18 January 2017

भारतीय महापुरुषों के इतिहास में उज्ज्वल नक्षत्र की तरह प्रकाशवान ------ स्वामी श्रद्धानन्द

 ' अपनी  दुष्प्रवृतियों   को  नियंत्रित  कर  लेना  ही  साधना  है   ।  व्यक्ति  जब  आत्म - निरीक्षण  करता  है  ,  अपने  दोषों  को  मार  भगाने  का  प्रयास  करता  है  ,  तो  साधारण  सा  मनुष्य   असाधारण   महत्व  के  कार्य  संपन्न  करने  लगता  है  ।  ' 
  '  व्यक्तित्व  का  परिष्कार  कर  लेना  ही  सिद्धि  है  । '
  मुन्शीराम  तथा  स्वामी  श्रद्धानन्द  एक  ही  व्यक्ति  के  दो  नाम  हैं  ।  किन्तु  दोनों  में  अन्तर  उतना  ही  है   जितना  एक  तख्त  के   दोनों  तरफ  के  पाटों  में  ,  जिन्हें  एक  और  काला  तथा  एक  और  सफेद  पोत  दो                 स्वामी  जी  का  नाम  पहले  मुन्शीराम  था  ।  वे  अपने  प्रारम्भिक  जीवन  में  बड़े  ही  कुमार्गगामी  थे  । सुरापान  से  लेकर  वेश्यागमन  तक  सारे  ही  दुर्गुण  इनमे  थे  ।  पिता  कोतवाल  थे   ।  किसी  प्रकार  की  कोई  रोक - टोक  नहीं  थी  और  कोई  आर्थिक  समस्या  भी  नहीं  थी  ।
     स्वामी  श्रद्धानन्द  की  पत्नी  का  नाम  था  शिवदेवी  ! सेवा , त्याग , नम्रता , उदारता , सहिष्णुता  की  साकार  प्रतिमा  ।  ये  इनके  सब  दोषों  को  देखकर   भी  इनमे  ' परमेश्वर ' के  समान  भक्ति  रखती  थीं  ,  इनको  भोजन  कराये  बिना  स्वयं  कभी  भोजन  नहीं  करतीं  थी  और  सोने  से  पूर्व  अवश्य  ही  इनके  पैर दबाती  थीं  ।
  एक  दिन  की  बात  है  -----  यह  दिन  स्वामीजी  के  जीवन  का   वह  निर्णायक  दिन  था  जब  उनकी  सोयी  हुई  आत्मा  जागी ------
   स्वामीजी  अपने  कुसंगी  मित्रों  के  साथ   किसी  नृत्य - संगीत  की  सभा  में  गए   और  रात  दो  या  तीन  बजे   अत्याधिक  मदिरापान  करके  वापस  आये   ।  गाडी  से  उतरकर  अन्दर  आते  ही  शराब  के  नशे  के  कारण    इनको  खूब  उल्टी  हुई  ।   जिससे  तमाम  वस्त्र  खराब  हो  गए  ।  इनकी  पत्नी  ने  बिना  कुछ  कहे - सुने   इनकी  पूरी  सफाई  की  और  वस्त्र  बदलवाकर  लिटा  दिया  ।   वे  सो  गये  परन्तु  शिवदेवी  पैर  दबाती  रहीं ,  पंखा  झलती  हुई  बैठी  रहीं  ।   सुबह  जागने  पर  जब  मुन्शीराम  जी  ने   इनको  इस  प्रकार  बैठे  देखा ,  आंटा  गुंथा  रखा  है ,  सिगड़ी  जल  रही  है   तो  इन्हें  रात  की  सब  घटना   स्मरण  आई  ,  उनका  ह्रदय  चीत्कार  कर  उठा  ,  सोचा ,  मेरे  कारण  न  जाने  कितनी  रातें  इसे  यों  ही  भूखे  सो  जाना  पड़ा  होगा   ।  उनका  मन  पश्चाताप  की  अग्नि  में  जलने  लगा    और  उस  दिन  से   उनने  अपनी  समस्त  दुर्बलताओं ,  दुर्व्यसनों  को  त्यागने  की  प्रतिज्ञा  कर  ली  ,  उस  दिन  से  उनके  जीवन  की  दिशा  मुड़ी  तो  ऐसी  मुड़ी  कि  फिर  पीछे  की  और  मुड़कर  भी  नहीं  देखा  ।   विवेक  का   सूर्योदय  हुआ  --- तो  फिर  ऐसा  कि  अन्धकार  को  चीरता  हुआ   गगन  पर  चढ़ता  ही  गया   ।  
        अब   उनका  एक  ही  पथ  था  ---- समाज  सेवा  l  उस  समय  का  सबसे  बड़ा  युग  धर्म  था  --- भारत  को  अंग्रेजों  की  दासता  से  मुक्त  कराना  ।  अत:  एक  वीर  सेनानी  की  भांति  स्वतंत्रता  आन्दोलन  में  कूद  पड़े  ।   उनकी  लेखनी  ने  भी  वह  काम  किया  कि  लोग  लेख  पढ़ते  और  अपनी  जीवन  दिशा  बदलने  की  प्रेरणा  ग्रहण  करते  l   उन  दिनों  आप  '  आर्य  संन्यासी '  के  नाम  से  विख्यात  थे   ।  दिल्ली  में  तब  स्वामीजी  का  इतना  प्रभाव  था  कि  आपकी  एक  आवाज  पर  लाखों  स्वयं  सेवक   अपनी  जान  हथेली  पर  लिए  तैयार  रहते  थे   ।  सब  लोग  उन्हें  दिल्ली  का  बेताज  बादशाह   कहते  थे  ।
 ' गुरुकुल  कांगड़ी '  की  स्थापना  उनका   हिन्दी  को  ऊँचा  उठाने  का  सफल  प्रयोग  था  ।
  गुरुकुल  के  बच्चों  तथा  वयस्कों  को   वे  सदा  यही  उपदेश  देते  थे  कि  ----- अच्छे  बनो , उत्कृष्ट  जीवन  जियो  और  ऐसा  कुछ  करते  रहो   जो  स्वार्थ  की  सीमाओं  से  परे  हो ,  लोक  मंगल  के  लिए  हो  । 

17 January 2017

WISDOM

'  किसी  तपस्या  की  अपर्याप्त  सिद्धि   यदि  थोड़ी  सी  तपस्या  और  मिला  देने  से  पूर्ण  और  प्रकाम  हो  सकती  है   तो  धैर्यवान  साधक  उससे  पीछे  नहीं  हटते  ।  वे  कुछ  समय  और  तप  कर   ऐसे  कुन्दन  ही  बन  जाते  हैं   जिसकी  प्रतिभा  और  प्रभा   फिर  कभी  आजीवन  मंद  नहीं  होती   ।  '
     लाला  लाजपतराय  ने   अरबी , उर्दू  और  भौतिक  विज्ञान  के  साथ  पंजाब  विश्वविद्यालय  से  स्नातक  की  उपाधि  ग्रहण  की   , किन्तु  इससे  उन्हें  संतोष  न  हुआ  ।  कारण  यह  था  कि  उन  दिनों  पंजाब  विश्वविद्यालय  की  उपाधि  कुछ  अधिक  महत्वपूर्ण  नहीं  मानी  जाती  थी  ।  कलकत्ता  विश्वविद्यालय  की  डिग्रियों  का  उन  दिनों   बहुत  मान  था  ।  इस  अन्तर  के  कारण  उन्हें  अपना  परिश्रम  व्यर्थ  जाता  दिखाई  देने  लगा   ।
  लेकिन   इससे  वे  निराश  नहीं  हुए  ।  लाला  लाजपतराय   कलकत्ता  विश्वविद्यालय  की  उपाधि  के  लिए  कृत  संकल्प  होकर  पुन:  अध्ययन  में  जुट  गए   और  इस  बार  उन्होंने  फारसी  के  साथ  इस  विश्वविद्यालय  से   स्नातक  की  उपाधि  प्राप्त  की  ।
   ' महान  का  संपर्क  मध्यम  को  भी   महान  बना  देता  है  । '     कलकत्ता   विश्वविद्यालय  की  उपाधि  मिलते  ही   उनकी  पिछली  डिग्री  का  भी   महत्व  बढ़  गया   और  अब  वे  एक - एक  ग्यारह   की  तरह   दोनों  डिग्रियों  से  विशेष  गुरुता  युक्त  हो  गये  ।   इसके  बाद  उन्होंने   लॉ  की  डिग्री  प्राप्त  की  । 

16 January 2017

श्रेष्ठ व्यक्तियों की कथनी और करनी में एकता होती है

 राजर्षि   पुरुषोतम दास  टंडन    जो  कुछ  मुख  से  कहते  थे  ,  या  दूसरों  को  जैसा  उपदेश  देते  थे  ,  वैसा  ही  आचरण  स्वयं  करते  थे   ।    1905  में  स्वदेशी  आन्दोलन  के  समय  यह  कहा  गया  कि  विदेश  से  आने  वाली  दानेदार  चीनी  कभी  नहीं  खानी  चाहिए  ,  क्योंकि  उसे   गाय - बैलों  की  हड्डियों  की  राख  से  धोया  जाता  है   ।   उस  समय  अनेक  लोगों  के  साथ  आपने  भी   उसको  व्यवहार  में  न  लाने  की  प्रतिज्ञा  की  ।   अन्य  लोग  तो  भारतवर्ष  में   ही  वैसी  दानेदार  चीनी  बनना  आरम्भ  होने  पर   उसे  खाने  लग  गए  ,  पर  टन्डन  जी   ने  एक  बार   उसके   बजाय  देशी  गुड़  खाने  की  प्रतिज्ञा  की    तो  जीवन  के  अंत  तक  उसे  पूरी  तरह  निबाहा   ।  इस  प्रतिज्ञा  के  फलस्वरूप  उन्होंने  कभी  चीनी  या  उससे  बनी   मिठाइयाँ  चखी  नहीं   ।  
  इसी  प्रकार  जब  गौ - रक्षा  के  लिए  यह  आन्दोलन  उठाया  गया   कि  बूट  जूतों  के  लिए   लाखों  गायें  काटी  जाती  हैं   और  बढ़िया  चमड़े     के  लिए    तो   जीवित  गायों  को  घोर  कष्ट  देकर  उनका  चमड़ा  उतारा  जाता  है   ,  तो  टन्डन  जी  ने   चमड़े  के  जूते  का  भी  त्याग  कर  दिया   ।  तब  से  आजन्म  आप    रोप  सोल   या  अन्य  प्रकार  के  बिना  चमड़े  की  चप्पल   पहनते  थे    
   ।  टन्डन  जी  के  चरित्र  की  द्रढ़ता ,  उनकी  सत्यवादिता    तथा  त्याग  वृति  पर  सभी  दल  के  व्यक्तियों  को  इतनी  अधिक  आस्था  थी    कि  कोई  उनके   कथन  का  प्रतिवाद  करने  का  साहस  नहीं  करता  था   । 

15 January 2017

धीर - वीर और चतुर बुद्धि ------ छत्रपति महाराज शिवाजी

   '  धीरता   वह  सद्गुण  है   जो  ऊँची  मनोभूमि   और  समतल  धरातल  वाले  वीर  पुरुषों  की  शोभा  है   ।   यही  धीरता  और  विचार  संतुलन  की  शक्ति     किसी   वीर  को  आततायी   और  शक्ति - मत्त  होने  से  रोकती  है  ,  जिससे  उसके  उठाये  हुए  कदम   ऊँचे - नीचे  न  पड़कर   ठीक  स्थान  पर  और  ठीक  दिशा  में  पड़ते  हैं   ।  '
  शिवाजी   के  पिता  शाहजी  बीजापुर  दरबार  में  मनसब  थे  ।      शिवाजी   अभी   किशोर  ही  थे  ,  उनके  व्यक्तित्व  और  गुणों  की  चर्चा  सुन  कर  सुल्तान  उनसे  मिलने  को  उत्सुक  हो  उठा    और  उसने  आदेश  की  भाषा  में  शिवा  को  दरबार  में  लाने  को  कहा  ।   शिवाजी  ने  बहुत  मना  किया  लेकिन   मुरार  पन्त  ने  उन्हें  समझाया  कि  ऐसा  करने  से  हिन्दुओं  की  आवाज  में  बल  आयेगा  ।  अत:  शिवा  ने  पिता  के  साथ  दरबार  जाने  का  निश्चय  कर  लिया  ।
   रास्ते   भर  शाहजी      शिवाजी  को  समझाते  रहे  कि  दरबार  में  पहुँच  कर   जमीन    तक  झुक  कर  बादशाह  को  कोर्निश  करना ,  बतलाई  जगह  पर  बैठना   ।   उन्होंने   दरबार  के   सारे  तौर तरीके   समझाये  ।        फिर  भी   जब  शिवाजी  दरबार  पहुंचे  तो  सर्वोच्च  आसन  पर  यवन  बादशाह  को  देखकर  उनका  खून  खौल  उठा   और  बिना   कोर्निश  किये  वे  पिता  के  पास  जाकर  बैठ  गए  ।   बड़ा  भयानक  साहस  था ,  सारा  दरबार  सिहर  उठा   ।    मुरार  पन्त  ने   कहा -- आलम  पनाह  !  बच्चे  की  पहली    नजानकारी   को  मुआफ  फरमाये  ।  आइन्दा  ऐसी  गलती  नहीं  करेगा  । 
         शिवाजी  की  इच्छा  हुई   कि  शेर  की  तरह  दहाड़  कर   पूरे  दरबार  को  बता  दें   कि  वे  इस  मलेच्छ  बादशाह  को  कभी  कोर्निश  नहीं  करेंगे ,  यह  उनके  स्वाभिमान  के  विरुद्ध  है   ।      किन्तु  वे  वीर  होने  के  साथ  धीर  भी  थे  ,    देशकाल  के  अनुसार    अपने  आवेगों   को  नियंत्रित  करना  भी  जानते  थे   । 
         अब  शिवाजी   प्राय:  नित्य  ही  दरबार  जाते ,  किन्तु  कोर्निश  कभी  नहीं  करते   ।  साधारण
  नमस्कार  कर  अपने  स्थान  पर  बैठ  जाते   ।    आखिर  एक  दिन  बादशाह  ने  पूछ  ही  लिया  ---- "
शिवा ,  क्या  तुमको  दरबारी  तौर - तरीके  सिखाये  नहीं  गए   ?
          चतुर  बुद्धि  शिवाजी   ने  स्थिति  समझ  ली    और   वह  चाल  चली  कि ' सांप  भी  मर  जाये  और  लाठी  भी  न  टूटे '    ।   वे  सामान्य  भाव  से  बोले ----  " पिताजी  ने  मुझे  दरबार  के  सारे  रीति- रिवाज  भली  प्रकार  बतला  दिए   ।  लेकिन   मैं  आपको  बादशाह  से  अधिक   अपने  पिता  के  समान  मानता  हूँ   ।  इसलिए  कोर्निश  करने  में  मुझे  बनावट  जैसी  मालूम  होती  है   ।   मेरा  निवेदन  है  कि  आप  मुझे    ऐसे    बनावटी  शिष्टाचार  न  करने  की  छूट  देकर  क्षमा  करें   ।  "
  और  शिवाजी  को  दरबार  में  कोर्निश  न  करने  की  छूट  मिल  गई   ।
  यही  प्रत्युत्पन्न  बुद्धि  है   जो  छली ,  कपटी  और  दुष्ट  दुरात्माओं  से   बचाती   और  पार  लगाती  है   ।
                

13 January 2017

जो अपने जीवन में सच्चा होता है उसके डगमगाते कदम को रोकने वाले संयोग आ ही जाते हैं -----

    यदा - कदा  मनुष्य  का  मोह   और  मानसिक  दुर्बलतायें  प्रवंचना  के  जाल  में  फंसाकर  उसको  गलत  दिशा  की  ओर  प्रेरित  कर  देती  हैं  ।  लेकिन  जो  अपने  जीवन  में  सच्चा  होता  है   और  जिसका  संग  उत्तम  होता  है    उसके  डगमगाते  कदम  को  रोकने  वाले  संयोग  आ  ही  जाते  हैं   । '
           बीजापुर    के  नवांब  आदिलशाह  ने   एक   जाति  द्रोही  ' बाजी घोर पाण्डे '  की  मदद  से   छत्रपति   शिवाजी  के  पिता  शाहजी  को   बन्दी    बना  लिया  ।   बाजी घोर  पाण्डे  ने  एक  प्रीति  भोज  में  निमंत्रित  कर   छल  से  उन्हें  एक  छोटी  सी  कोठरी  में  बंद  कर  दिया   और  उसका  द्वार  ईंटों  से  चुनवा  कर   थोड़ी  सी  सांस  लेने  की  जगह  रहने  दी  ।  फिर  उसने  शाहजी  को  विवश  किया  कि  वे  पत्र  लिखकर  शिवाजी   को   यहाँ  आने  के  लिए  मजबूर  करें   ।
  शाहजी  ने  विवश  होकर  सारी  स्थिति  शिवाजी  को  लिख  भेजी  ।  शिवाजी  भयानक  विचार  संकट  में  पड़  गये  ---  यदि  वे  पिता  की  रक्षा  के  लिए   बीजापुर  दरबार  में  आत्म - समर्पण  करते  हैं   तो  इससे   न  केवल   उनके  यश  को  कलंक  लगेगा   बल्कि  देश - धर्म  की  रक्षा   के  बोये  अंकुर  नष्ट  हो  जायेंगे  ।
            गहनतम  मानसिक  उलझन    के  बाद    पिता  के  प्रति  पुत्र  का  मोह  विजयी   हुआ    ।    उन्होंने  बीजापुर  जाकर   आदिलशाह  से  सन्धि  करने  का  विचार  बनाया   ।
  शिवाजी  की  पत्नी  को  उनके  इस  विचार  का  पता  लगा   ।  उन्होंने  अवसर  पाकर  इस  दुविधा  के  अंधकार  में  प्रकाश  दिया  ।  ----
          उन्होंने  कहा ----  मेरी  आत्मा  कहती  है  बीजापुर  जाने  में  कल्याण  नहीं  है   ।  आदिलशाह  पिताजी  को  तो  नहीं  छोड़ेगा   साथ  ही  आप  पर  भी  संकट  लाकर  हिन्दू  जाति  का  भविष्य  ही  नष्ट  कर  देगा  ।  मेरा  विनम्र  परामर्श  है  कि  आप  इस  समय  दूरदर्शिता  से  काम  लें   और  दिल्ली  के  मुगल  बादशाह  शाहजहाँ  को  लिखें   कि   यदि  वह  इस  समय  पिताजी  की  रक्षा  करने  में  आपकी  सहायता   करे  तो  उसके  बदले  आप  उसे   दक्षिण  के  मुस्लिम  राज्यों  का  दमन  करने  में  सहयोग  देंगे   ।  मेरा  विश्वास  है  साम्राज्य  लिप्सु  तथा  स्वार्थी  मुगल  बादशाह   आपको  अपने  पक्ष  में   लाने  के  लिए  आदिलशाह  को    पिताजी  को  मुक्त  करने  के  लिए  विवश  करेगा    ।
       शिवाजी  को  जैसे  आधार  मिल  गया  ,  उन्होंने  शाहजहाँ  को  लिखा  ।   शिवाजी  की  पत्नी  साईबाई  का  अनुमान  ठीक  निकला   ।  शाहजहाँ  ने  शिवाजी  और  शाहजी  का  पक्ष  पाने  के  लिए    बीजापुर  के  नवाब  आदिलशाह  को  फरमान  भेजकर   शाहजी  को  मुक्त  करा  दिया   ।
   सूझ - बुझ  और  साहस   के  बल  पर  ही    छत्रपति  महाराज  शिवाजी    उस  यवन  काल  में   एक  स्वतंत्र  हिन्दू  शासक   और  धर्म - रक्षक  घोषित  किये  गये   । 

12 January 2017

' अपनी शक्ति पर भरोसा रखो , याद रखो जिसके पास कुछ मौलिक तत्व है उसे संसार अवश्य सुनेगा ' ----- स्वामी विवेकानन्द

 '  महापुरुषों  के  सम्पर्क  में  आकर   अपनी  योग्यता  और  प्रतिभा  को  अदभुत  ढंग  से  विकसित  किया  जा  सकता  है   । '
  स्वामी  विवेकानन्द   का   प्रथम  भाषण  सुनने  के  बाद  मार्ग्रेट  नोबुल   ( भगिनी  निवेदिता )  ने  अपनी  डायरी  में  लिखा  ---- " ऐसे  चिन्तन शील  व्यक्ति  का  दर्शन  मुझे  आज  तक  नहीं  हुआ  था  । "  दूसरे  दिन  स्वामीजी  के  ये  वाक्य  उनके  ह्रदय  में  प्रवेश  कर  गए ---- "  जो  अनन्त  और  असीम  है  वही   अभूत  है ,  वही    शाश्वत  है  ।   उसे  छोड़कर   संसार  की  समस्त  विषय  वस्तु  नाशवान  है  ,  अस्थायी  है  । "
       उसी  समय  से  उन्होंने  स्वामीजी  को  अपने  गुरु  के  रूप  में  स्वीकार  कर  लिया   ।
  जिस  प्रकार  श्री  रामकृष्ण  ने   विवेकानन्द  को  तैयार  किया  था    उसी  प्रकार  स्वामी  विवेकानन्द  ने    निवेदिता  को  अपने  कार्य  के  लिए  तैयार  किया  था    और  केवल  उनका  नाम  ही  परिवर्तन  नहीं  किया    किन्तु  सम्पूर्ण  जीवन  को  ही  परिवर्तित  कर  दिया   ।
      मार्ग्रेट  की  आत्मा  सदैव  सत्य  की  खोज  में  रहती  थी   ।   स्वामीजी  से  प्रथम  भेंट  और  विचार - विमर्श  में    उन्होंने    यह  अनुभव  किया  कि  --- मनुष्य  जो  लक्ष्य  लेकर  धरती  पर  अवतरित  होता  है    उसकी  प्राप्ति  में   भारतीय  अध्यात्म  स्पष्ट  सहायक  हो  सकता  है   ।  भारतीय  धर्म , संस्कृति  एवं  उपनिषदों  में  वह  सामर्थ्य  है   जो  आत्मा  को  संतुष्टि  और  शाश्वत  शान्ति  प्रदान   कर  सकते  हैं   । 
             स्वामीजी  का  कहना  था ----- पहले  अपने  ह्रदय  में  झांककर   अपनी  आत्मा  को  पहचानो  ,  उससे   शक्ति  ग्रहण  करो   और  फिर  कार्य  क्षेत्र  में    नि:स्वार्थ    और   फल  की  आशा  से  रहित  ईश्वर - सेवा  में  परिणत  हो   । 
        

11 January 2017

कर्तव्य के प्रति परिश्रम और पुरुषार्थ का अवलम्बन कर ही जीवन में सफलता प्राप्त की ------- लाला लाजपतराय

   '  जिनको    कोई  आंतरिक  या  बाह्य  परिस्थिति  अपने  लक्ष्य  की  ओर  प्रगति  करते  रहने  से  विरत  कर  देती  है   उनकी  लगन  में  कमी  होती  है  ।  ऐसी  कच्ची  लगन  के  लोग   एक  साधारण  से  कारण   और  छोटा  सा बहाना  पाकर  मन्द  पड़  जाते  हैं   और  तब  न  तो  बड़ी  सफलता   प्राप्त  कर  पाते  हैं   और  न  उल्लेखनीय  प्रगति  ही  कर  पाते  हैं  ।     पर  लाला  लाजपतराय  ने  अपने  जीवन  में  आने  वाले   गतिरोध  को    ईश्वर  की  किसी  बड़ी  इच्छा  का  रहस्य   माना  और  अपने  पास   न  तो  कातरता  आने  दी  और  न  निराशा    ।  '
      जिन  दिनों   लाला  लाजपतराय   लाहौर  में  पढ़ने  के  बाद  दिल्ली  आये  तो  वहां  बीमार  पड़  गये,   फिर  स्वस्थ  होते  ही  उन्होंने     लुधियाना  के  मिशन  हाई  स्कूल  में  प्रवेश  लिया   और  तन्मयता  से  पढ़ने  लगे   ,  यहाँ  भी   वे  बीमार  हो   गए   और  कुछ  समय  के  लिए  उन्हें  विद्दालय  छोड़  देना  पड़ा   ।  बीमारी  से  संघर्ष  करते  हुए  वे  बराबर  पढ़ते  रहे   ।   उन्ही  दिनों  उनके  पिता  की  बदली  अम्बाला  हो  गई  अत: वे  अपने  पिता  के  पास  अम्बाला  चले  गए   ।  किन्तु  उनके  धैर्य  की  परीक्षा  अभी  समाप्त  नहीं  हुई   ।
            अम्बाला  आकर  वे  फिर  बीमार  हो  गए  ,  इस  बार  उन्हें  एक  भयंकर  फोड़ा  निकल  आया   ।
  इन्ही  आपत्ति  के  दिनों  में   उन्होंने  एक  बंगाली  विद्वान  की  सहायता  से  अंग्रेजी   और  पिता  के  सहयोग  से   उर्दू ,  फारसी  और  गणित  की  अच्छी  योग्यता  प्राप्त  कर  ली   ।  वे  रोग   को  अन्य  गतिरोधों  की  तरह  हेय  समझकर   उसका  उपाय  भी  करते  रहे    और  अध्ययन  का  क्रम  भी  चलाते  रहे  ।
  धैर्य , संयम , पथ्य  और  उपचार  के  बल  पर   लाजपतराय  ने  अपने  स्वास्थ्य  को  पुन:  प्राप्त  कर  लिया    और  मैट्रिक  की  परीक्षा  देकर  सफल  हो  गए  ।  बार - बार  की  इस  बीमारी  से  उन्हें  बड़ा  क्षोभ  हुआ  । 
 वे  सोचने   लगे  कि  यदि  रोगों  का  यह  शत्रु  इसी  प्रकार  आगे  भी   उनके  पीछे  पड़ा  रहा  तो  वे  भविष्य  के  मनोनीत  कर्तव्य  किस  प्रकार  पूरे  कर  सकेंगे   ।
  अत:   उन्होंने  एक  दिन  अपने  जीवन  क्रम  का  आमूल  सम्पादन  कर  डाला   ।   कमियों  , त्रुटियों   और  कृत्रिमताओं   को  निकाल  फेंकने  के  साथ  - साथ  कठोर  संयम ,  नियमित   दिनचर्या   और  युक्ताहार विहार  की   ऊँची  और   अटूट  प्राचीर  से  अपने  स्वास्थ्य  की  किलेबन्दी    कर  दी   ।   जिसके  फलस्वरूप  उनका  स्वास्थ्य    ऐसे  रोग  रूपी  शत्रुओं  से  सदा  सर्वदा  के  लिए   सुरक्षित  हो  गया   ।