23 July 2017

WISDOM ----

 '  जो  राष्ट्र  केवल  अपने  समय  में  वर्तमान  में  ही  जीता  है ,  वह  सदा  दीन  होता  है ,  यथार्थ  में  समुन्नत  वही  होता  है  जो  अपने  अतीत  से  शिक्षा  लेकर   अपने  आपको   भविष्य  की  संभावनाओं  के  साथ   जोड़कर  रखता  है  l '
  सिकंदर  के  समय  ( ई. पू. चौथी  सदी )  यूरोप  में  भारत और  भारतीय  संस्कृति  का  नाम  काफी  प्रसिद्ध  था  l  वहां  के  लोग  जानते  थे  कि  भारत  धन  और  ज्ञान  का  भंडार  है  l  इसी  प्रसिद्धि  ने  सिकंदर  को  भारत  की  ओर  बढ़ने  की  प्रेरणा  दी   और  इसी  कारण  वास्कोडिगामा  भारत  पहुंचा  l  ईस्ट इंडिया  कम्पनी  की  स्थापना  1600 ई.  में  हुई  l  अंग्रेज  भारत  में  मुख्यतः व्यापार  के  लिए  आये  थे   l  आरम्भ  में  राज्य - स्थापना  अथवा  धर्म  प्रचार  उनका  उद्देश्य  नहीं  था  , परन्तु  भारत  की  दयनीय  दुरवस्था  के  कारण    वे  हमारी  सभ्यता  की  छाती  पर  डटे  रहे   l  इसकी  विवेचना  अमेरिकी  दार्शनिक  विल ड्युरो  के  विचारों  में  झलकती  है  ------ "  जिस  जाति  और  सभ्यता  में  अपना  शासन  स्वयं  चलाने  की  शक्ति  नहीं  रहती ,  जो   जाति  अपने   धन - जन  का  स्वयं  विकास  नहीं  कर  सकती   और  जिस  देश  का   एक  प्रान्त  दूसरे  प्रान्त  को   तथा  एक   जाति  दूसरी  जाति  को   बराबर  का  दरजा  देने  को  खुद  तैयार  नहीं  होती  ,  वह  जाति  और  देश  उन  लोगों  का  गुलाम  होकर  रहता  है  ,  जिन्हें  लोभ  की  बीमारी  और  शक्तिमत्ता   का  रोग  है  l "

जिन्होंने पत्रकारिता के माध्यम से देश को जगाया ----- सूफी अम्बा प्रसाद

'  साधन  तथा  प्रभुत्व  अपने  आप  में  महान  नहीं   वरन  इनका  सदुपयोग  कर  के  ही  इन्हें  महत्ता  दिलाई  जा  सकती   है  l  मनुष्य  की  प्रतिभा  तथा  योग्यता  की  भी  यही  स्थिति  है   l  सदुपयोग  एक  आवश्यक  शर्त  है   l  '   सूफी  अम्बा  प्रसाद  ने  अपनी  लेखनी  का  उपयोग  एक  महान  प्रयोजन  के  लिए  किया   l
     उन्होंने  देखा  कि भारतवासी  इतने  अत्याचार   सहते   हैं   फिर  भी  चुप   रहते  हैं     इसलिए  उन्होंने  भारतवासियों  को  जगाने  के  लिए  पत्रकारिता  को   चुना  और ' पेशवा '  समाचार  पत्र  के  माध्यम  से  वह  हवा  बहाई  कि  उससे  चिनगारियाँ  दावानल  बनने  लगीं   l  ' पेशवा ' के  माध्यम  से  इन  क्रान्तिकारियों  की  आवाज   जन - जन  के  अन्दर  सोई  हुई  मर्दानगी , आदर्शवादिता  तथा  राष्ट्र प्रेम  जगा  रही  थी   l 

21 July 2017

इतालवी - भाषा के जनक ------ महाकवि दांते

 सद्विचार  और  सत्कर्मों  का    जोड़   होना  बहुत  आवश्यक  है   l  विचारों  की  शक्ति  जब  तक  कर्म   में  अभिव्यक्त  नहीं  होती   उसका  पूरा  लाभ  नहीं  होता  l  महाकवि  दांते  ने  विचार  और  कर्म  दोनों  में  ही  अपनी   गति  प्रमाणित  की  l  इसी  कारण  वे  अपने  अमर  महाकाव्य  'डिवाइन कॉमेडी '  की  रचना  में  सफल  हुए  l 
  दांते का   जन्म  अभिजात्य  वर्ग  में  हुआ  था   किन्तु  वे  उन  सब  दोषों  से  मुक्त  थे   जो  सम्पन्नता  के  मिथ्याभिमान   के  कारण   पैदा  हो  जाते  हैं   l    युवावस्था  में  ही  उन्होंने   अपनी  उस  कवित्व  शक्ति का
जिसे  वे  ईश्वरीय  वरदान  मानते  थे  , लोक हित  में  सदुपयोग  करना  आरम्भ  कर  दिया  l   जिस  प्रकार  भारत  में  संत  तुलसीदास  ने   रामचरितमानस  को  संस्कृत  में  न  लिखकर  जनता  की  भाषा  ' अवधी '  में    लिखा  ,  उसी  प्रकार  महाकवि  दांते  ने   इस  महाकाव्य  की  रचना    इटली  के  पंडितों  की  भाषा  लैटिन  में  न  कर  के    सामान्य  जन  की  भाषा में    की  '                                                                                                                                                                                                                                                                                                            

20 July 2017

देश - सेवा के लिए जीवन समर्पित -------- महादेव गोविन्द रानाडे

  '  संसार  में  गुणों  की  ही  पूजा  होती  है  l  सच्चा  और  स्थायी  बड़प्पन   उन्ही  महापुरुषों  को  प्राप्त  होता  है   जो  दूसरों  के  लिए   निष्काम  भाव  से  परिश्रम  और  कष्ट  सहन  करते  हैं   l '
  बहुत   से  लोग  रानाडे  को  एक  विद्वान  समाज सुधारक   और  न्यायमूर्ति  जज  के  रूप  में  ही  जानते  हैं  l पर  यह  उनकी  अनोखी  प्रतिभा  थी   कि  हाई   कोर्ट के   जज  जैसे  उच्च  सरकारी  पद  पर   काम  करते    हुए  भी   उन्होंने  भारत    के    राजनीतिक  क्षेत्र  में  अपना  चिर स्मरणीय  स्थान  बना  लिया  l  वे  श्री  तिलक  और  गोखले  दोनों  के  राजनीतिक  गुरु  थे   l   लोकमान्य  तिलक  ने  उनका  स्वर्गवास   होने  पर   अपने  ' मराठा  पत्र '  में  श्रद्धांजलि  देते  हुए  लिखा  था ---- " श्री  रानाडे  के  समान  महापुरुष - रत्न  की  मृत्यु  से  भारत  की  जो  हानि  हुई  है  ,  उसका  ठीक - ठीक  अनुमान  करना  कठिन  है  l  वे  अद्वितीय  वक्ता  थे  ,  श्रेष्ठ  ग्रन्थकार  थे  , प्रभावशाली  समाज सुधारक   और  प्रसिद्ध  पंडित  थे   l  उनकी  राजनीतिक  विवेचना  महत्वपूर्ण  हुआ  करती  थीं   l  वे  पारदर्शी  विद्वान  और  जनता  से  सच्ची  सहानुभूति  रखने  वाले  एक  पवित्र  देशभक्त  थे  l  यदि  वे  अंग्रेज  होते  तो  ब्रिटिश  मंत्रिमंडल  में  एक  बहुत  ऊँचा  पद  प्राप्त  कर  लेते  l उन्होंने  अनेक  जन कल्याणकारी  संस्थाएं  स्थापित  कीं  और  अनेक   राष्ट्रीय    कार्यकर्ताओं  को  तैयार
 किया  l "  
 भारत  के  राष्ट्रीय  आन्दोलन  के  इतिहास  में   ह्यूम  साहब  को  कांग्रेस  का  जन्म दाता  माना  गया  है ,  पर  जानकार  लोगों  का  कहना  है  कि  उनको  इसकी  सर्वप्रथम  प्रेरणा  देने  वाले    रानाडे  ही  थे  l   ह्युम  साहब  भी  रानाडे  को   '  गुरु  महादेव '  कह  कर  पुकारते  थे  l   

19 July 2017

WISDOM ---- आध्यात्मिक बनने का मतलब है --- मन - कर्म - वचन से पवित्र बनना

    अध्यात्म  में  जिन  तत्वों  को  प्रधानता  दी  जाती  है   वह  हैं --- अन्त:करण  की  पवित्रता  और  मन  की  एकाग्रता  l  ये  दोनों  एक  दूसरे  की  पूरक  हैं   लेकिन  इनमे  श्रेष्ठ  और  सर्वोपरि  " पवित्रता "  है  l  
 मानसिक  एकाग्रता  से   शक्तियां  तो  जरुर  मिलती  हैं  ,  पर  जहाँ  पवित्र  ह्रदय  वाला  व्यक्ति  अपने  ध्येय  में  जुटा  रहता    वहीँ  अपवित्र  ह्रदय  वाले   उनका  उलटा  सीधा  उपयोग  करने  लगते  हैं  l  उनके  लिए  इन  शक्तियों  का  मिलना  बन्दर  के  हाथ  में  तलवार  जैसा  है  l
    रशियन  गुह्यवेत्ता    रासपुटिन  ठीक  ऐसा  ही  व्यक्ति  था  l  उसने  पवित्रता  अर्जित  करने  की  परवाह  किये  बिना  तरह - तरह  की  साधनाएं  की   पर  अन्त:करण  की  शुद्धि  के  अभाव   के  कारण  उसने  सारे  काम  गलत  किये  l    जार  तथा  उसकी  पत्नी  को  भी  प्रभावित  किया  किन्तु  गलत  कामों  के  कारण  उसे  जहर  दिया  गया , गोलियां  मारी  गईं  l  गले  में  पत्थर  बांधकर  वोल्गा  में  फेंका  गया  l   जबकि  महर्षि  रमण ,  संत  गुरजिएफ  आदि  अनेक  महान  संत  अपनी  पवित्रता  के  कारण  जन - जन  के  श्रद्धा  पात्र  बने      महत्वपूर्ण  शक्ति  का  अर्जन  नहीं ,   वरन  उसका  उपयोग  है  l  एक  ही  शक्ति  बुरे  व  भले  अंत:करण   के  अनुसार  अपना  प्रभाव  दिखलाती  है   l 
एकाग्रता   तो  हिटलर  के  पास  भी  थी  l   इससे  उपार्जित  अपनी  मानसिक  शक्तियों  के  कारण  उसने   जर्मन  जैसी  बुद्धिमान  जाति  को  भी  गुमराह  कर  दिया  l  उसने  सम्मोहन  जैसी  स्थिति  उत्पन्न  कर
 दी  l  जर्मनी  की  पराजय  के  बाद   वहां  के  बुद्धिमान  प्राध्यापकों  ने  अंतर्राष्ट्रीय  अदालत  में   दिए  गए  अपने  बयान  में  कहा  कि  हम  सोच  भी  नहीं  पाते  कि  हमने  यह  सब  कैसे  किया  l
  सभी  ने  ह्रदय  की  पवित्रता  को  अनिवार्य  बताया  है  l 

18 July 2017

अभिनव भारत के पितामह -------- दादाभाई नौरोजी

 दादाभाई  नौरोजी  को  भारतीय  स्वाधीनता  के  जनक ,  भारत  के  वयोवृद्ध  महापुरुष  आदि  आदर सूचक  संबोधनों  से  स्मरण  किया  जाता  है   l  ब्रिटिश  संसद  के  सदस्य  हो  जाने  पर  उन्होंने  भारत  के  हित  के  लिए  अपनी  सम्पूर्ण  शक्ति  लगा  दी   l  उन्हें  भारतीयों  ने  जितना  सम्मान  दिया  उतना  ही  अंग्रेजों  ने  भी  दिया   l  इसका  प्रमाण  इंग्लैंड  के  श्री  वर्डउड  के  उस  पात्र  से  हो  जाता  है   जो  नुन्होने  ' टाइम्स  आफ  इंडिया '  के  लन्दन  स्थित  प्रतिनिधि  को  लिखा  था  ------ "  दादाभाई  नौरोजी  उन  लोगों  में  से  थे  जिनको  किसी  भी  विषय  का   ज्ञान  सम्पूर्ण  होता  है  और  जो  तब  तक  जीवित  रह  सकते  हैं   जब  तक  जीवन  की  आकांक्षा  का   स्वयं  ही  त्याग  न  कर  दें   l वे    हर  बात  को  गंभीर  ढंग  से  रूचि पूर्वक  किया  करते  थे  l   उनके  साथ  बात  करने  पर  ऐसा लगता  था   कि  मृत्यु  हो  जाने  पर  भी  दादाभाई  नहीं  मरेंगे  ,  केवल  उनका  पार्थिव  शरीर  ही  मरेगा  l  वे  सदा  के  लिए  अजर - अमर  ही  रहेंगे   l  "

17 July 2017

अंध परम्पराओं का निराकरण ------- स्वामी दयानन्द सरस्वती

  स्वामीजी  ने  कहा  था ----" वर्तमान  आर्य  सन्तान  हमें  चाहे  जो  कहे   परन्तु  भारत  की  भावी  संतति   हमारे  धर्म  सुधार  को  और  हमारे  जातीय  संस्कार  को  अवश्यमेव महत्व  की  द्रष्टि  से  देखेगी   l हम  लोगों  की  आत्मिक  और  मानसिक  निरोगता  के  लिए  जो  कुरीतियों  का  खंडन  करते  हैं  वह  सब  कुछ   हित  भावना  से  किया  जाता  है  l  "
    स्वामीजी  का   यह  कथन   आज  एक ' भविष्यवाणी ' की  तरह  यथार्थ   सिद्ध    रहा  है   l   उनके  प्रचार  कार्य    के   आरंभिक  वर्षों   में    आर्य   समाज  की  स्थापना  होते  समय   उनके  विरोध  और  आक्षेपों    जो  तूफान  उठा  था   आज  उसका  चिन्ह    भी  नहीं   है  l   आज  हिन्दू  - समाज  में   केवल  थोड़े  से  पुराने  ढर्रे
के  पंडा - पुजारियों  को  छोड़कर  कोई  स्वामीजी  के  कार्यों  को   बुरा  कहने  वाला  न  मिलेगा  l  आज  के  समय  में  जब  लोगों  के  जीवन  में  व्यस्तता  अधिक  है , अवकाश  की  समस्या  है ,  परिवहन  कठिन  और  खर्चीला  है   तो  लोग  मृत्यु भोज  जैसे  विशाल  खर्चे  के  स्थान  पर   ' शुद्धता '  ' तेरहवीं '   श्राद्ध  -  आर्य - समाजी  विधि  से  कम  खर्च  व  कम  समय  में  संपन्न  कर  देते  हैं  l
  अन्य  देशों  के  निष्पक्ष  विद्वान  भी   स्वामीजी  के  लिए  ' हिन्दू  जाति  के  रक्षक '    ' हिन्दुओं  को  जगाने  वाले '  आदि  प्रशंसनीय  विशेषण  का  प्रयोग  करते  हैं   l   वास्तव  में  स्वामीजी  उन  महापुरुषों  में  से  थे   जो  किसी  जाति  की  अवनति  होने  पर   उसके  उद्धार  के  लिए  जन्म  लिया  करते  हैं  ,  वे  जो  कुछ  करते  हैं  मानव   मात्र  की   कल्याण   भावना  से  होता  है   l 
 अलीगढ़   में  मुसलमानों  के  सबसे  बड़े  नेता सर सैयद  अहमद  खां  स्वामीजी  से  भेंट  करने  कई  बार  गए  l   उन्होंने    कहा --- " स्वामीजी  आपकी  अन्य  बातें  तो  युक्ति युक्त  जान  पड़ती  हैं  ,   लेकिन  थोड़े  से  हवन  से   वायु  में  सुधार  हो  जाता  है    युक्ति संगत  नहीं  जान  पड़ती   l "
स्वामीजी  ने  समझाया ---" जैसे   छह - सात  सेर  दाल  को  माशा  भर  हींग  से  छोंक  दिया  जाता  है  तो  इतनी  सी   हींग  पचास  आदमियों   के  लिए  दाल  को  सुगन्धित  बना  देती  है  l  उसी  प्रकार  थोड़ा  सा  हवन  भी   वायु  को  सुगन्धित  बना  देता  है  l स्वामीजी  के  तर्क  से  सभी  श्रोता  प्रभावित  हुए   और  सर  सैयद  उनकी  स्तुति  करते  हुए  अपने  घर  गए   l
इसी  तरह  उन्होंने  बताया  कि  भारत  में   दूध , दही , घी  को  आहार  सामग्री  का  सर्वोत्तम  अंग  माना  जाता  है   l  अत:  जो  लोग  उत्तम  और  उपयोगी  दूध  देने  वाले   पशुओं  के  विनाश  का  कारण  बनते  हैं  ,  वे  निस्संदेह  समाज  के   बहुत  बड़े  अनीति करता  माने  जाने  चाहिए   l
 " भारत  पर  स्वामीजी  के  महान  ऋण  हैं  l  अपने  छोटे  से  जीवन  में   उन्होंने  देश  के  एक  कोने  से  दूसरे  कोने  तक   फैले  हुए  ' पाखण्ड  और  कुप्रथाओं ' का  निराकरण  कर  के  वैदिक  धर्म  का  नाद  बजाया   l