29 September 2016

WISDOM

 किसी  का  भी  त्याग  और  बलिदान  व्यर्थ  नहीं  जाता  ।  कम  समझ  लोग  चाहे  उसके   प्रभाव  को  अनुभव  न  कर  सकें  और  अदूरदर्शी  भी  तुरंत  उसका  कोई   परिणाम  न  देखकर  उसे  व्यर्थ  बतलाने  लगें  ,  पर  तत्ववेता  इस  बात  को   अच्छी  तरह  जानते  हैं  कि  इस  जगत  में  छोटे - से - छोटे  काम  की  भी  प्रतिक्रिया  अवश्य  होती  है  ।  तब  कोई    महान   त्याग   अथवा  नि:स्वार्थ  बलिदान   व्यर्थ  चला  जाये   यह  प्रकृति  के  नियमों  के   विरुद्ध  है   ।  हमारा  कर्तव्य  है  कि    हम  सदा  शुभ  और  श्रेष्ठ  कर्मों   में  ही  अपनी  शक्ति  खर्च  करें  l  सुख  - दुःख , हांनि - लाभ  , सफलता - असफलता  का  बहुत  कुछ  आधार  तो   तत्कालीन  परिस्थितियों  पर  निर्भर  करता  है  ,  पर  हम  कुछ  कर्म  करेंगे  तो  उसका  फल   शीघ्र  या  विलम्ब  से   मिलेगा  अवश्य   । 

28 September 2016

ज्ञान क्रान्ति के अग्रदूत ----------- श्री बंकिमचन्द्र

 ' पेशे  के  रूप  में  पुस्तकें  लिखने  वाले  लेखक  बहुत  से   मिल  सकते  हैं   पर  अपने  हानि - लाभ , यश - अपयश  का  विचार  छोड़कर  समाज  को  ऊँचा  उठाने  वाले  साहित्यकार  विरले  ही  निकलते  हैं   ।  ऐसे  साहित्यकार  समाज  के  नेता  और   मार्गदर्शक  होते  हैं   और  उनका  यश   अनेक  राजनैतिक  नेताओं  की  अपेक्षा   चिरस्थायी  होता  है  ।  बंकिम  बाबू  इसी  श्रेणी  के  सच्चे  और  सेवाभावी    साहित्यिक  थे   । '
                 1857  के  गदर  के  फलस्वरूप   ईस्ट इन्डिया  कम्पनी  को  हटाकर  समस्त  शासन  भार  महारानी  विक्टोरिया  ने  अपने  हाथ  में  ले  लिया  ।  वे  एक  बड़ी  सुयोग्य  और  सह्रदय  शासक  थीं  और  भारतवर्ष  को  आधुनिक  प्रगति  के  मार्ग  पर  चलाना  चाहती  थीं  । इसलिए  यहाँ  शीघ्रता  पूर्वक  शिक्षा  का  प्रचार  किया  जा  रहा  था , प्रेस  खोले  जा  रहे  थे,   समाचार - पत्रों  का  प्रकाशन  बढ़  रहा  था  । एक  प्रकार  से  देश  में  सार्वजानिक   जागृति  का  श्री  गणेश  हुआ  । बंकिम  बाबू  ने  अनुभव  किया  कि सरकारी  नौकरी  के  कारण  किसी  सार्वजनिक  आन्दोलन  में  प्रत्यक्ष  भाग  तो  ले  नहीं  सकते ,  इसलिए  उन्होंने   सोचा  कि प्रेरणादायक  सत - साहित्य  की  रचना  करके  जन - जागृति  के  उद्देश्य  की  पूर्ति  की  जाये   ।
  उस  समय  बंगला  भाषा  की  दशा  बहुत  हीन  थी ,  बंकिम  बाबू  ने  निश्चय  किया  कि वे  अपनी  शक्ति  का  उपयोग    मातृभाषा  के  लिए  करके  उसे  सभ्य   भाषाओँ  की  पंक्ति  में  खड़े  होने  योग्य  बनायेंगे   ।  आज  बंकिमचंद्र  को  बंगला  भाषा  की  प्राण प्रतिष्ठा  करने  वाला  माना  जाता  है  ।
  साहित्य  प्रचार  के  लिए  उन्होंने  ' बंग - दर्शन ' मासिक  पात्र  प्रकाशित  किया  ,  वह  अपने  समय  का  प्रतिनिधि  मासिक  पत्र  था  ।  लोग  बंग - दर्शन  की  राह  देखा  करते  थे  । बंकिमचंद्र  उस  युग  में  कितने  प्रसिद्ध  हो  गये     थे  ,  इसका  पता  इस  बात  से  लग  सकता  है  कि  उनके  उपन्यासों, निबंधों  और  रचनाओं  के  कुछ  अंश , कुछ  पंक्तियाँ  याद  कर  लेना  और  समय  आने  पर  उनको  सुना  सकना  एक  प्रशंसनीय  बात  मानी  जाती  थी  ।  जो  लोग  उनकी  भाषा  शैली  का  प्रयोग  अपनी  रचनाओं  में  का  सकते  थे  उनको  विद्वान्  और  बुद्धिमान  माना  जाता  था  ।
बंकिम  बाबू  साहित्य - संसार  में  ' उपन्यासकार ' की  हैसियत  से  प्रसिद्ध  हुए  ,  जिस  उपन्यास  के  कारन  उनका  नाम  देशभक्तों  में  अमर  हो  गया ,  वह  है  ' आनन्द मठ '  ।   इसी  में  सबसे  पहले  वन्दे मातरम्  शब्द  और  उसका  गीत  लिखा  गया  है  ,  जिसकी  ध्वनि  से  सारा  भारत  गूंज  उठा  । 

27 September 2016

धन और पद का सदुपयोग किया --------- महारानी अहिल्याबाई

   ' जो  धैर्यवान   अपने  तथा  अपनी  प्रवृतियों  पर   नियंत्रण  कर  सकने  के  अभ्यासी  होते  हैं   वे  किसी  भी  स्थिति  में  संतुलन  बनाये  रखने  में  सफल  रहा  करते  हैं   । '
  अहिल्याबाई   एक  साधारण  ग्रामीण  कन्या  से  इन्दौर  की  युवरानी  बन  गई  थीं  ।   एक    छोटी  स्थिति  से  इतनी  बड़ी  पदवी  पर   आ  जाने  पर  भी  उनमे   जरा  भी  अभिमान  नहीं  हुआ  ।  महारानी  अहिल्याबाई  ने    अभिमान  के  स्थान  पर  उत्तरदायित्व  का  ही  अधिक  अनुभव  किया  ।
  पति  की  मृत्यु  के  बाद  साध्वी  अहिल्याबाई  अब  पुत्र  और  पुत्रवधू  दोनों  के  रूप  में  सास - ससुर  की  सेवा  में  तत्पर  हो  गईं  ।  कुछ  समय  बाद  उनके  ससुर  महाराज  मल्हार  राव  की  मृत्यु  हो  गई  ।  अहिल्याबाई  ने  यह  आघात  भी  धैर्य  से  सम्भाल  लिया  ।
   इस  आघात  से  निराश  होकर  घर  में  ही  पड़े  रहने  के  स्थान  पर   उन्होंने  अपने  पूज्य  ससुर  का  प्रतिनिधित्व  कर  उनकी  आत्मा  को  संतोष  देने  का  निश्चय  किया  ।  उन्होंने  ससुर  की  पावन  स्मृति  में   अनेक  विधवाओं , अनाथों  तथा  अपंग  लोगों  को  आश्रय  दिया   । मेधावी  तथा  प्रतिभाशाली  कितने  ही  छात्रों  के  लिए   छात्रवृति  शुरू  की  ।  ऐसे  लोग  जिनके  पास  कोई  जीविका  नहीं  थी  उन्हें  काम  पर  लगवाया  ।  निराश्रित  माताओं  और  उनके  बच्चो   के  पालन - पोषण  के  लिए  अनेक  प्रकार  के  छोटे - मोटे  काम - धन्धों  का  प्रारंभ  कर  दिया   ।
महाराज  मल्हार  राव  की   मृत्यु  के  बाद  अहिल्याबाई  का  पुत्र  मालीराव  गद्दी  पर  बैठा ,  वह  बड़ा  विलासी  था  l  एक  वर्ष  बाद  उसकी  मृत्यु  हो  गई  ।  आगे  कोई  उत्तराधिकारी  न  होने  से  इंदौर  की  बागडोर  अहिल्याबाई  ने  अपने  हाथ  में  ले  ली  ।  उन्होंने  अपने  को  कर्तव्य  की  वेदी  पर  समर्पित  कर  दिया ,  परोपकार  तथा  परमार्थ  को  अपना  ध्येय  बना  लिया  ।
उन्होंने  राज्य  भर  में  बड़ी - बड़ी  सड़कों  का  निर्माण  कराया ,  सड़क  के  किनारे  छायादार  वृक्ष  लगवाये  ।  स्थान - स्थान  पर  कुएं , अतिथिशाला   व  धर्मशाला  का  निर्माण  कराया  ।  उन्होंने  राज्य  में  न  जाने  कितने  औषधालय,  अस्पताल   व  दानशालायें  खुलवाई  ।  अनेक  पुस्तकालय , पाठशालाएं  और  वाचनालय  की  व्यवस्था  की   ।   उन्होंने  धन  और  सत्ता  के  सदुपयोग  का  एक  ऐसा  महान  आदर्श  उपस्थित  किया  जिसकी  गुण  गाथा  हमेशा  गाई  जाएगी   । 

26 September 2016

बहुबल और बुद्धिबल के धनी --------- वीर दुर्गादास

      महाराज  जसवंत  सिंह  जोधपुर  के  राजा  ही  नहीं  थे   वे   मुगल  सम्राट   औरंगजेब  के  प्रधान  सेनापति
  भी  थे  ,    अनेक  युद्धों  में  उनकी  वीरता  से    औरंगजेब    को  विजय  प्राप्त  हुई   ।  किन्तु  औरंगजेब  को  महाराज  जसवंत  सिंह   सहय  नहीं  थे  ।  उसने  धोखे  से   उनके  पुत्र  को  मरवा  दिया   l  महाराज  जसवंत  सिंह  की  म्रत्यु  के  बाद  उसने  जोधपुर  पर  कब्ज़ा  कर  लिया ,  उस  समय  महाराज  की  रानी  गर्भवती  थीं ,  समय  पाकर  उनके  पुत्र   हुआ  जिसका  नाम  अजीतसिंह  रखा  गया  ,  इससे  औरंगजेब   बड़ा  चिन्तित  हो  गया  ।
  लोभी  और  दुष्ट  के  लिए  कोई  भी  घात  अकरणीय  नहीं  होती   l   उसने  कहलवा  भेजा  कि   महाराज  जसवंत  सिंह  हमारे  वफादार  दोस्तों  में  से  थे   ,  अत:  राजकुमार  को  दिल्ली  ले   आओ  हम  उसकी  हिफाजत  व  परवरिश  करेंगे  । 
  औरंगजेब    की  इस  सहानुभूति  में  कौन  सा  घातक  मंतव्य  छिपा  है  ,  सन्देश  पाते  ही  दुर्गादास  ने  समझ  लिया  कि  नवजात  राजकुमार  को  अपने  पास  बुलाकर  औरंगजेब  अवसर  पाकर  उसे  नष्ट  कर  देना  चाहता  है   ताकि  उत्तराधिकारी  न  होने  से  जोधपुर  पर  उसका  कब्ज़ा  बना  रहे  ।
  वीर  दुर्गादास   ने  बुद्धि  से  काम  लिया  और  कहा  --- "  बादशाह  सलामत  का  ख्याल  बड़ा  नेक  है   किन्तु  रानी  का  कहना  है  की  एक  वर्ष  तक  बच्चे  को  माँ  का  दूध  जरुरी  है  ,  जब  उसका  दूध  छूट  जायेगा  तो  उसे  बादशाह  को  सौंप  देंगे   ।  "  औरंगजेब  मन  मसोस  कर  रह  गया
दुर्गादास  ने  सैनिकों  को  समझाया  कि  निश्चिन्त  होकर  रहने  की  जरुरत  नहीं  है  ,  अभी   एक    वर्ष  का  समय  है   ।  इस  अवधि  के  बाद  जब  औरंगजेब  राजकुमार  को  मांगेगा  तभी  संघर्ष  का  सूत्रपात  हो  जायेगा  ।  उसने   विचार  किया  कि ----- " इस  एक  वर्ष  के  मूल्यवान  समय  को  यों  ही  प्रमाद  अथवा  प्रतीक्षा  में  बिता  देना  बुद्धिमानी  न  होगी   ।  इसका  एक - एक  क्षण   भविष्य  की  तैयारी  में  लगाया  जाना  चाहिए  ।      जो  लोग  वर्तमान  में  ही  भविष्य  की   तैयारी  नहीं  करते   वे  अदूरदर्शी  होते  हैं   और   एक   तरह   से    जीवन - पथ  पर  असफलता  के  बीज  बोने  जैसी  भूल  करते  हैं  । 
  दुर्गादास   ने  सबको  समझाया ---- " औरंगजेब  कभी  भी  फन  मार  सकता  है   ।      अपने  कर्तव्यों  तथा  सावधानी  में  प्रमाद  करने  वाले  बड़े - बड़े  धीर - वीर  और  बुद्धिमान  व्यक्ति  भी  शत्रु  के  चंगुल  में  फंस  जाते  हैं   ।   इसलिए  हम  सबको  प्रबुद्ध  एवं  सन्नद्ध  रहकर  आते  और  जाते  हुए  समय  का  अध्ययन  करते  रहना  चाहिए  । "    ठीक  एक  वर्ष  बाद  औरंगजेब  ने   मारवाड़  पर  आक्रमण  किया   किन्तु  उसमे  वह  बुरी  तरह  पराजित  हुआ   और  मारवाड़  स्वतंत्र  हो  गया   । 

25 September 2016

वीर शिरोमणि ----------- दुर्गादास

 वीर  दुर्गादास एक  ऐसे  नायक  थे  ,  जिनका  सारा  कर्तव्य  और  सम्पूर्ण  जीवन   परमार्थ ,  परसेवा , परोपकार    एवं    राष्ट्र  हित  की  पवित्र  वेदी  पर  बलिदान  होता  रहा  ।  वे  न  राजा  थे  , न  राजकुमार ,  पर  उन्होंने  अपने  बाहुबल   और  बुद्धिबल  से  सम्पूर्ण  मारवाड़  को  स्वतंत्र  कराया  ,  मुगलों  से  तमाम  जागीरें  छीन  लीं   और  दिल्ली  के  बादशाह  औरंगजेब  को  नीचा  दिखाकर  आर्य  धर्म  की  पताका  ऊँची  कर  दी  ।
     वीर  दुर्गादास   एक    साधारण  सेनानायक  के  पुत्र  थे  ,  उन्होंने    कभी  राज्य  या  राजपद  का  लोभ  नहीं  किया  ।   घोड़े  की   पीठ  ही  उनका  निवास  एवं  विश्राम  स्थल  थी  ।  आजीवन  युद्धरत  रहते  हुए  भी  वे  अपने  उदात्त  मानवीय  चरित्र  की  रक्षा  करते  रहे  ।  उनका  युद्ध  मुगलों  के  विरुद्ध  राजपूतों  का  न  होकर  अनाचार  के  विरुद्ध  मानवता   का  संघर्ष  था  ।
  दुर्गादास  वीर  होकर  भी  विनम्र ,       योद्धा  होकर  भी  दयालु      और  सिंह  होकर  भी  साधु  पुरुष  थे   ।
 वे  विजयी  होकर  भी     निरभिमानी  और  नि:स्वार्थ  बने  रहे      ।                 

24 September 2016

देश - भक्ति

 भारत  धन - धान्य  और  स्वर्ण  से  भरा  पूरा  देश  है  ,  इस  तथ्य  से  परिचित  हो  यहाँ  की  सुख - समृद्धि  पर  डाका  डालने के  लिए  क्रमशः  यूनानी , शक , हूण,  कुषाण , पर्शियन , मुसलमान  और  अंग्रेज  आये  ।  सदियों  तक   भारत  माँ  के  लाड़ले  सपूत  अपने  देश  की ,  अपने  धर्म  की , अपनी  संस्कृति   और  जातीय  स्वाभिमान  की  रक्षा   के  लिए  इन  स्वार्थी  बर्बरों  से  लोहा  लेते  रहे    l
              जहाँगीर  के  शासन  काल  में   डॉक्टर   सर  टामस  रो    भारत  आये  थे   ।  उन्होंने  जहाँगीर  की  पुत्री  का   इलाज  किया  ,  वह  स्वस्थ  हो  गई  ।  जहाँगीर   ने   डॉक्टर  से  कहा ------ ' मुँह  माँगा  इनाम  मांग  लो   । '
  सर  टामस  रो  चाहते  तो  अपने  लिए   कोई  बड़ी  सी  जागीर  ,  ओहदा  या  लाख  करोड़  की  सम्पति   मांग  सकते  थे   और  अपनी  पीढ़ी - दर - पीढ़ी  के  लिए  शाही  वैभव  प्राप्त  कर  सकते  थे  ,  पर  उन्होंने  ऐसा  नहीं  किया   ।  सर  टामस  रो ने  जहाँगीर  से  माँगा  कि  --- " मेरे  देश  से  आने  वाले  माल  पर  आपके  राज्य  में  चुंगी  न  ली  जाये  । "  उसे   मुँह  मांगी  मुराद  मिल  गई   ।
       सर  टामस  रो  को  व्यक्तिगत  द्रष्टि  से  कुछ  नहीं  मिला  ,  पर  उनका  देश ,  इंग्लैंड    मालामाल  हो  गया   ।  जिस  देश  के  नागरिकों  में   सर  टामस  रो   जैसी  देश  भक्ति  हो   उसी  देश  को , उसी   जाति  को  उन्नति  का  गौरव  प्राप्त  होता  है   ।   अंग्रेजों  के  इसी  गुण  ने  थोड़े  से  दिनों  में  ही  उन्हें  विशाल  साम्राज्य  का  स्वामी  बना  दिया    और  इसी  गुण  को  खो  देने  के  कारण  ,  आपसी  फूट,  स्वार्थ ,  ऊँच - नीच   और  मतभेदों  के  कारण   भारत  को  दीनता ,  दासता  एवं  बर्बरता  की  यातनाएं  सहनी  पड़ीं   ।

22 September 2016

अकबर का मान - मर्दन करने वाली --------- रानी दुर्गावती

   रानी  दुर्गावती  कालिंजर  के   राजा    कीर्तिराय  की  पुत्री  थीं ,  उनका  विवाह  गोंडवाना ( मध्य प्रदेश ) के  शासक  दलपति शाह  से  हुआ  था   l  अब  से  लगभग  पांच  सौ  वर्ष  पूर्व   जब  सम्राट  अकबर  के  दबदबे  से  अनेक  बड़े - बड़े   राजा    उसके  आधीन  हो  गये  थे   ,  तब  एकमात्र  महाराणा  प्रताप  को  छोड़कर  किसी  राजा  ने  अकबर  का  सामना  करने  का  साहस  नहीं  किया   l  पर  उस  समय  नारी  होते  हुए  भी  रानी  दुर्गावती  ने  दिल्ली  सम्राट  की  विशाल  सेना  के  सामने  खड़े  होने  का  साहस  किया  और  उसे   दो   बार  पराजित  करके  पीछे  खदेड़  दिया   l
  विवाह  के  बाद  रानी  अपनी  राजधानी  ' गढ़मंडला '  में  सुखपूर्वक  रहने  लगीं   l  अकबर  ने  अपनी  साम्राज्यवादी  नीति   और  धन  व  राज्य  की  लालसा  में  गढ़मंडला  पर  आक्रमण  किया  l  उस  समय   दलपति शाह  की  मृत्यु  हो  चुकी  थी  ।   रानी  ने  अपने  सैनिकों  में  यह  भावना   भर  दी  थी  कि ' हम  धर्मयुद्ध    कर  रहे  हैं  ,  अपनी   मातृभूमि   और घरों  की  रक्षा  करना  मनुष्य  का  पवित्र  कर्तव्य  है   ।  मुग़ल  सेना  आततायी  है  ,  जो  बिना  कारण  लूटमार  के  लालच  से  हमारे  राज्य  में  घुस  आई  है  ।  इसे  मारकर  खदेड़  देना  ही   हमारा  कर्तव्य  है  । '
         दो  आक्रमणों   में  रानी  दुर्गावती  ने  शत्रु  को  अच्छी  तरह  हरा  दिया  ,   पर  न  मालूम  किस  कारण  उसकी  सेना  ने    दुश्मन  की  भागती  हुई  सेना  का  पीछा  नहीं  किया  ।  कारण  कुछ  भी  रहा  हो   पर
   शत्रु  को   आधा  कुचल  कर   छोड़  देने  से   वह  प्राय:  प्रतिशोध  की  ताक  में  रहता  है   और  फिर  से  तैयार  होकर   आक्रमण  कर  सकता  है  ।   गढ़ मंडला  के  सेनाध्यक्षों  से   यही  भूल  हुई   जिसके  फलस्वरूप  मुगल  सेना  एक  के  बाद  एक  कर  के  तीन  आक्रमण  कर  सकी   और   अंत  में  सुयोग  मिल  जाने  से  उसने  सफलता  प्राप्त  कर  ली   ।
युद्ध  में  रानी  का  एकमात्र  अल्प व्यस्क  पुत्र  वीर  नारायण  वीरगति  को  प्राप्त  हुआ  ,  अब  रानी  को  अपने  जीवन  से  मोह  नहीं  रहा  ।   वह   तीन  सौ  घुड़सवारों   के  साथ  मुगल  सेना  पर  टूट  पड़ी  ।  उसने  सैकड़ों  शत्रुओं  को  यमलोक  पहुँचा  दिया  ,  पर  अचानक  एक  तीर  उसकी  आँख  में  आकर  लगा  ,  उसने  उसे  अपने  हाथ  से  बाहर  खींच  लिया  ,  इतने  में  दूसरा  तीर  गर्दन  में  लगा  ,  इससे  उसे  असह्य  वेदना  होने  लगी   ।  उसी  समय  रानी  ने  अपने  स्वामिभक्त  मंत्री  आधार  सिंह  को  सामने  देखकर  कहा  --- " रक्त  निकलने  से  मैं  अब  अशक्त  होती  जा  रही  हूँ  ,  मैं  कभी  नहीं  चाहती  कि  शत्रु  मुझे  जीवित  अवस्था  में  छू  सकें   इसलिए  तुम  तलवार  से  मेरी  जीवन  लीला  समाप्त  कर  दो  l  "    पर  आधारसिंह  इस  बात  को  सुन  कर  काँप  उठा   और  उसने  भरे  हुए  कंठ  से  कहा  ---- ' मैं  असमर्थ  हूँ ,  मेरा  हाथ  आप  पर  नहीं  उठ  सकता   l '   रानी  जोश  में  आ  गई   और  मरते - मरते  उठकर  बैठ  गई  और  अपनी   कटार  जोर  से  अपनी  छाती  में  घुसेड़  ली  ,  दूसरे  ही  क्षण  उसकी  निर्जीव  लाश  भूमि  पर  पड़ी  दिखाई  दी  l
 इसके  बाद  मुगल  सेना  ने  वहां  नगर  में  घुसकर  बहुत  लूटमार  मचाई ,   गौंडवाना  के  गौरव  का  दीपक  सदा  के  लिए  बुझ  गया   और  वह  एक  उजाड़  नगर  के  रूप  में  शेष  रहा  ।