27 February 2017

एक पत्रकार के कर्तव्य

श्री  कन्हैयालाल मिश्र  ' प्रभाकर '  हिन्दी  के  पुराने  सिद्धहस्त  लेखक , चिन्तक  और पत्रकार  से  किसी  ने  पूछा  कि  पत्रकारिता  का  उद्देश्य  क्या  है  ?  उन्होंने  कहा ----- " मेरे  लिए  पत्रकारिता  का  अर्थ  सदा  यही  रहा  है  कि  जनता  की  दबी  पीड़ा  और  मूक  आकांक्षा   को  वाणी  दी  जाये --- उस  वाणी  को  बल  से  भरपूर  किया  जाये   और  बुराइयों  के  झाड़- झंखाड़  में   दबी  दबाई  अच्छाई  को  उभारा  जाये   । "
 उन्होंने  कहा ----- " हमारा  काम  यह  नहीं  है  कि  इस  विशाल  देश  में  बसे    चन्द  दिमागी   ऐय्याशों  का   फालतू  समय  चैन  से  काटने  के  लिए   मनोरंजक  साहित्य  नाम  का   मयखाना  हर  समय  खुला  रहे  ।
  '   हमारा  काम  यह  है  कि इस  विशाल  देश  के  कोने - कोने   में  फैले  जन साधारण  के  मन  में   विश्रंखलित  वर्तमान  के  प्रति  विद्रोह   और  भव्य  भविष्य  के  निर्माण  की  भूख  जगाएं  ।   '
  प्रभाकर जी   आगे  कहते  हैं  --- जो  अबोध  हैं ,  सुप्त  हैं  उन्हें  जगाना  ही  मुख्य  है  ।  हमारा  कार्य  जनता  को   जागृत  करना  और  सही  द्रष्टिकोण  देना  है   ।  लोग  उसे  नापसन्द  करेंगे  ,  पर  अन्त  में   सत्य  और  न्याय   ही  विजयी  होंगे  । 

26 February 2017

WISDOM

 ' पाप  पहले  आकर्षक  लगता है  | फिर आसान  हो  जाता  है  । इसके बाद आनन्द  देने  का  आभास  देने  लगता  है   तथा  अनिवार्य  प्रतीत  होने  लगता  है  ।   क्रमशः  वह  हठी  और ढीठ  बन  जाता  है  ।  अंततः  सर्वनाश  करके   हटता   है  । '

25 February 2017

महात्मा गाँधी को प्रेरणा मिली ----

  एक स्पेनिश  पत्रकार ने  एक बार  महात्मा गाँधी से  प्रश्न  किया ---- " आप अब  जिस  रूप  में  हैं  , वह  बनने  की  प्रेरणा  कहाँ से  मिली ? "  गाँधी जी  ने  बताया ---- भगवान्  श्री कृष्ण , महापुरुष  ईसा , दार्शनिक  रस्किन  और  संत  टालस्टाय  |
पत्रकार  अचम्भे  में  आ  गया ,  उसने  अपनी  आशंका  व्यक्त  की , इस  पर  गांधीजी  बोले ----" महापुरुष  सदैव  बने  नहीं  रहते  ,  समय  के  साथ  उनको  भी  जाना  पड़ता  है   किन्तु  विचारों , पुस्तकों  के  रूप  में   उनकी  आत्मा  इस  धरती  पर   चिरकाल  तक  बनी  रहती  है ,  उनमे  लोगों  को  दीक्षित  करने ,  संस्कारवान  बनाने   और  जीवन  पथ  पर  अग्रसर  होने  के  लिए   शक्ति , प्रकाश  और  प्रेरणाएं  देने  की   सामर्थ्य  बनी  रहती  है   मुझे  भी  इसी  प्रकार  उनसे  प्रकाश  मिला  है  ।
  "  गीता  के  प्रतिपादन  किसी  भी  शंकाशील  व्यक्ति  का  सही  मार्गदर्शन  कर  सकते  हैं   ।  संसार  में  रहकर  कर्म  करते  हुए   भी  किस  तरह  विरक्त  और  योगी  रहा  जा  सकता  है  ,  यह  बातें  मुझे  गीता  ने
 पढ़ाई  ।  इस  तरह  मैं  भगवन  कृष्ण    से  दीक्षित  हुआ  ।
 दलित  वर्ग  से  प्रेम   व उनके उद्धार  की  प्रेरणा  मुझे  ' बाइबिल ' से  मिली  ।  इस  तरह  मैं  महापुरुष  ईसा  का  अनुयायी  बना   ।  युवा  अवस्था  में  ही  मेरे  विचारों  में  प्रौढ़ता ,  कर्म  में  प्रखरता   तथा  आशापूर्ण  जीवन  जीने  का  प्रकाश  -- ' अन  टू दिस  लास्ट ' से  मिला  ।  इस  तरह  रस्किन  मेरे  गुरु  हुए  ।   और  बाह्य  सुखों , संग्रह  और  आकर्षणों  से  किस  तरह  बचा  जा  सकता  है   यह  विद्दा  मैंने  ' दि  किंगडम  ऑफ  गॉड  विदइन  यू '  से  पाई  ।  इस  तरह  मैं  महात्मा  टालस्टाय  का  शिष्य  हूँ  । "
 सशक्त  विचारों  के  मूर्तिमान  प्राणपुंज   इन  पुस्तकों  के  सान्निध्य   में  मैं  नहीं  आया  होता   तो  अब  मैं  जिस  रूप  में  हूँ  ,  उस  तक  पहुँचने  वाली  सीढ़ी  से  मैं  उसी  तरह  वंचित  रहा  होता  , जिस  तरह   स्वाध्याय  और  महापुरुषों  के  सान्निध्य  में  न  आने  वाला   कोई  भी  व्यक्ति  वंचित   रह  जाता  है  । 

24 February 2017

WISDOM

गुण  एकांत में अच्छी तरह विकसित होते हैं  लेकिन चरित्र का निर्माण  संसार के भीषण  कोलाहल  के बीच  होता  है  |

23 February 2017

WISDOM

  संसार में  किसी  महान  कार्य  में  सफलता  प्राप्त  करना  सहज  नहीं  होता  ।  जब  तक  मनुष्य  उसे  सिद्ध  करने  के  लिए  उसमे  अपना  सर्वस्व  अर्पण  करने  के  लिए  तैयार  नहीं  होता   तब  तक  सिद्धि  की  आशा  निरर्थक  है  }  जो  लोग  पहले  किसी  काम  को  करते  हुए   भय ,  आशंका , आदि  की  ही  चिंता  किया  करते  हैं ,  और  थोड़ी  कठिनाई  आते  ही  उस  मार्ग  को  त्याग  देते  हैं  ,  उनसे  किसी  महत्वपूर्ण  कार्य  के  संपन्न  होने  की  आशा  व्यर्थ  ही  है  l   

22 February 2017

सकारात्मक सोच से जीवन में सफलता ------- पं. विष्णु दिगम्बर पुलुस्कर

  किशोरावस्था  में   पुलुस्कर  दीवाली  के  दिन  पटाखों  से  खेल  रहे  थे  कि  एक  पटाखा  हाथ  में  ही  छूट  गया   जिससे  उनकी  दोनों  आँखें  बेकार  हो  गईं   l  किसी  सहपाठी  बच्चे  ने  पूछा ---- " विष्णु ! तेरी  दोनों  आँखें  बेकार  हो  गईं,  अब  तू  क्या  करेगा  ? तेरा  जीवन  तो  बड़ा  कठिन  हो  गया  । "
 विष्णु  ने  उत्तर  दिया ----  " परमात्मा   की  छाया  हमारे  साथ  है   तो  हम  क्यों  निराश  हों  ? आँखें  ही  खराब  हुई  हैं  ,  हाथ , पाँव , नाक ,  मुंह   और  तो  सब  ठीक  है   । ऐसा  क्यों  न  सोचूं   कि  जो  कुछ  शेष  है   उसका  सदुपयोग  करके  पथ  पर  बढ़  सकना  अभी  भी   संभव  है  l  "
  बारह  वर्षों  तक   बारह - बारह  घंटे  का  कठोर  अभ्यास  कर  उन्होंने  संगीत  में  निपुणता  हासिल  की  । ।  उनका  उद्देश्य  था   संगीत  विद्दालयों  का  स्वतंत्र  इकाई  में  विकास  जिससे  यह  महान  आध्यात्मिक  उपलब्धि  ( शास्त्रीय  संगीत  ) जीवित  रहे   ।
  उन्होंने  लाहौर  में  संगीत विद्दालय  की  घोषणा  कर  दी  ,  जो  कुछ  भी  अपने  पास  था  वह  उस  विद्दालय  में  लगा  दिया    ।  दस  दिन  तक  विद्दालय  में  एक  भी  छात्र  प्रवेश  लेने  नहीं  आया   ।  वहां  के  जस्टिस  चटर्जी  इस  से  दुखी  हुए  और  पूछा  ---- " अब  क्या  होगा  । "  विष्णु दिगम्बर  हंसकर  बोले ---- " जज  साहब ! हर  बड़े  काम  की  शुरुआत  कठिनाइयों  से  होती  है  ,  उन्हें  जीतना  मनुष्य  का  काम  है  ।  हमारा  उद्देश्य  बड़ा  है  तो  हम  घबराएँ  क्यों  ?  मेरी  साधना  जब  तक  मेरे  साथ  है  तब  तक  असफलता  की  चिंता  क्यों  करें  ?  हम  तो  प्रयत्न  करना  जानते  हैं  ।  पूरा  करना  या  न  करना   परमात्मा  का  काम  है  ।   उन्होंने    कई  विशिष्ट  आयोजन  किये  ,  लोगों  ने   शास्त्रीय  संगीत  का   महत्व  स्वीकार  किया   ।  यह  विद्दालय  105  संगीत  छात्रों  को  लेकर  विकसित  हो  चला  ।
इसके  बाद  आपने  बम्बई  में  गांधर्व - महाविद्दालय  की  स्थापना  की   जिसकी  आज  सैकड़ों  शाखाएं  सारे  देश  में  फैली  हुई  हैं   ।  

21 February 2017

अलौकिक उदारता ----- स्वामी दयानन्द सरस्वती

  ' अपने  छोटे  से  जीवन  में  उन्होंने   देश  के  एक  कोने  से  दूसरे  कोने   तक  फैले ' पाखण्ड  व  कुप्रथाओं  '  का   निराकरण  करके   वैदिक  धर्म  का  नाद  बजाया  । ' गोवध ' बंद  कराने  का  प्रयत्न  किया  । ' बाल  विवाह ' की  प्रथा  का  विरोध  करके  लोगों  को  ब्रह्मचर्यं  का  महत्व  समझाया  ।  स्थान - स्थान  पर  गुरुकुल  खुलवाकर  ' संस्कृत ' शिक्षा  का  प्रचार  किया  ।  ' विधवा  विवाह ' की  प्रतिष्ठा  की  ,  ' शराब - मांस  आदि '  का  घोर  विरोध  किया  ,  राजनीतिक  स्वतंत्रता  पर  बल  दिया  ।  उन्होंने  हर  प्रकार  से  आर्य  जाति  को  फिर  से   उसके  अतीत  गौरव  पर  स्थापित  करने  का  प्रयत्न  किया  । '
  उनके   गुरु  स्वामी  विरजानंद  को  किसी  ऐसे  शिष्य  की   प्रतीक्षा  थी   जो  सत्पात्र  हो  ,  जो  उनके  सिद्धांतों  का  प्रचार  कर  संसार  में  विशेषकर  भारत  में   एक  नयी  विचार क्रान्ति  करने  में  सफल  हो   l ।  स्वामी  दयानन्द  के  रूप  में  उनकी  यह  साध  पूरी  हुई   स्वामी  दयानन्द  के  कार्य  और  वैदिक  संस्कृति  के  पुनरुत्थान  अभियान  की  उपलब्धियां  ऐतिहासिक  हैं  । ।
  उस  अन्धकार  युग  में   जबकि  देश  की  जनता  तरह - तरह  की  निरर्थक  और   हानिकारक  रूढ़ियों  में  ग्रस्त  थी  ,  जिससे  स्वामीजी  को  पग - पग  पर  लोगों  के  विरोध , विध्न - बाधाओं   और  संघर्ष  का  सामना  करना  पड़ा   पर  वे  अपनी  अजेय  शारीरिक  और  मानसिक  शक्ति  ,  साहस  और  द्रढ़ता  के  साथ  अपने  निश्चित  मार्ग  पर  निरंतर  बढ़ते  रहे    और  अंत  में  अपने  लक्ष्य  की  प्राप्ति  में   बहुत  कुछ  सफल  हुए    l
  स्वामी  जी  ने  अपना  अनिष्ट  करने  वालों  के  प्रति  कभी  क्रोध  नहीं   किया ,  उनका  कभी  अनहित  चिन्तन  नहीं  किया  । ।   स्वामी  जी  को  इस  बात  का  अनुमान  थोड़ी  देर  में  ही  हो  गया  कि  रसोइये  जगन्नाथ  ने  उनको  दूध  में  जहर  दे  दिया  है   तो  उन्होंने  उसे  अपने  पास  बुलाया  और  सच्ची  बात  बताने  को  कहा  ।   उनके  आत्मिक  प्रभाव  से  जगन्नाथ  काँप  गया  और  अपना  अपराध  स्वीकार  कर  लिया  l   पर  स्वामी जी  ने  उसे  बुरा - भला  नहीं  कहा  और  न  ही  उसे  दण्ड  दिलाया   बल्कि  उसे  अपने  पास  से  कुछ  रूपये  देकर  कहा ---- "  अब  जहाँ  तक  बन  पड़े  तुम   अति  शीघ्र  जोधपुर  की  सरहद  से   बाहर  निकल  जाओ  ,  क्योंकि  यदि  किसी  भी  प्रकार  इसकी  खबर  महाराज  को  लग  गई   तो  तुमको  फांसी  पर  चढ़ाये  बिना  मानेंगे  नहीं  ।   जगन्नाथ  उसी  क्षण  वहां  से  बहुत  दूर  चला  गया  और  गुप्त  रूप  से  रहकर  अपने  प्राणों  की  रक्षा  की    l  स्वामी जी  के  जीवन  की  एक  यही  घटना  उन्हें  महा मानव  सिद्ध  करने  के  लिए  पर्याप्त  है   ।