पति  की  मृत्यु  के  बाद  ' अर्द्धांगिनी ' का  नाम  चरितार्थ करने  के  लिए   अपना  जीवन  सार्वजनिक  सेवा  के  लिए  अर्पित  कर  दिया  l  उन्होंने  अपना  कर्तव्य  इतने  प्रशंसनीय  ढंग  से   पूरा  किया  कि    वे  भारत  के  राष्ट्रीय  आन्दोलन  और  प्रगति  की  एक  मुख्य  अंग  बन  गईं  l
  जन्म  से  वे  मारवाड़ी  घराने  की   एक  अपढ़ ,  गहनों  से  लदी,  परदे  में  रहने  वाली  ,  छुआछूत  की  भावना  से  ग्रस्त    बालिका  थीं  l  उनका  विवाह   प्रसिद्ध  पूंजीपति  सेठ  श्री  जमनालाल बजाज  से  हुआ  l  जमनालाल  जी  को  देश सेवा  की  गहरी  लगन  थी   l   जब  उन्हें  सरकार  ने  ' राय बहादुर  की  उपाधि  दी  ,  उन्होंने  अपनी  पत्नी  को  पत्र    में  लिखा ----- "  सद्बुद्धि  और  स्वार्थ  रहित   सेवा  करने  की  शक्ति   प्राप्त  करने  के  लिए  ईश्वर  से  सदैव  प्रार्थना  करनी  चाहिए   l  यह  जीवन  स्वप्न  के  समान  है   l  हमारा  यह  कर्तव्य  हो  जाता  है  कि  हम  जो  कुछ  सेवा  करें  स्वार्थ रहित  होकर  करें   l "
      जमनालाल जी  के  आदेश  पर    जानकी  देवी  ने  गहने  त्यागे , घूँघट  हटाया   और  उनके  हर  कार्य  की  साथी  बन  गईं  l   इसके बाद  जानकी  देवी  ने   मारवाड़ी समाज  से  परदा- प्रथा    हटाने  का  पूरा  आन्दोलन  आरम्भ  कर  दिया   l  उनने  स्थान - स्थान  पर  महिला - मंड,ल  बनाये   ,  नारी - जागरण   का  कार्य  किया  l       उनके  द्वारा    किया  गया  एक  महत्वपूर्ण  कार्य  है ----- प्यासे  ग्रामीणों  के  लिए  कूप ( कुंए ) निर्माण  l   वे  बहनों  से  कहती  थीं  ----  कार्य  कोई  नहीं    ' सौ  तोले  की  जगह  हम  दस  तोले  के   आभूषण  पहन  लेंगी  लेकिन  कुंआं   बनायेंगी  l इससे  बड़ा   पुण्य  कार्य  कोई  नहीं   l विनोबा भावे  के  साथ  मिलकर  उन्होंने   कूप दान  के  संकल्प  कराये    ,  हजारों  तोला  सोना  एकत्र  कर    कुएं  खुदवाये ,  जिससे  सबको  पानी  मिल  सका  |                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                           

21 April 2017

WISDOM

  ' प्रबुद्ध  व्यक्तियों  के  पद - चिन्हों  का  अनुसरण  करने  का  नियम  संसार  में  सभी  जगह  है  | 
      जब  महारानी   क्षेमा   को  वैराग्य  हो  गया   और  महाराज  बिम्बसार  से  अनुमति  लेकर    वे  आत्म कल्याण    हेतु   दीक्षा  लेने  भगवान  बुद्ध  के  पास  पहुंची   |   तो  हजारों  की  संख्या  में  नर - नारी   एकत्रित    होकर   आश्रम  पहुँचने  लगे  और  दीक्षा  का  आग्रह  करने  लगे  l
  तब  भीड़  की   ओर  इशारा  करते  हुए   भगवान  बुद्ध  ने  कहा -----  क्षेमा  !  देखो  कितनी  भीड़  तुम्हारा  अनुकरण  कर  रही  है ,  जानती  हो  क्यों  ?   सामान्य  जन  के  ह्रदय  में  भी  ऐसी  ही  भक्ति  होती  है  ,  जैसी  कि  तुम्हारे  ह्रदय  में  उमड़  रही  है  l   किन्तु  इनके  पास  न  विचार  होता  है  न  विवेक  l   ये  केवल  प्रबुद्ध  व्यक्तियों  के  पद - चिन्हों  का  अनुकरण  करते  हैं   |  आज  तक   तुम्हारा  वैभव - विलास  का  जीवन  रहा ,  उसका  अनुकरण  ये  लोग  करते  रहे   l  खान - पान ,  रहन - सहन ,  व्यवहार   बर्ताव  में  इनने  वह  सब  बुराइयाँ  पाल  लीं  ,   जो  राज घरानों  में  होती  हैं  l   इस  स्थिति  में   इन्हें  छोड़कर  अकेले  तुम्हे   दीक्षा  कैसे  दी  जा  सकती  है  ?     फिर  यह  भी  आवश्यक  है  कि  इन  सब  में  भी   उसी  तरह  का  विचार - विवेक  और  वैराग्य  जाग्रत  हो  ,  जैसा  तुम्हारे  अंत:करण  में  उदित  हुआ  है   l 
  भगवान  बुद्ध   ने  कहा ----- ' क्षेमा !  तुम्हे  कुछ  दिन  जन - जन  के  बीच  रहकर  ज्ञान  दान   द्वारा  इनमे  सत्प्रवृत्तियों  का  विकास  और  समाज - कल्याण  करना  होगा ,  तब  तुम  दीक्षा  की  पात्र  बनोगी  l "
  क्षेमा  उस  दिन  से    जन - जन  में  ज्ञान  दान  के  वितरण  में  जुट  गई   l   वर्षों  तक  समाज  सेवा  के  कार्य  किये   फिर  भगवान  बुद्ध  ने  उन्हें   दीक्षा  दी  और  आत्म कल्याण  की  साधना  में  प्रवेश  कराया   l