27 March 2017

भारतीय जीवन दर्शन के साधक -------- डॉ. सम्पूर्णानन्द

   '  किसी   भी  प्रतिष्ठित  पद  पर  पहुँचने  के  बाद  सामान्य  व्यक्ति  प्राय :  अपने  सुख - साधनों  की   अभिवृद्धि   में  ही  लग  जाता  है   परन्तु  डॉ.  साहब  इस  आदत  से  सर्वथा  परे  थे  ।  उनका  एक  ही  लक्ष्य  था ----- भारत  का  सांस्कृतिक  पुनरुत्थान  । 
  ' कोई  भी  लक्ष्य  निर्धारित  करने  वाले   मनुष्य  को  अनिवार्य  रूप  से  परिश्रमशील  तथा  सादगी  पसंद  होना  पड़ता  है  । '    डॉ. साहब   ने   इन  शर्तों  को  निष्ठां  और  उत्साहपूर्वक  पूरा  किया   ।  उच्च  प्रतिष्ठित  घराने  से  सम्बंधित  होने  पर  भी  उन्होंने  सादगी  का  वरण  किया   ।
     भारतीय  संस्कृति  के  अनन्य  पोषक  होते  हुए  भी   उन्होंने  उन  परम्पराओं  का  कभी  समर्थन  नहीं  किया   जिन्होंने  देश  और  समाज  को  अपार  हानि  पहुंचाई  थी   तथा  जिनका  आधार  केवल  अन्धविश्वास  था   ।  ब्राह्मण  और  जातिवाद  के  खिलाफ  उन्होंने  कलम  उठाई  और  जो  तर्कपूर्ण  विचार  दिए  उससे  ब्राह्मण  समाज  में  खलबली    पैदा  हो    गई   ।  उन्होंने  अपनी  पुस्तक ' ब्राह्मण  सावधान '  में  लिखा   कि  ब्राह्मणत्व  का  आधार   जन्म  और  वं  श  नहीं  ,  कर्म  और  स्वभाव  है   ।  उन्होंने  लिखा  कि----
' यह  कट्टर पन्थी  ब्राह्मणों  का  ही  प्रसाद  था  कि  तुलसी  को  काशी  के  बाहर  रहना  पड़ा   ।  और  दयानन्द  को  दम्भी  पंडितों   और  कठमुल्लाओं  की  यह  नगरी  छोडनी  पड़ी  । '
   इस  कथन  की  बड़ी  तीव्र  प्रतिक्रिया  हुई   परन्तु  उन्होंने  बड़ी  निडरता  के  साथ  अपना  मत  प्रतिपादित  किया  ।  उनकी   द्रष्टि   में  संस्कृति  और  धर्म  के  क्षेत्र  में   स्वार्थी  और   संकुचित  मनोवृति  के  लोगों  द्वारा  हस्तक्षेप  के  कारण   उत्पन्न   हुई   इन  प्रवृतियों  को  दूर  करना  आवश्यक  हो   गया  था   ।   अन्धविश्वास  का  विरोध  और  स्वस्थ  परम्पराओं    का  समर्थन  उन्होंने  अपनी   स्वयं  की   विवेक  बुद्धि  के  आधार  पर  किया   । 

26 March 2017

WISDOM ------ विचार बल से ही कोई परिवर्तन संभव है

 ' हठ  से  हठ  का  जन्म  होता  है   ।  यदि  कोई  अपने  शुभ - विचारों  को  भी   हठात  किसी  अविचारी  के  मत्थे   मढ़ना  चाहता  है   तो  उसकी  प्रतिक्रिया  के  फलस्वरूप   वह  अपने  अविचार  के  प्रति  ही  दुराग्रही  हो  जाता  है   । '
  मनुष्य    अपने  संस्कारों  के  प्रति   बड़ा  दुराग्रही  होता  है  ।  बुरे  से  बुरे  अनुपयोगी  तथा  अहितकर  संस्कारों  के  स्थान  पर   वह  शुभ   एवं  समय  सम्मत   संस्कारों  को  आसानी  से  सहन  नहीं  कर  पाता  ।   प्राचीनता  के  प्रति   अनुरोध    और    अर्वाचीन  के  प्रति  विरोध  उसका  सहज  स्वभाव  बन  जाता  है   ।
    समाज  में  इस  प्रकार  के   प्राचीन  संस्कार  रखने  वाले  लोगों  की  कमी  नहीं   होती  और  वे  उनके  प्रति   किसी  सुधार  का    सन्देश  सुनते  ही    अनायास  ही  संगठित  होकर   नवीनता   के  विरुद्ध  खड़े  हो  जाते  हैं   ।  ऐसे  अवसरों  पर   यदि  किसी  शक्ति  का  सहारा  लेकर   उन्हें  नवीन  संस्कारों  में  दीक्षित  करने   का  प्रयत्न  किया  जाता  है    तो  एक  संघर्ष  या  निरर्थक  टकराव  की  स्थिति  पैदा  हो  जाती  है   जिससे  समाज  अथवा  राष्ट्र   शक्तिशाली  होने  के  स्थान  पर   निर्बल  ही  अधिक  बन  जाता  है   ।   इसलिए  समझदार  समाज - सुधारक  विचार  बल  से  ही  किसी  परिवर्तन  को    लाने  का  प्रयत्न  किया  करते  हैं   ।
    किसी  शक्ति  का  सहारा  लेने  की  अपेक्षा   अपने  उन  विचारों  को  ही  तेजस्वी  बनाना  ठीक  होता  है    जिनको  कोई   हितकर  समझ  कर   समाज  या  व्यक्ति  में  समावेश  करना  चाहता  है   ।  जिनका  आचरण  शुद्ध  होगा ,   जिनके  विचार  तेजस्वी  होंगे ,   उन्हें  हर  कोई   स्वीकार   करने  को  तत्पर  होगा   । 

24 March 2017

शौर्य और पराक्रम के प्रतीक ------- ज्योतिन्द्र नाथ मुखर्जी

 ' अनाचारी  पागलपन  की  हरकतों  को  चुपचाप  सहते  रहने  से  उसकी   उन्मतता   भड़कती  है  ।  इन  कृत्यों  के  प्रति  उदासीनता  आग  में  घी  का  काम  करती  है  ।  '   जतीन ( ज्योतिन्द्र  नाथ मुखर्जी ) इस  तथ्य  को   बहुत  अच्छी  तरह  समझते  थे  इसी  कारण  उन्होंने   अपनी  आँखों  के  सामने   कभी  न  होने   योग्य  काम  नहीं  होने  दिया   ।   शरीर  बल  और  सामर्थ्य  की   सार्थकता  भी  यही  है   ।
  दुर्बल  और  पीड़ित  व्यक्ति  की  आततायी  से  रक्षा  करना  ही  शक्तिशाली  का  धर्म  है   ।  यह  निष्ठा   उसके  व्यक्तित्व  में   चार  चाँद  लगा  देती  है  । 
  1905  की  बात  है  ,  प्रिंस  आफ  वेल्स  उन  दिनों  भारत  आये  हुए  थे  ।  कलकत्ता  में  उनकी  सवारी  निकलने  जा  रही  थी  l  हजारों  नर - नारी  फुट पाथ  पर   जमा थे  ।  एक  गली  के  नुक्कड़  पर  एक  बग्घी  खड़ी  थी  जिसमे  कुछ   महिलाएं  थीं   ।  उन  औरतों  को  परेशान  करने  के  लिए  कुछ  गोरे  युवक  बग्घी  की  छत  पर  चढ़  गए   और  औरतों  के  मुंह  के  सामने  पैर  लटकाकर  बैठ  गए  और  सीटी  बजाने    लगे  ।  जतिन  वहीँ  पास में  खड़े  थे  उनसे  महिलाओं  का  यह  अपमान  देखा  नहीं  गया   । जतिन  ने  उन  युवकों  की  खूब  पिटाई  की ,    आखिर  वे  युवक  मुंह  छिपाकर  भाग  गए  ।  ऐसी  अनगिनत  घटनाएँ  हैं  जो  जतिन  के  स्वाभिमानी  व्यक्तित्व  से  परिचित  कराती  हैं    ।  स्वामी  विवेकानन्द  से  प्रेरणा  और  प्रोत्साहन  पाकर   वे  राष्ट्रीय  आन्दोलन  की  गतिविधियों  में  भाग  लेने  लगे   । 

23 March 2017

महत्व व्यक्ति को नहीं आदर्शों को देना श्रेयस्कर है -------- सरदार भगतसिंह

  ' उनका  आदर्श  देशप्रेम  की  अग्नि  को  जन - जन  के  ह्रदय  में   प्रज्ज्वलित  करना  था  | '
ऐसेम्बली  में  बम  विस्फोट  के  बाद   वे  चाहते  तो   अपने  साथियों  सहित  बाहर  निकल  कर  भाग  सकते  थे  ,  इसके  लिए  प्रबंध  भी  पहले  से  ही  किया  जा  चुका  था  ।  लेकिन  भगतसिंह  भागने  के  लिए  नहीं  आये  थे  ,  उनका  उद्देश्य  ज लिए  उनका  बंदी  होना   नता  में  राष्ट्रीय  भावना  उत्पन्न  करना  था  ।   यह  भावना  जगाने   के  लिए   उनका  बन्दी  होना  आवश्यक  था   ताकि  न्यायालय  के  सम्मुख  वे   अपने  मन  की  बात   कह   सकें  ।  उनके  बन्दी  हो  जाने  से   नवजागरण  की  लहर  उठने  लगी  ।  जेल  में  इन  देश भक्तों  को  अमानुषिक  यंत्रणा   दी  गई   ।  राष्ट्र  की  स्वतंत्रता  के  आदर्श  के  सम्मुख  यह  यंत्रणा  नगण्य  थी  ,  मनुष्य  को  दुःख  और  कष्टों  की  अनुभूति  अपनी  भावनाओं  से  होती  है  ,  उन्हें  इस  यंत्रणा  में  भी  अदभुत  सुख  मिल  रहा  था   ।  
  अन्य  क्रांतिकारियों   ने   उन्हें  जेल  से  मुक्त    कराने  का  संकल्प  किया    लेकिन  भगतसिंह  ने  मना  कर  दिया  ,  जब  उनसे  इस  मनाही  का  कारण  पूछा  गया   तो  उन्होंने  कहा ----
              - " हम  जिस  उद्देश्य  को  लेकर  क्रान्ति  के  पथ  पर  आये  हैं   वह  इसकी   आज्ञा   नहीं  देता  ।   हम  तो  अपना   कफन  अपने  ही  सिर  पर  बाँध  कर  निकले  हैं   ।  महत्ता    व्यक्ति  की  नहीं  इस  आदर्श  की  है   ।  हमें  ही  श्रेय  मिले   या  हमसे  ही  क्रान्ति  होगी  -- देश  स्वतंत्र  होगा    यह  तो  हम  लोग  नहीं  सोचते  किन्तु  यह  कार्य  हमें   ऐसा  ही  सिद्ध  करेगा   ।  हमारे  बलिदान  से  हमारे  आदर्श  को  बल  मिलेगा    तो  कल  इसी  जन समुदाय  में  से   सहस्त्रों  भगतसिंह  पैदा  हो  जायेंगे    तथा  भारत  स्वाधीन  होकर  रहेगा        क्रांति द्रष्टा  भगतसिंह   के   इन  शब्दों  में   जो   सत्य  छिपा  है  उसे  काल  की  परिधि  में  नहीं  बाँधा  जा  सकता   ।  

22 March 2017

राष्ट्रीयता का उपासक -------- सम्राट समुद्रगुप्त

 जिसका  आचरण  शुद्ध ,  चरित्र  उज्जवल  और  मन्तव्य  नि:स्वार्थ  है   उसके  विचार  तेजस्वी  होंगे  ही  ,  जिन्हें  क्या  साधारण  और  क्या  असाधारण  कोई  भी  व्यक्ति  स्वीकार  करने  के  लिए  सदैव  तत्पर  रहेगा 
                गुप्त वंश    के  सबसे  यशस्वी  सम्राट  समुद्रगुप्त  ने    लुप्त  होती  महान  वैदिक  परम्पराओं  की  पुनर्स्थापना  की ,  उनमे  से  एक  अश्वमेध  यज्ञ  भी  था   l   इसके  आयोजन  में  उसका  उद्देश्य  यश  व  विजय  नहीं  था  l  समुद्रगुप्त  का  उद्देश्य  था  ---- भारत  में  फैले  हुए  अनेक  छोटे - छोटे  राज्यों   को  एक  सूत्र  में  बांधकर  एक  छत्र  कर  देना  था  ,  जिससे  भारत  एक  अजेय  शक्ति  बन  जाये  l
  इस  दिग्विजय  में  समुद्रगुप्त  ने   केवल  उन्ही  राजाओं  का  राज्य  गुप्त  साम्राज्य  में  मिला  लिया  ,  जिन्होंने  बहुत   समझाने  पर  भी  समुद्रगुप्त  के  राष्ट्रीय  उद्देश्य  के  प्रति  विरोध  प्रदर्शित  किया  l  अन्यथा  उसने  अधिकतर  राजाओं  को  रणभूमि  तथा  न्याय  व्यवस्था  के  आधार  पर  ही  एकछत्र  किया  था  l  अपने  विजय  अभियान  में  सम्राट  समुद्रगुप्त  ने  न  तो  किसी  राजा  का  अपमान  किया   और  न  ही   उसकी   प्रजा  को    कोई  कष्ट  दिया  ।   l  क्योंकि  वह  जानता  था ---  शक्ति - बल  पर  किया  हुआ  संगठन  क्षणिक  एवं  अस्थिर  होता  है  l  शक्ति  तथा  दण्ड  के  भय  से   लोग  संगठन  में  शामिल  हो  तो  जाते  हैं    किन्तु  सच्ची  सहानुभूति  न  होने  से   उनका  ह्रदय  विद्रोह  से  भरा  ही  रहता  है   और  समय  पाकर  वह   विघटन  के  रूप  में  प्रस्फुटित  होकर   शुभ  कार्य  में  अमंगल  उत्प्न  कर  देता  है  l 
    सम्राट   समुद्रगुप्त  ने  अपने  प्रयास  बल  पर  सैकड़ों  भागों  में  विभक्त  भारत - भूमि  को  एक  छत्र  करके  वैदिक  रीति  से   अश्वमेध यज्ञ  का  आयोजन  किया   जो  बिना  किसी  विध्न  के  पूर्ण  हुआ   ।
  यह  समुद्रगुप्त  के  संयम पूर्ण  चरित्र  का  ही  बल  था   कि  इतने  विशाल  साम्राज्य  का  एकछत्र    स्वामी   होने  पर  भी   उसका  ध्यान   भोग - विलास  की  ओर  जाने  के  बजाय  प्रजा  के  कल्याण  की  ओर  गया  । 

21 March 2017

WISDOM

  सत्ता  का  नशा  संसार  की   सौ  मदिराओं  से  भी  अधिक  होता  है   ।   उसकी  बेहोशी  सँभालने  में   एकमात्र  आध्यात्मिक  द्रष्टिकोण  ही  समर्थ  हो  सकता  है   ।  अन्यथा  भौतिक  भोग  का  द्रष्टिकोण  रखने  वाले  असंख्य   सत्ताधारी   संसार  में   पानी  के  बुलबुलों  की  तरह  उठते  और  मिटते  रहें  हैं  । 

20 March 2017

धर्म का सच्चा स्वरुप सिखाया ------- महामना मालवीय जी

   पं. मदनमोहन  मालवीय   सनातन  धर्म  के  साकार  रूप  थे   ।   उनका  कथन  था ----- " धर्म  वह  शक्तिशाली  तत्व  है   जिसको  अपनाने  से  बड़े  से  बड़े  पतित  ह्रदय  का  अनुराग  भी   महामना  बन  सकता  है  ।   मुझे  अपने  धर्म  पर   अनन्त  श्रद्धा  है   ।  धर्म  मेरा  जीवन  और  प्राण  है   ।  "
        पं. मदनमोहन  मालवीय   एक  पूर्ण  धार्मिक  व्यक्ति  थे    किन्तु  उनकी  धार्मिक  भावना  में    द्वेष  नहीं  था  , प्रेम  की  प्रधानता  थी  ।  वे  पोंगापंथी  धार्मिक  नहीं  थे  ,  उनके  धर्म  में   सत्य  और  संयम  का  समन्वय  रहता  था   । 
  किसी   गरीब  को  देखकर  उनका  ह्रदय  करुणा  से  भर  जाता  था   और  वे  उसकी   यथा संभव  सहायता  किया  करते  थे   ।   महामना  का  मानवता मय  व्यक्तित्व   धर्म  की  उदात्त  पृष्ठभूमि  पर  विकसित  हुआ  था   ।  नित्य  प्रति  की  पूजा- पाठ   करना   मालवीयजी  की  दिनचर्या  का  एक  विशेष   अंग  था   l  जब  तक  वे  नियमित  रूप  से  पूजा  न  कर  लेते  थे   जीवन  के  नए  दिन  का   कोई  कार्य  प्रारम्भ  नहीं  करते  थे   किन्तु   मानवता  की  सेवा  करना   वे  व्यक्तिगत  पूजा - उपासना  से  भी  अधिक  बड़ा  धर्म  समझते  थे   l 
                      इसका  प्रमाण   उन्होंने     उस  समय  दिया    जबकि  एक  बार  प्रयाग   में    प्लेग  फैला  ,  नर - नारी   कीड़े - मकोड़े  की  तरह  मरने  लगे  | मित्र , पड़ौसी,  सगे - सम्बन्धी  तक  एक - दूसरे  को  असहाय  अवस्था  में  छोड़कर  भागने  लगे  थे  | किन्तु  मानवता  के  सच्चे  पुजारी  श्री  महामना  ही  थे  जिन्होंने  उस  कठिन  समय  में  अपने  जीवन  के  सारे  प्राण प्रिय  कार्यक्रम और  कर्मकाण्ड  छोड़कर  मानवता  की  सेवा  में  अपने  जीवन  को  दांव  पर  लगा  दिया  | वे  घर - घर , गली - गली  दवाओं  और  स्वयंसेवकों  को  लिए  हुए  दिन - रात  घूमते  रहते  थे  ,  रोगियों  के  घर  जाते ,  उन्हें  दवा  देते , सेवा  करते ,  उनके  मल - मूत्र  साफ  करते  और  अपने  हाथों  से  उनके  निवास  स्थान  और  कपड़ों  को  धोते  थे   |  अपने  इस  सेवा  कार्य  में  वे  नहाना - धोना , पूजा - पाठ,  खाना - पीना  सब  कुछ  भूल  गए  |
  मालवीय  जी  स्वयंसेवकों  से  अन्य  काम  तो  लेते  थे   किन्तु  उन्हें  रोगियों  के  पास  नहीं  जाने  देते  थे  और  स्वयं  ही  रोगियों  का  मलमूत्र  साफ  करते  थे  |  जब  स्वयंसेवक  इस  सम्बन्ध  में  कुछ  कहते  तो  मालवीयजी  का  उत्तर  होता  कि----- मैं  अपने  सेवा कार्य  में  किसी  का  साझा  नहीं  करना  चाहता   और   मेरे  ह्रदय  में   इस  त्रस्त  मानवता  के  लिए  इतनी  तीव्र  आग  जल  रही  है  कि  मेरे  पास  इस  रोग  के  कीटाणु  आकर  स्वयं  भस्म  हो  जायेंगे    और  यदि  इनकी  सेवा  करता  हुआ  मैं  स्वयं  मर  जाऊं   तो  भी  अपने  मानव  जीवन  को  धन्य  समझूंगा  |
  ऐसी  थी  उनकी  सेवा  भावना   जिसके  लिए  वे  अपना  तन - मन - धन  सब  कुछ  न्योछावर  करते  रहते  थे   |  उनके  धर्म  का  ध्येय  मोक्ष  अथवा  निर्वाण  न  होकर  मानवता  की  सेवा  मात्र  था  |