20 August 2017

ईसा के सच्चे अनुयायी ----- महात्मा एंड्रूज

  श्री एन्ड्रूज  का  जन्म   1872  में  इंग्लैंड  में  हुआ  था   l  छोटी  आयु  से  ही  उन्हें  भारत  के  प्रति  सहानुभूति  हो  गई  थी  l  अपनी  माँ  से  कहा  करते  थे --- " माँ ,  मैं  हिन्दुस्तान  जाऊँगा  l  "  उनकी  यह  बात  सच  हुई  और  20  मार्च  1904  को  वे  भारत  आये  l  यहाँ  उन्हें  सेंट् स्टीफेंस  कॉलेज,  दिल्ली  में  अध्यापन  करना  था  l   दिल्ली  में  जब  अन्य  अंग्रेजों  से  उनका  परिचय  हुआ  तो   सबने  उन्हें  यही  सलाह  दी  कि---                    "  भारतवर्ष  में  रहते  हुए   आप  किसी  ' नेटिव ' ( भारतवासी )  के  दिल  में   यह  ख्याल  मत  आने  देना  कि  वह  तुमसे  ऊँचा  है  l  यद्दपि  आप  ' पादरी '  हैं   तो  भी  अपने  को  पहले  'अंग्रेज '  समझना  होगा  l   "     पर  एन्ड्रूज  साहब  ने  ऐसी  ' नेक  सलाह '  पर  कभी  ध्यान  नहीं  दिया  l  वे  सदा  यही  उत्तर  देते  रहे   कि  "  यदि  हम  ईसा  के  सच्चे  अनुयायी  हैं   तो  हमको  अवश्य  ही   भारतवासियों  के  साथ  समानता  का  व्यवहार  करना  चाहिए  l  "
  घटना  उन  दिनों  की  है ------ जब    सेंट  स्टीफेंस  कॉलेज  में   प्रिंसीपल  का  पद  रिक्त  था   l  चयनकर्ताओं  के  सम्मुख  दो  उम्मीदवार  थे --- दीनबन्धु  एन्ड्रूज  और  प्रोफेसर  सुशील  कुमार  रूद्र  l   और  चुनाव  अधिकारी  थे   लाहौर  के    लेफ्राय  l   उन्होंने  श्री  एन्ड्रूज  को  बुलाकर  कहा ---- "  आप  अपने  को  विजयी  समझकर  कार्य  करने  को  तैयार  रहिये  l  ऐसे  महत्वपूर्ण  पद  पर  किसी  अंग्रेज  की  नियुक्ति  ही  ठीक  रहेगी  l l  "   इस  रंगभेद  की   नीति  के  कारण  श्री   एन्ड्रूज  तिलमिला  उठे  ,  उन्होंने  कहा ---- "  वे  भारतीय  हैं  तो  क्या ,  योग्यताओं  के  तो  धनी  हैं   l  जब  आपको  उत्तरदायित्वपूर्ण  कार्य  के  लिए  समिति में  रखा  गया  है  तो  निष्पक्ष  रहकर  न्याय  दीजिये  l  पक्षपात पूर्ण  निर्णय  देने  से  अच्छे  परिणाम  की  आशा  नहीं  की  जा  सकती   l"   अंत   में  प्रिंसिपल  के  पद  हेतु  प्रोफ़ेसर  रूद्र  को    चुन   लिया    गया  l 

19 August 2017

सबसे बड़ा आश्चर्य ------

  युगों  पूर्व   यक्ष  ने  युधिष्ठिर   से  प्रश्न  किया  था ---- ' संसार  का  सबसे  बड़ा  आश्चर्य  क्या  है  ? ' 
  युधिष्ठिर  ने  उत्तर  दिया ---- "  हजारों  लोगों  को  मरते  हुए  देखकर   भी  अपनी  मृत्यु  से  अनजान  बने  रहना  ,  खुद  को   मृत्यु  से  मुक्त  मान  लेना  ,  जीते  रहने  की  लालसा  में   अनेकों  दुष्कर्म  करते  रहना   और  इन  दुष्कर्मों  से   स्वयं  को   संलिप्त  न  मानना  ही   सबसे  बड़ा  आश्चर्य  है   l  "
     समय  को  काल  कहा  गया  है  l   काल  का  एक  अर्थ   मृत्यु   भी   है  l  कोई  भी  उससे  बच  नहीं   पाता  l   सूफी  फकीर  शेख  सादी  का  वचन  है -----  "  बहुत  समय  पहले   दजला  के  किनारे   किसी  एक  खोपड़ी  ने   कुछ  बातें   एक  राहगीर  से  कहीं   थीं  l "   वह  बोली  थी ----- "  ऐ  मुसाफिर  ! जरा  होश  में   चल   l  मैं    भी  कभी  भारी  दबदबा  रखती  थी   l  मेरे  ऊपर    हीरे ,  मोती   मूंगों    जड़ा  बेशकीमती   ताज  था   l  फतह  मेरे  पीछे - पीछे  चली   और  मेरे  पाँव  कभी  जमीन  पर  न  पड़ते  थे   l  होश  ही  न  था  कि  एक  दिन  सब  कुछ  खतम  हो  गया  l  पल  भर  में   जीवन  के  सारे  सपने  विलीन  हो  गए   l  यथार्थ  से  तब   रूबरू   हुआ   और  पाया  कि  कीड़े  मुझे  खा  रहे  हैं    और  आज  हर  पांव  मुझे    बेरहम  ठोकर  मारकर  आगे  निकल  जाता  है   l    तू  भी  अपने  कानों    गफलत  की  रुई  निकाल  ले  ,  ताकि  तुझे   मुरदों    की   आवाज  से  उठने  वाली    नसीहत  हासिल  हो  सके   l   " 

17 August 2017

WISDOM

 ' मनुष्य  शरीर  होने  के  नाते  गलतियाँ  सबसे  होती  हैं  ,  जो  उन्हें  छुपाते  हैं  वे  गिरते  चले  जाते  हैं   पर  जो   बुराइयों  को ,  अपनी  भूल  को  स्वीकार  करते  हैं   उनकी  आत्महीनता  तिरोहित  हो  जाती  है   l  भूलों  की  स्वीकृति  ही   व्यक्ति  को  इतना  ऊँचा  उठा  देती  है   कि  व्यक्ति  अपने  जीवन  में   सामान्य  स्तर  से   बहुत  अधिक  प्रगति  कर  पाता  है   l '
  प्रसिद्ध  विचारक   रूसो  ने  अपनी  आत्मकथा  में  लिखा  है  ---- " वही  आत्मकथा  श्रेष्ठ  है   जिसमे  व्यक्ति  ने   अपने  जीवन  में  की  गईं  भूलों  को  स्पष्टत:  स्वीकार  किया  हो   l "  महात्मा  गाँधी  ने   अपनी  आत्मकथा  में   अपनी  भूलों  का  स्पष्ट   विवेचन  किया  है  l   गाँधी  ने   जब  अपनी  भूलों  को  पहचाना  ,  इनके  लिए  पश्चाताप  किया   तो  वे  धीरे - धीरे    अपने  सामान्य  स्तर  से  ऊपर  उठते  गए    और   ' महात्मा '  कहलाये   l
  भूल  का  भान  होने  पर  उसे  सुधारने  का  एक  तरीका  है  --- प्रायश्चित  l  ऐसा  करने  से     मन  का  अपराध बोध  नष्ट  होता  है  l  प्रायश्चित  करने  का  सीधा  अर्थ  है  ---- अपने  दोषों  को  खुले  मन  से  स्वीकार  करना  ,  अपनी  गलतियों  के  लिए  पश्चाताप  करना   और  भविष्य  में  उन्हें  न  दोहराने  और  उनसे  स्वयं  को   दूर  रखने  का  प्रयास  करना   l 

16 August 2017

रूपान्तरण

  मनुष्यों  की  प्रकृति  को  बदलना  असंभव   जैसा  कार्य  है   l   '  मानव  जीवन  की  प्रकृति  में  रूपांतरण  की  प्रक्रिया  '  संसार  की  सबसे   विरल  घटना  हैं  l  यदि  ऐसा  होता  है  तो  यह  सबसे  बड़ा  चमत्कार  है   l
   दोस्तोवस्की  ने  अपने  संस्मरण  में  लिखा  है  -----  बात  उन  दिनों  की   है   जब  वे   जारशाही  के  विरुद्ध  क्रान्तिकारी    गतिविधियों  में  संलग्न  थे ,  एक  दिन  पकड़  लिए  गए  l  दस  और  साथी  थे  ,  सभी  को  मृत्यु  दंड  सुनाया  गया  l  तिथि  तय  हुई  उस  दिन  प्रात:  छह  बजे  सभी  को  गोली   मारी   जानी  थी  l  सारी    तैयारियां  हो  गई    l  कब्रें  खुद   गईं , ताबूत  निर्मित  हो  गए  l   मानसिक  रूप  नसे  वे  मर  चुके  थे  बस ,  शारीरिक  मौत   बाकी   थी  l   नियत  समय  पर  सब  एक  पंक्ति  में  खड़े  थे  ,  तभी  छह  का  घंटा  बजा  l  सैनिक  अपनी  बन्दूक  का   घोड़ा   दबाते   ,  एक  घुड़सवार  आ   पहुंचा   उसने  सन्देश  सुनाया  कि  मृत्यु  दंड  को  आजीवन  कारावास  में  बदल  दिया  l
  लेकिन  तब  तक  उनमे  से  एक  आदमी  गिर  चुका  था ,  यह  सोचकर  कि  बस  अब  मरे ,  छह  बज  चुके  l  उसे  बताया  गया  कि  सजा  आजीवन  कारावास  में  बदल  दी  गई  है  l  इसे  सुनते  ही  कुछ  पल  बाद  वह  उठ  खड़ा  हुआ  और  सबके  साथ  कारागृह  चला  गया  l
      दोस्तोवस्की  लिखते  हैं  कि  इसके  बाद  वह  कई  वर्षों  तक  जिन्दा  रहा   लेकिन  अब  वह  पहले  वाला  आदमी  न  रहा  ,  पूछने  पर  बोलता  --- वह  अमुक  तिथि  को  प्रात:  छह  बजे  मर   चुका    है  l   न  कोई  आसक्ति  रही  ,  न  इच्छा ,  न  लगाव  l निस्पृह  योगी  की  तरह  प्रतीत  होता  l
      जिनके  अन्दर  सचमुच  में  विरक्ति  पैदा  होती  है  , उन्हें  कहीं  अन्यत्र  नहीं  जाना  पड़ता  l  वे  कीचड़  में  कमल  की  तरह  होते  हैं  l  संसार  की  माया  उनका  स्पर्श  तक  नहीं  कर  पाती  l 
  

15 August 2017

' वन्देमातरम ' मन्त्र के द्रष्टा ------- बंकिमचन्द्र

  ' बंकिम  बाबू  ने  साहित्य - सृजन  द्वारा देश  में  एक  ज्योति  जगाई , जिसके  प्रकाश  से  आज  भी  हमारे  ह्रदय  आलोकित  हो  रहे  हैं  l  उन्होंने  यह  सिद्ध  कर  दिया  कि  साहित्य  की  शक्ति  अल्प  नहीं  है  , यदि  उसका  विचार पूर्वक  उपयोग  किया  जाये   तो  वह  राष्ट्र , समाज  और  व्यक्ति  के  उत्थान  का   एक  महान साधन  बन  सकती  है  l '
  उन्होंने  अपने  कई  उपन्यासों   द्वारा  राष्ट्र  निर्माण   और   स्वाधीनता  का  मार्गदर्शन  किया  l  इस  द्रष्टि  से  उनका  ' आनंदमठ '   भारतीय  साहित्य  में  बहुत  ऊँचा  स्थान  प्राप्त   कर  चुका  है   l  इस
 ' आनंदमठ '    में  ही  प्रथम  बार  ' वन्दे - मातरम् '  मन्त्र  का  उल्लेख  किया  गया  है  l
  एक  समय  था    जब  ' वन्दे - मातरम् '  के  जयघोष  से  भारत  की  शक्तिशाली  ब्रिटिश  सरकार  थर - थर  कांपने  लगी  थी  और  इसका  उच्चारण  करने  पर  सैकड़ों  देशभक्तों  को   जेल  और  बैतों  की  सजा  सहन  करनी  पड़ी  थी  l  आज  भी  हमारे  देश  के  बालक  से  लेकर  वृद्ध  तक  ' वन्दे - मातरम् '  को  सुनकर  भारत भूमि  के  प्रति  जिस   श्रेष्ठतम  भाव  का  अनुभव  करते  हैं  ,  उससे  इसकी  महत्ता  स्पष्ट  हो  जाती  है   l                                                                  

14 August 2017

महान व्यक्तित्व

महान  व्यक्तित्वसंपन्न   जीवन का  मूल्य  व्याख्यान , प्रवचन  एवं  उपदेश  देने  में  निहित  नहीं  होता , बल्कि  सर्वप्रथम  उसे  अपने  जीवन  में  उतारने  एवं  ह्रदयंगम  करने  में  होता  है  l  उनका  जीवन  एक  सीमित  दायरे  में  सिमटा   हुआ  नहीं  होता  बल्कि  उनका  जीवन   व्यापक  एवं  विराट  होता  है  l 
  प्रख्यात  कूटनीतिज्ञ  चाणक्य  ने  अपनी  क्षमता  से  अखंड  भारत  का  निर्माण  कर  उसे  अपने  शिष्य  चन्द्रगुप्त  के  हाथों  में  सौंप  दिया  और  स्वयं  ने  एक  झोंपड़ी  में  रहना  पसंद  किया  l  अपनी  आजीविका  के  लिए  वे  स्वयं  श्रम  करते  थे  l  उन्होंने   त्याग  के  मूल्यों  को  जीवन  में  संजोकर  रखा  l
         स्वतंत्रता  के  आन्दोलन   में  गांधीजी  की  एक  आवाज  से  समूचा  देश  खड़ा  हो  जाता  था  , असहयोग  व  अहिंसक  आन्दोलन  की  बाढ़  से   जेल  की  चहारदीवारी  छोटी  पड़  जाती   थी  l  देश  की  आजादी  के  बाद   भी   उन्होंने  अहिंसा  और  अपरिग्रह  के  मूल्य  को   अपनाये  रखा  ,  शासन  और  सत्ता  से  अपने  को  दूर  रखा   l
    मनुष्य  के  व्यक्तित्व  की  पहचान  उसके  ऊँचे  उद्देश्यों     और  धार्मिक  मूल्यों   के  प्रति  निष्ठा  से  होती  है  l  अनुकूल  समय  में  इस  तरह  के  पथ  पर  चलने  का  प्रवचन  देने  वाले   बहुत  मिल  जाते  हैं  ,  परन्तु  प्रतिकूल  परिस्थितियों  में    सच्चे  आदर्शों  के  प्रति   निष्ठा  दिखाने  का  साहस  विरले  ही  कर  पाते  हैं  l 

13 August 2017

WISDOM

  समर्थ  गुरु  रामदास  के  साथ  एक  उद्दंड  व्यक्ति  चल  पड़ा   और  रस्ते  भर  खरी - खोटी  सुनाता  रहा  l  समर्थ  उन  अपशब्दों  को  चुपचाप  सुनते  रहे  l  सुनसान  समाप्त  हुआ   और  बड़ा  गाँव  नजदीक  आया   तो  समर्थ  रुक  गए   और  उस  उद्दंड  व्यक्ति  से  कहने  लगे ,  अभी  और  जो  भला - बुरा  कहना  हो  ,  उसे  कहकर  समाप्त  कर  लो   अन्यथा  एनी  गाँव  के  लोग   मेरे  परिचित  हैं  ,  सुनेंगे  तो  तुम्हारे  साथ  दुर्व्यवहार  करेंगे  l  तब  इससे  कहीं  अधिक  कष्ट  मुझे  होगा   l  वह  व्यक्ति  पैरों  में  गिरकर  समर्थ  गुरु  रामदास  से   क्षमा  मांगने  लगा  l  समर्थ  ने  उसे  अपना  आचरण  सुधारने   एवं  परिवार  में  भी  उन्ही  प्रवृतियों   को  फैलाने  का  आशीर्वाद  दिया  l
  संत  के  इस  व्यवहार  ने   उसके  जीवन  को  तो  बदला  ही  ,  उसे  बदले  में  जहाँ   गालियाँ  मिलती  थीं ,  वहां    सम्मान  मिलने  लगा   l 

12 August 2017

WISDOM

  दो  बालक  नित्य  साथ  ही  पाठशाला  जाया  करते  थे   l  एक  दिन  शाला  जाते  समय  उन्हें  अपनी  अपनी  अपनी  शारीरिक  शक्ति  परखने  की  सूझी   l  वे  दोनों  कुश्ती  लड़ने  लगे  l  बलवान  बालक  जीत  गया   l  कमजोर  को  पराजय  का  मुंह  देखना  पड़ा  l  इस  पर  हारे  हुए  बालक  ने  कहा --- " तूने  कौन   सी  बहादुरी  दिखाई  l  तेरे  जैसा  पौष्टिक  भोजन  मुझे  मिलता  तो  मैं  भी  तुझे  हरा  देता  l  यह  बात  विजेता  के  मर्म  को  बेध  गई   l  उसका  विजय  का  उल्लास  तिरोहित  हो  गया  l  उसका  स्थान  ग्लानि  ने  ले  लिया  -- वह  सोचने  लगा --कमजोर  को  हरा  कर  मैंने  कौनसा  श्रेयस्कर  काम  किया  है   l  मुझे  तो  उसको  अपने  जैसा  बनाना  चाहिए  था   l  '  इस  घटना  ने  उसकी  विचार  शैली  बदल  दी  l 
  यही    बालक  आगे  चलकर डाक्टर  बना  l  कमजोर  और  असहायों  की  सहायता  के  लिए  अफ्रीका  के  घने  जंगलों  में  चला  गया   l  यह  डाक्टर  थे ---- अलबर्ट  श्वाइत्जर  l  इस  महान  सेवा  साधना  के  कारण  वे  शान्ति  के  नोबेल  पुरस्कार  के  अधिकारी  व  हजारों  लोगों  के  प्रेरणा  स्रोत  बने  l 

10 August 2017

WISDOM

  एक  बार  चीन  के  बीजिंग  शहर  के  एक  सौ  वर्षीय  वृद्ध  से  पूछा  गया --- " आपकी  लम्बी  उम्र  का  रहस्य  क्या  है  ? "  वृद्ध  ने  जवाब  दिया ---- " मेरे  जीवन  में  तीन  बातें  हैं ,  जिनकी  वजह  से  मैं  लम्बी  आयु  पा  सका ---- 1. मैं  अपने  दिमाग  में  कभी  उत्तेजनात्मक  विचार  नहीं  भरता ,  सिर्फ  ऐसे  विचारों  को  पोषण  देता  हूँ   जो  मेरे  दिल  और  दिमाग  को  शांत  रखें   l  
2. मैं  आलस्य  को  बढ़ाने  वाला  ,  उत्तेजित  करने  वाला  भोजन  नहीं  लेता  और  न  ही  अनावश्यक  भोजन  लेता  हूँ   l
3.  मैं  गहरा  श्वास  लेता  हूँ  l  नाभि  तक  श्वास  भरकर   फिर  छोड़ता  हूँ  ,  अधूरा  श्वास  कभी  नहीं  लेता  l
     स्वस्थ  और  लम्बे  जीवन  के  लिए  जिन  बातों  का  पालन  करना  चाहिए  ,   उनका  पालन  न  करने  से  ही   लोग  स्वस्थ  नहीं  हैं   l
  चिकित्सकों  के  अनुसार  ,  ज्यादातर  लोग  इस  रहस्य  को  नही   जानते   कि  श्वास  किस  तरह  लेनी  चाहिए  l  वे  पूरी  साँस  ही  नहीं  लेते  l  पूरी  साँस  लेने  से   फेफड़ों  और  शरीर  के  अंदरूनी   हिस्सों  का   अच्छी  तरह  से  व्यायाम  होता  है   l
  निरोग  जीवन  जीने  के  लिए  मन  को   सशक्त  और  प्रसन्न  रखा  जाये  l  

9 August 2017

भारत छोड़ो आन्दोलन ----- 9 अगस्त 1942

  जुलाई  1942  में   कांग्रेस  कार्यसमिति  की  एक  बैठक  हुई   उसमे  देश  को  एक  नया  आदेश  देने  का  प्रस्ताव  पारित  किया  गया  ,  जिसका  सारांश  था  ' अंग्रेज  चले  जाओ '  l   इस  बार  केवल  मुंह  से  कह देने  की  बात  नहीं  थी  ,  वरन  निश्चय  किया  गया  था  कि  जो  कुछ  कहा  जाये  उसे  कार्यरूप  में  भी   परिणित  किया  जाये  l  यह  निश्चय  किया  गया   कि  9  अगस्त  को  बम्बई  में  ' अखिल  भारतीय  कांग्रेस  कमेटी'  की   बैठक  कर  के  इसकी  पुष्टि  की  जाये   और  देश  भर  में  एक  विशाल  आन्दोलन  खड़ा  कर  दिया  जाये  ,  जिसे  सरकार  सम्हाल  न  सके  l
        सरदार  पटेल  अब  देशव्यापी  क्रान्ति  के  लिए  तैयार  हो  गए  l  उन्होंने  अहमदाबाद  की  एक  लाख  व्यक्तियों  की  विरत  सभा  में  अपना  सन्देश  कह  सुनाया ---- " ऐसा  समय  फिर  नहीं  आएगा  l  आप  मन  में  भय  न  रखें  l  किसी  को  यह  कहने  का  मौका  न  मिले  कि  गांधीजी  अकेले  थे  l  जब  वे  74  वर्ष  की  आयु  में   हिन्दुस्तान  की  लड़ाई  लड़ने  के  लिए , उसका  भार  उठाने  के  लिए  निकल  पड़े  हैं  l  तब  हमें  भी  समय  का  विचार  कर  लेना  चाहिए  l  1919  के  विरोध   से  लेकर  जितने  भी  कार्यक्रम  रहे  , उन  सबका  समावेश  इसमें  हो  जायेगा  l रेलवे  वाले  रेलें  बंद  कर के ------सरकार  के  तमाम  यंत्रों  को  स्थगित  कर  दिया  जाये  --------- l "
  सरदार  पटेल  को   अपनी  जनता  की  शक्ति  का   पूरा  अनुमान  था  l  उनकी  खरी  देशभक्ति  और  साहसपूर्ण  कारनामों  ने   उन्हें  बहुत  लोकप्रिय  बना  दिया  था   l  उन्होंने  अपनी  गिरफ्तारी  से  कुछ  पहले  ही  कह  दिया  था  --- " बस ,  हमारी  क्रांति  सात  दिन  की  होगी  l   इसमें  जो  कुछ  कर  सकते  हो  बड़ी  तेजी  से  कर  डालो  l  "   उन्होंने  कहा --- " गांधीजी  हमारे  सेनापति  हैं  ,  वे  जो  हुक्म  दें , एक  के  बाद  एक  जो  कदम  उठाने  को  कहें ,  वही  उठाना  है  ,  न  जल्दबाजी  की  जाये , न  पीछे  रहा  जाये  l  हर  एक  व्यक्ति  को  आगया  और  अनुशासन  का  पालन  करना  है  l -------- "

8 August 2017

साहित्यिक ऋषि ----- महाकवि रवीन्द्रनाथ टैगोर

  संस्कृत  भाषा  में  एक  सुभाषित  है  कि--- ' धनवान  अथवा  राजा  तो  अपने  देश  में  ही  पूजा  जाता  है   पर  विद्वान   सर्वत्र  पूजनीय  होता  है  l '
महाकवि  को  अपनी   पुस्तक  ' गीतांजलि '  पर  नोबेल  पुरस्कार  मिला   l  कुछ  समय  बाद  वे  पीकिंग  विश्वविद्यालय  के  निमंत्रण  पर  चीन  गए  l  चीन  के  विद्दार्थियों  के  आग्रह  पर   महाकवि  को  सम्राट  के  महल  के  पास  ठहराया  गया  l  सम्राट  ने  उनकी  महल  में  बड़ी  खातिर  की  और  एक  बहुमूल्य  पुरानी  तस्वीर  उन्हें  भेंट  की  l   महाकवि  ने  वहा   एक  सार्वजनिक  सभा  में  कहा ----" भाइयों !  मैं  एक  सामान्य   कवि  हूँ  l  पर  मैं  एक  सामान्य  मनुष्य  हूँ   l  मेरे  ह्रदय  में  तुम  सबके  लिए  ऊँचा  स्थान  है   ---------"
    जिन  दिनों  महाकवि  चीन  में  ठहरे  हुए  थे ,  तभी  उनकी  वर्षगाँठ  का  अवसर  आ  गया   l  चीन  वालों  ने  अपनी  पद्धतिके  अनुसार  समारोह  मनाया   l महाकवि  के  लिए  शानदार  नीले  रंग  का  पजामा ,  नारंगी  रंग  का  कुरता   और  बैगनी  रंग  की  टोपी  तैयार  की  गई  l  लोगों  के  आग्रह  पर   महाकवि  को  वह  पोशक  पहनकर  समारोह  में  आना  पड़ा  l  वहां  के  लोग  उन्हें  अपने  जातीय  रूप    में  देखकर  बड़े  प्रसन्न  हुए  और  उनको  ' चु - चेनतांग '  का  नया  नाम  दिया  जिसका  अर्थ  होता  है ''''''  वज्र  के  सामान  शक्तिशाली --- सूर्य  !
  महाकवि  ने  अपनी  रचनाओं  द्वारा  संसार  में  भारतीय  संस्कृति  का  मान   बढ़ाया   l

6 August 2017

आध्यात्मिक मनोविज्ञानी ------ कार्ल जुंग

घटना  द्वितीय  विश्व युद्ध  की  है ,  जिसका  वर्णन  लोरेन्स  ने  ' कार्ल  जुंग  ----- ज्यूरिख  के  महान  संत  '   शीर्षक  से  किया  है  -------  दक्षिण  अफ्रीका  के  विख्यात  अन्वेषक  व  लेखक  लोरेन्स   वेन्डर  पोस्ट  जापान  में  युद्ध  बन्दी  रहने  के  कारण  विक्षिप्त  मानसिक  स्थिति  में  पहुँच  गए  थे  l   उपचार  के  लिए  उन्हें  प्रख्यात  स्विस  प्राध्यापक  कार्ल  गुस्ताव  जुंग  के  सामने  उपस्थित  किया  गया  l   वेन्डर  पोस्ट  के  अनुसार ,  युद्ध  बन्दी  के  समय  के  एकाकीपन  अवाम  स्वजनों  से  बिछोह  के  कारण   उत्पन्न  मानसिक  आघात  से  होने  वाली  बीमारी   जुंग  से  चार - पांच  बार  हुए  वार्तालाप   से  ही  दूर  हो  गई   l  उनके  अनुसार  मन:चिकित्सक  होने  के  अतिरिक्त   जुंग  का  महत्वपूर्ण  योगदान   मानव  मन  में  निहित  धर्म - भावना  को  समझाने  में  रहा  है   l
  जुंग  की  यह   दृढ़  मान्यता  थी  कि,  ' मनुष्य  की  विशेषत:  धर्म , नीति , न्याय  में  अभिरुचि  होनी  चाहिए  l  उसके  लिए  वह  सहज  वृति  है   l   यदि  इस  दिशा  में  प्रगति  न  हो   पाई  तो  अंततः  मनुष्य  टूट  जाता  है   l  और  उसका  जीवन  निस्सार  हो  जाता  है   l '
  एक  बार   एक  सार्वजनिक  सभा  में   जुंग  से  प्रश्न  किया  गया  था  ---- ' क्या  आप  भगवान्  को  मानते  हैं  ? '   इसके  प्रत्युत्तर  में  उन्होंने  कहा ---  " मैं  केवल  मानता  ही  नहीं  हूँ  ,  मैं  सदैव   उसको  अनुभव  करता  हूँ   l  '   उनके  निवास  स्थान  के  अग्रभाग  में   एक  वाक्य  खुदा  हुआ  था  ---- " बुलाओ  या  न  बुलाओ  ,  ईश्वर  अवश्य    उपस्थित  है   l '
विश्व  को  जुंग  की  सर्वोत्तम  दें  है ----- अचेतन  मन  का  विश्लेषण ,  जो   ' कलेक्टेडवर्क्स '  के  चार  बड़े  ग्रन्थों  में  उपलब्ध  है   l   उन्होंने  तीस से  अधिक  पुस्तकें  और  सैकड़ों  लेख  लिखे   l  '  साइकोलाजी  एंड   रिलीजन '  उन्ही  की  देन     है    l 

5 August 2017

निष्ठावान स्वयंसेवक ------- श्री कृष्णदास जाजू

 बात  1937  की  है  l खादी  ग्रामोद्दोग  संघ  के  अनुभवी  लोकसेवी  कार्यकर्ता  श्री  कृष्णदास  जाजू  को  महात्मा  गाँधी  ने   महत्वपूर्ण  वार्ता  के  लिए  सेवाग्राम  बुलाया  l  उस  समय  मध्यप्रदेश  के  तत्कालीन  मुख्यमंत्री   को  किसी  वजह  से  त्यागपत्र  देना  पड़ा  था , अत:  सरदार  पटेल  उनके  स्थान  पर  श्री   कृष्णदास जाजू  को  मुख्य  मंत्री  बनाना  चाहते  थे  l  उनका  स्वभाव  वे  जानते  थे  अत:  उन्होंने  गांधीजी  से  उन्हें  इसके  लिए  तैयार  करने  को  कहा  l  बापू  के   मुख  से  मध्यप्रदेश  का  मुख्यमंत्री  बनने  की  अनपेक्षित  बात  सुनकर  वे  हतप्रभ  हो  गए  l  उन्होंने  अपनी  असमर्थता  जाहिर  की  और  बोले  --- बापूजी  मैं  तो  कांग्रेस  का  सदस्य  तक  नहीं  हूँ ,  फिर  ये  कैसे  संभव  है  कि  मैं  प्रदेश  की  किसी  विधान  सभा  का  नेता  बन  जाऊं  और  वरिष्ठ  सदस्य  देखते  रह  जाएँ  l
   गांधीजी  ने  उन्हें  विश्वास  दिलाया  कि  कोई  वरिष्ठ  सदस्य  आपत्ति  नहीं  करेंगे  l  किन्तु  श्री  जाजू  ने  कहा --- "  आप  कोई  और  आदेश  दे  दे  , मैं  सहर्ष  स्वीकार  करूँगा   पर  मुझे  पद - प्रतिष्ठा  के  दलदल  में  न  डालिए  l "  इतने  पर  भी  गांधीजी  का  आग्रह  बना  रहा  l  वे  बापू  के  सामने  इस  संबंध  में  कुछ  बोले  नहीं  l   उनको  इस  संबंध  में  विचार  करने  की  बात  कहकर  लौट  आये  l  कुछ  दिनों  बाद  उन्होंने  सेवाग्राम  को  एक  मार्मिक  पत्र  प्रेषित  किया   जिसमे  लिखा ---- " मैं  कार्यकर्ता  बनना  चाहता  हूँ   नेता  नहीं  l  इसके  लिए  मुझमे  वैसी  योग्यता  का  भी  अभाव  है  l  मुझे  अपने  आपको  रचनात्मक  कार्य  में  खपाना  कहीं  अधिक  पसंद  है  अपेक्षाकृत  प्रशासन  का  भार  ग्रहण  करने  के   l "
  इसी  तरह  उनके  सामने  राज्यपाल  बनने  का  प्रस्ताव  भी   रखा  गया ,  अन्य  पद सम्मान  के  अवसर  आये  किन्तु  इन  सब  को   ढोने  के  बजाये   उन्हें  विनम्र   स्वयंसेवक  बनना   अधिक  महत्वपूर्ण  लगा            वे  कहा  करते  थे ----- किसी  समाज  , राष्ट्र  व  संस्था  का  जीवन  ,  प्रगति  इस  बात  पर  निर्भर  करती  है  कि  उसके  पास  निष्ठावान  स्वयंसेवक  कितने  हैं  l व्यवस्थापकों  , प्रशासकों  की  बदौलत  न  संस्थाएं  जीवित  रहती  हैं  और  न  राष्ट्र  l  '  उन्होंने  इस  आदर्श  को  निभाया   और  बड़े  पद  धारी   की  अपेक्षा  ठोस  कार्य  किया  l 

4 August 2017

महानता------

  श्री  लालहादुर  शास्त्री  ने  अपनी  निस्पृहता , सरलता , नि:स्वार्थता , निष्कपटता आदि  गुणों  के  कारण   अपनी  एक  अलग  ही  छाप  लोगों  पर  छोड़  राखी  थी  l  आत्म प्रशंसा  से  दूर  रहते  हुए   आदर - सत्कार  के  कार्यक्रम  को  वे  बराबर  टाला  करते  थे  l  उनके  करीब  के  मित्रों  ने   पूछा ---- " आखिर  आप  टालते  ही  क्यों  रहते  हो  ? :  शास्त्री जी  ने  लाला  लाजपतराय  के  सार  युक्त  उद्बोधन  को  दोहराना  शुरू  किया  ,  जो  कभी    उनके  लिए  दिया  गया  था ------ " एक  बहुमूल्य  संगमरमर  पत्थर  जिसका  उपयोग   गुम्बज  के  लिए  और  यत्र - तत्र  हुआ  है ,  दूसरा  एक  साधारण  पत्थर ,  ताजमहल  की  नींव   में  उपयोग  हुआ  है   ,  जिसकी  ओर  किसी  का  ध्यान  तक  नहीं  है   l  हमें  जीवन  में  भी   दूसरे  प्रकार  के  पत्थर  का  अनुकरण  करना  चाहिए   l  अपनी  प्रसिद्धि ,  प्रशंसा  और  आदर - सत्कार  से  हमेशा  दूर  रहकर   सत्कर्म  करते  रहना  चाहिए   l "    यही  सीख  मेरे  जीवन  में  पैठ  कर  गई  और  मैं  उस  नींव  के  पत्थर  का  अनुकरण  करता   रहता  हूँ   l                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                                   

3 August 2017

WISDOM

   ईसामसीह  की  असाधारण  सफलता   एवं  उनके  अभिनव  उत्कर्ष  में   उनके  व्यक्तित्व  में  निहित  गुण  ही  मुख्य  थे  l  ईसा  में  असीम  आत्मविश्वास  था  l  एक  विलक्षण  गुण  उनमे  था -----  व्यक्तित्व  को  परखने  की  शक्ति  l अपने  प्रथम  संपर्क  में  ही  वे  मनुष्य  में  अंतर्निहित  योग्यता   एवं  शक्ति  का  आभास  कर  लेते  थे   l 
  उन्होंने  अपने  12  प्रमुख  शिष्य  चुने  थे  l ये  बारह  व्यक्ति  बाह्य  रूप  से  साधारण  थे ,  कोई  मछुआ  था  तो  कोई  साधारण  दुकानदार   l   लेकिन  वे  आगे  चलकर  ईसा  की  सेवा  में  आकर  स्वर्णवत  बन  गए  l  इनके  व्यक्तित्व  को  विकसित  करने  के  लिए   ईसामसीह  ने  सर्वप्रथम  इन्हें  ' शिक्षण ' देना  आरम्भ  किया   l  अनवरत  तीन  वर्षों  तक   इन  बारह  व्यक्तियों  का  शिक्षण  कर  उनमे  अभिनव  संस्कार  डाले  l   तीन  वर्षों  के  प्रयास  के  बावजूद  भी  ये  शिष्य  ईसामसीह  को  पूर्णत:  समझ  नहीं  पाए l  ये  शिष्य  सदैव  यही  पूछते  रहते  थे  कि  इतना  सब  कर  ईसा  कौन  सा  राज्य  स्थापित  करने  जा रहे  हैं  और  उस  राज्य  में  उन्हें  (शिष्यों  को )  क्या - क्या  पद  मिलने  वाला  है   l  अपने  शिष्यों  के  इस  प्रकार  के  निराशा  जनक व्यवहार   से  भी  ईसा  ने   धैर्य  नहीं  खोया  ,  वे  नितन्तर   अपने  लक्ष्य  की  पूर्ति  में  लगे  रहे  और  फिर  विश्व  ने    देखा  कि    अंतत  ईसा  के  विश्वास ,  धैर्य   और  साहस  को  सफलता  मिली   l                                                                      

1 August 2017

सिद्धांत निष्ठा ------- पं. मदनमोहन मालवीय

  अपने  साप्ताहिक  पत्र  .' अभ्युदय '  का  उद्देश्य  बताते  हुए   पं.  मदनमोहन  मालवीय  ने  लिखा  --- " देश  के  थोड़े  से  मनुष्यों  को  सुख  प्राप्त  होने  से   देश  का  अभ्युदय  नहीं  कहा  जा  सकता ,  जब  कार्य परायण  और  पाप  से  बचकर  रहने  वाले  समस्त  मनुष्यों  को  सुख  प्राप्त  हो  और  वह  सुख  स्थायी  हो   तभी  उस  देश  के  विषय  में  कहा  जा  सकता  है  कि  उसका  अभ्युदय  हुआ  है  l  सुख  स्थायी  तभी  हो  सकता  है   जब  वह  धर्म  से  उत्पन्न  हो   और  धर्म  से  रक्षित  हो  l  अधर्म  से  उत्पन्न  और  अधर्म  से  रक्षित  सुख  कभी  भी  स्थायी  नहीं  होता  और  उसका  परिणाम  विष   से  भी   अधिक  कड़वा  होता  है   l 
        कालाकांकर  के  राजा  रामपाल  सिंह  ने  ' हिंदुस्तान ' नमक  पत्र  के  सम्पादन  के  लिए   मालवीयजी  को  आमंत्रित  किया  l  पद  सम्मानजनक  और  आर्थिक  द्रष्टि  से  आकर्षक  था  लेकिन  मालवीयजी  के  सामने  एक  कठिनाई  थी  कि  उन्हें  शराब  से  घ्रणा  थी  और  राजा  साहब  शराब  बहुत  पीते  थे  l  अत:  मालवीयजी  ने  सम्पदन  का  उत्तरदायित्व  लेने  की  शर्त  यह  रखी  कि  राजा  साहब  नशे  की  हालत  में  उनसे  न  मिले  l  यह  शर्त उन्होंने  स्वीकार  कर  ली  और  बहुत  दिनों  तक  निभी  l लेकिन  एक  दिन  नशे  की  हालत  में  वे  मालवीयजी  के  कार्यालय  उनसे  मिलने  जा  पहुंचे  l  आदर्श  और  स्वाभिमान  को  प्रमुख  मानने  वाले   महामना  मालवीय  स्तीफा  देकर  वापस  लौट  आये   और  लाख  कहने  पर  भी  उन्होंने  वह  उत्तरदायित्व  फिर  से  नहीं  स्वीकारा  l  राजा  साहब  पर  मालवीयजी  की  इस  आदर्शवादिता  का  इतना  अधिक  प्रभाव  पड़ा  कि  उनका  वेतन  ढाई  सौ  रूपये   मासिक  वकालत  पढ़ने  की  छात्रवृति  के  रूप में  उन्हें  वे  सतत  भेजते  रहे  l 

31 July 2017

आततायी से निपटने वाला ------- सरदार उधमसिंह

   जब  जलियांवाला   बाग  मे  निरपराध  भारतीय  जनता  की  एक  सभा  पर  गोलियों  की  वर्षा  की  गई ,  उस  समय  पंजाब  का  गवर्नर     जनरल  डायर  था   l कितने  ही  व्यक्ति  मारे  गए , कितने  ही  घायल  हुए  l  उस  भीड़  में  एक  बालक  भी  था  l बारह  वर्ष  का  यह  बालक सरदार  उधमसिंह   गोलियां  चलाने  वाले   पर  बहुत  कुपित  हुआ  l  उसने  कहा --- " मैं  भी  इसको  मारूंगा  l "
  प्रतिशोध  की  यह  अग्नि  उसके  ह्रदय - कुंड  में    लगातार  बाईस  वर्षों  तक  जलती  रही   l  डायर  यह  हत्याकांड  कर  के  इंग्लैंड  चला  गया  l  उधमसिंह  इंजीनियर  बने  l  दैनिक  कृत्य  संपन्न  करते ,  पढ़ते - लिखते  उन्हें  अपना  मिशन  याद  रहता  l  वह  इस  अवसर  की  प्रतीक्षा  में  थे  कि  जब  भी  डायर  भारत  वापस  आएगा ,  तभी  उसको  दण्ड  देने  का  अवसर  मिलेगा  l
  इस  प्रकार  प्रतीक्षा  करते - करते  उनका  धैर्य  जवाब  दे  गया   तो  उधमसिंह  आगे  पढने  का  बहाना  बनाकर  इंग्लैंड  ही  पहुँच  गए  l   13 मार्च  1940  को   यह   प्रतीक्षा  समाप्त  हुई  l  एक  सार्वजनिक  सभा  में  डायर  का  भाषण  था  l  उधमसिंह  मंच  के  सामने  वाली  कुर्सी  पर  बैठ  गए  l   डायर  जिसके  गवर्नर  पद  पर  रहते   जालियाँवाला   गोली - काण्ड  हुआ  था ,  भाषण  देने  खड़ा  हुआ ,  उधमसिंह  ने  अपने  रिवाल्वर  का  निशाना  बनाकर  तीन  वार  किये   l  डायर  वहीँ  धराशायी  हो  गया  l
  सरदार  उधमसिंह  के  सिर  से  बहुत  बड़ा  बोझ  हट  गया  l
 सरदार  उधमसिंह  को  पकड़  लिया  गया  l  अदालत  के  सामने  उन्होंने  बयान  दिया ----- " मैंने  अंग्रेजों  के  नालदार  जूतों  के  नीचे  अपने  देशवासियों  को  रौंदे  जाते  देखा  l  मैंने  इसका  विरोध  अपने  ढंग  से  किया  l  मुझे  इसका  पश्चाताप  नहीं  है  l  मौत  का  डर  तो  उसी  दिन  मेरे  मन  से  हट  गया  था  जब  बाईस  वर्ष  पहले   जलियाँवाला  बाग  में   सैकड़ों  बेगुनाह   भारतवासियों  को  मैंने  शहीद  होते  देखा   l  भारतवासी  अब  गुलाम  नहीं  रह  सकते  l  मैं  अदालत  से  दया  नहीं   कठोर  दण्ड  चाहता  हूँ   l "
   देशभक्त   देश  जाति  के  गर्व   की  रक्षा   के  लिए   मृत्यु  को  गले    लगाते  हैं  l   उन्होंने    मृत्यु  दण्ड  सहर्ष  स्वीकार    किया   l 

30 July 2017

सच्ची पूजा ------- विनोबा भावे

     मई  1958  की  सुबह l विनोबा  पंढरपुर ( महाराष्ट्र ) के  विठोबा  मन्दिर  में  अपने  सहयोगियों  के  साथ  विचार  विमर्श  कर  रहे  थे  ,  तभी  गेरुए  वस्त्र  पहने  एक  अधेड़  आयु  की  जर्मन  महिला  ल्युसियेन   उनसे  मिलने  आई  l   वह  पिछले  दस  वर्षों  से  घर - परिवार  और  देश  त्याग  कर  साधु  मंडली  में  इसलिए  सम्मिलित  हो  गई  थी  कि  सत्संग  और  भजन - कीर्तन  के  माध्यम  से  ईश्वर  को  प्राप्त  कर  लूंगी  l  विनोबा  से  वार्तालाप  के  बाद  उसे  यह  सत्य  समझ  में  आया  कि  वह  अब  तक  भ्रान्ति  में  थी  ,  पलायनवादी  होने  का  कलंक  मिला -- ' न  माया  मिली  न  राम '
     उसने  विनोबा  से  पूछा ---- "  आपने   ईश्वर  साक्षात्कार  के  लिए  एकान्त  साधना  नही  की ,  समाज - सेवा  क्यों  अपनाई  ? "
 विनोबा  ने  समझाया ---- "  इस  संसार  का  निर्माण  ईश्वर  ने  किया   l  हर  रचनाकार  अपनी  पूजा  कराने  की  तुलना  में  इस  बात  को  कहीं  अधिक  पसंद  करता  है  कि  उसकी  रचना  पूजित  हो    l  मूर्तिकार  प्रतिमा  बना  देता  है  l  प्रशंसा  उस  प्रतिमा  की  सुन्दरता  की  होती  है  l  मूर्तिकार  की  सुन्दरता  का  कोई  बखान  नहीं  करता  l  इस  संसार  का  निर्माण  ईश्वर  ने  किया   l  इसलिए  ईश्वर  को  प्रसन्नता  तब  होती  है   जब  कोई  उसकी  सन्तान  और  विश्व  उद्दान  की  उन्नति  के  लिए  ,  उसकी  सेवा  के  लिए  तत्पर  होता  है  और  आगे  बढ़ता  है   l  प्रतिदान  में  अपने  वरदान  से  ईश्वर  भी  उसे  निहाल  कर  देता  है  l "  उन्होंने  कहा --- " सच्चा  भक्त   वह  है  जो  समाज  के  प्रति  अपने  उत्तरदायित्व  का  सही - सही  पालन  करे   l जिसमे  दूसरों  के  प्रति  करुणा  हो   l  समाज  के  प्रति  तड़पन  हो   और  वह  स्वयं  इस  संसार  रूपी  बगिया  को  सुन्दर  बनाने  के  लिए  सक्रिय  हो  l    आज  कर्म  की  आवश्यकता  है  l " 
  यह  बात  संन्यासिनी  की  समझ  में  आ  गई   कि  निर्माण की  रक्षा  में  ही    निर्माता  की  इच्छा  निहित  होती  है  l   उसमे  एक  नया  कर्तव्य - बोध  जगा ,  उसने  गेरुआ  बाना  त्याग  दिया  और  समाज - सेवा  में  कूद  पड़ी  l   और  आजीवन  बम्बई  की  गन्दी  बस्तियों   तथा  आसपास  के  गांवों  में    अछूतोद्धार  का  काम  करती  रही  l  विनोबा  भावे  ने  उसका  नाम  बदलकर  हेमा  बहिन  रख  दिया  l  इस  सत्य  को  उसने  दुनिया  के  सामने  रखा ---  निराकार  ईश्वर  का  साकार  स्वरुप   दरिद्र नारायण ,  समाज - देवता  की  आराधना  है  l 

29 July 2017

जिन्होंने अपनी कहानियों में जीवन -दर्शन सम्बन्धी सूत्र दिये ------- खलील जिब्रान

 खलील  जिब्रान   ख्याति  प्राप्त  विद्वान  थे  ,  उन्होंने  कहानियों  के  माध्यम  से  जीवन - दर्शन  सम्बन्धी  सूत्र  दिये  जो  समय - समय  पर  मानव  का  मार्गदर्शन  करते  हैं  l  एक  साधारण  से  उदाहरण  से  नैतिक  सीख  दी  जा  सकती  है  ,  इसकी  झांकी  उनकी  इस  कथा  से  मिलती  है  ----------------- -----
        ' एक  बार  मैं  सपना  देख  रहा  था  l  स्वप्न  में  एक  भयानक  भूत  आया  और  मुझे  डराने  लगा l  मैं  उससे  भयभीत  होकर भागने  की  कोशिश  करने  लगा  l  भूत  ने  मुझे  कसकर  पकड़  लिया ,  भूत  ने  कहा ---- " तुम्हारी  बिरादरी  के  लोग  हैं , जिन्होंने  ईश्वर  की  नाक  में  दम  कर  रखी  है  l  तुम  लोग  धर्म  की  बातें  करके  अपनी  चमड़ी  बचाते  हो    और  उन  कामों  को  करने  में  लगे  रहते  हो  जिनकी  खुदा  ने  मनाही  की  है  l धर्म  के  प्रवक्ताओं   के  ऐसे  कार्य  से  खुदा  बहुत  दुःखी     है  l  तुम्ही  लोगों  की  अक्ल  ठिकाने  लगाने  को  खुदा  ने  मुझे  भेजा  है  l  आज  मैं  तुमसे  निपटूगा  l  '
  मैंने   भूत  से  कहा -- मुझे  जाने  दें  ,  आगे  से  मैं  ऐसी  गलती  नहीं  करूँगा  l   भूत  हंसने  लगा  , उसने  मेरे  हाथ  में  एक  फावड़ा  थमा  दिया  और  कहा --- फुरसत  के  समय  तुम  कब्रें  खोदते  रहना ,  दुनिया  में  चलते - फिरते , जिन्दा  प्रेत  बहुत  हैं  ,  तुम  उन्ही  को  दफन  करना ,  खुदा   ने  तुम्हारे  लिए  यही  जिम्मेदारी  सौंपी  है   l   '  जिन्दा  प्रेत ' ?  भूत  ने  कहा ---- " जो  दूसरों  का  दर्द  नहीं  समझ  सकते ,  जिन्हें  आपाधापी  के  अलावा  और  कुछ  नहीं  सूझता ,  जिनके  पास  दूसरों  को  धोखा  देकर  अपना  स्वार्थ  सिद्ध  करना  ही  एक मात्र  धन्धा  है  ,  वे  जिन्दा  भूत  नहीं  तो  और  क्या  हैं  ?  ऐसे  व्यक्ति  धरती  पर  बोझ  हैं  ,  समाज  के  लिए  सिरदर्द  हैं ,  जीवित  रहते  हुए  भी  मृतक  के  समान  हैं   l  उन्हें  दफन  नहीं  करोगे  तो  ,  इस  दुनिया  में  जिन्दा  लोगों  के  रहने  के  लिए  जगह  ही  कहाँ  बचेगी  ? " 
 यह  सपना   अपने  एक  मित्र  को  सुनाया ,   तब  से  हर  रात  वही  सपना  बारम्बार  आता  है  ,  रात  भर  जिन्दा  प्रेतों  के  लिए  न  जाने  कितनी  कब्रें  खोदता  हूँ  l     मित्र  हंसने  लगा ,  बोला --- तुम्हारे  सपने  की  कब्रें  तो  कल्पना - लोक  हैं ,  भला  उनमे  गड़ेगा  कौन  ?
मैंने  गम्भीर  होकर  कहा --- ' दूसरों  की  तो  खुदा  जाने  l  मैं  अपने  संकीर्ण   विचारों  को   नित्य  चिंतन  कर  गहरे  गाड़  देता  हूँ  l   सोचता  हूँ   यही  सपना  औरों  की  भी  समझ  में  आ  जाये  ,  तो  खुदा  को  हैरान  न  होना  पड़े   l   जिन्दा  प्रेत  कहीं  नजर  न  आयें ,  सारा  संसार  सही  अर्थों  में  मनुष्यों  से  घिरा   सुख - समुन्नति  की  ओर  बढ़ता  दिखाई  देने   लगे  l "

28 July 2017

देशभक्तों के निर्माता ------ वारीन्द्र कुमार घोष

   ब्रिटिश  सरकार  की  सेवा  में  निरत  भारतीय   डा. कृष्णघन  घोष   की  हार्दिक  इच्छा  थी  कि  उनके  पुत्र  पूरे  अंग्रेज  साहब  बने  l बड़े  पुत्र  को  इंग्लैंड  में  ही  रखा , वहीँ  पढ़ाया  l  वह  आगे  चलकर  भारतीय  संस्कृति  का  महान  द्रष्टा  बना  जिन्हें   योगीराज  महर्षि  अरविन्द   के  रूप  में  विश्व  जानता  है  l
  फूल  कहीं  भी  खिले  पर  उसकी  सुगन्ध  नहीं  बदली  जा  सकती   l       
  डा. घोष  ने   अपनी  पत्नी  को  जब  दूसरा  पुत्र  गर्भ  में  था  इंग्लैंड  भिजवा  दिया   ताकि  बालक  को  इंग्लैंड  की  नागरिकता  प्राप्त  हो  l  बालक  वारीन्द्र  कुमार  घोष  इंग्लैंड  में  पैदा  हुआ ,  उसे  वहां  की  नागरिकता  प्राप्त  हुई  l  अंग्रेजी  बोलता ,  अंग्रेजों  जैसी  वेशभूषा  धारण  करता  ,  पर  उसकी  आत्मा  भारतीय  थी  l  अपने  देश  और  संस्कृति  के  प्रति  उनके  ह्रदय  में  अपार  श्रद्धा  थी  l  वारीन्द्र  घोष  महान  देशभक्त  बने  l  बने  l  बंगाल  में  क्रान्ति  का  सूत्रपात  करने  का  श्रेय  इन्हें  दिया  जा  सकता  है  l
                 वारीन्द्र  घोष  ने  अपने  संस्मरणों  में  लिखा  है  -----' अपने  व्यक्तित्व  को  सदा  उच्च स्तरीय  बनाने  के  लिए    हम  युवाओं  का   मूल  प्रेरणा  केंद्र   दक्षिणेश्वर  था  l  इस  पवित्र  स्थान  का  स्मरण  मात्र  हमें  नव स्फूर्ति  से  भर  देता  था  l  कारण  था    यहाँ  की मिटटी  में  श्री रामकृष्ण परमहंस  के  तप  के  संस्कार  थे  l   दक्षिणेश्वर  की  पावन  माटी  हम  सभी  अपने  साथ  रखते  थे  l  जरा  भी  रोग  आ  घेरता   तो  इस  मिटटी  से  तिलक  कर    हम  ऊर्जावान  होते  थे  l '
  जब  उन्हें  गिरफ्तार  करने  अंगरेज  पुलिस  आई   तो  उनके  कमरे  में  एक  डिब्बी  मिली  ,  जिसमे  दक्षिणेश्वर  की  मिटटी  थी  l  अंग्रेज  कप्तान  ने  उसे  बम  बनाने  का  रसायन  समझा   और  प्रयोगशाला  में  परीक्षण  हेतु  भेज  दिया  l  वह  तो  मिटटी  ही  निकली  l  अंग्रेज  कप्तान  की  खूब  किरकिरी  हुई   l
वारीन्द्र  लिखते  हैं ---- '  अंग्रेज  अपनी  जगह  सही  था  l   वह  मिटटी  साधारण  नहीं  थी ,  असाधारण  थी ,  उसी  ने  विवेकानन्द  गढ़े,  वारीन्द्र ,  श्री  अरविन्द  गढ़े  l '  
      महामानव    गढ़ने  वाली   विलक्षण    माटी  थी  वह  l

27 July 2017

परिष्कृत प्रतिभा ईश्वरीय विभूति है

 'प्रतिभा  वस्तुतः  संकल्प  शक्ति ,  चिंतन  शक्ति  एवं  जुझारूपन  का  नाम  है  l परिष्कृत  प्रतिभा  मनुष्य  को  उपलब्ध  श्रेष्ठतम  ईश्वरीय  विभूति  है   l   क्योंकि  अन्य  सभी  विभूतियाँ  जैसे - धन , कला - कौशल , योग्यता , बलिष्ठता  आदि   इसी  की   ऊर्जा  से  अर्जित  की  जाती  हैं   l ' 
  प्रतिभा  का  विपुल  भंडार  हर  व्यक्ति  के  अन्दर  भरा  पड़ा  है  ,   इस  प्रसुप्त  प्रतिभा  को   जागने  का  अवसर  मिल  सके  इसके  लिए  आवश्यक  है  कि  भ्रष्ट  चिंतन  और  दुष्ट  आचरण  से  बचने  का  भरसक  प्रयत्न  किया  जाये   l  प्रतिभा  के  बल  पर  ही  व्यक्ति   सर्वथा  प्रतिकूल  परिस्थितियों  के  बीच  भी  उन्नति  के  शिखरों  पर  जा  पहुँचते  हैं  l
     बीसवीं  सदी  के  महान  वैज्ञानिक  आइन्स्टीन  बचपन  में  मूढ़मति  थे   l  अपनी  पुस्तक  ' वर्ल्ड  एज  आई  सा '  में   वे  लिखते  हैं  कि  बचपन  में  उनकी  गणना  मूर्खों  में  होती  थी  l  स्कूल  में  वे  सबसे  फिसड्डी  थे  l  उनकी  बुद्धिहीनता  से  तंग  आकर   एक  शिक्षक  ने  उनसे  यह  तक  कह  दिया  था   कि  तुम  कभी  कुछ  नहीं  बन  पाओगे  l   बचपन  में  मूर्ख  समझे  जाने  वाले    अलबर्ट ने  जब  अपने  संकल्प  को  जगाया  ,  क्रिया - कलापों  को  व्यवस्थित  किया   तो  अपनी  विचारशक्ति  को   क्रमशः  परिष्कृत  करते  हुए  एक  दिन   नोबेल  पुरस्कार  विजेता ,  अणुशक्ति  के  आविष्कारक ,  सापेक्षवाद  के  प्रणेता  आदि  नामों  से  प्रख्यात  हुए   और  अपने  क्षेत्र  की  सर्वोच्च  प्रतिभा  के  रूप  में  प्रतिष्ठित  हुए  l 

26 July 2017

WISDOM

 चाणक्य  ने  अपने  ग्रन्थों  में   स्थान - स्थान  पर  यह  विचार  व्यक्त  किया  है  कि शासक   स्तर   के  व्यक्ति  को   बुद्धि  और  शक्ति   दोनों  ही  विभूतियों  से  संपन्न  होना  चाहिए  l  चाणक्य  ने  अपने  शिष्य  को   शस्त्र  और  शास्त्र  में  पारंगत  बनाने के  साथ  साथ    उसके  चरित्र  गठन  की  और  भी  ध्यान  दिया   l 
  ' चरित्र  ही  समस्त  सफलताओं  और    सदउद्देश्यों   को  प्राप्त  करने   का   मुख्य  आधार  है   l  इसके  अभाव  में  बड़े - बड़े  शक्तिशाली  साम्राज्य   तथा  सम्राटों  का   नाश   और  पतन  हुआ  है  l  साधारण  से  साधारण  व्यक्ति  के  लिए   वह  उतना  ही  उपयोगी  है   जितना  कि  उच्च  प्रतिष्ठित  और  शासन  तथा  अधिकारियों  के  लिए   l  क्योंकि  चिरस्थाई  शांति  और   अपने  उत्तरदायित्व  को   समझने  तथा  पूरा  करने  की  क्षमता  चरित्र  साधना  से  ही  उत्पन्न  होती  है  l '

25 July 2017

निष्काम लोकसेवी ----- महाराजा हर्षवर्धन

सम्राट  हर्षवर्धन  ने  अपने  जीवन  और  चरित्र  के  माध्यम  से  यह  आदर्श  संसार  के  सामने  रखा  कि-----  कोई  पद  अथवा  अधिकार  अपने  लिए  सुख - सुविधाएँ  बढ़ाने  के  लिए  नहीं  मिलता  l  उनके  मिलने  का  तो  एक  ही  कारण  है  कि  हम  उसके  माध्यम  से   और  अच्छी  तरह  जन सेवा   कर  सकें  l 
  प्राय:   देखा जाता  है  कि  सफलता  के  पश्चात्  व्यक्ति  अपने  आदर्शों  से  गिर  जाता  है  l  किन्तु  निरंतर  आत्म निरीक्षण  करते  रहने  के  कारण  वे  अपने  आदर्शों  से  गिरे  नहीं   वरन  उन्होंने   महाराज  जनक  की  तरह  अपने  आपको   राज्य  और  वैभव  से   निर्लिप्त  ही  रखा   l   उन्होंने   ऋषि - मनीषियों  के  इस  कथन  को  आत्मसात  किया  कि--- ' संसार  से  भागने  की  आवश्यकता  नहीं  ,    अपनी  द्रष्टि  को  असंसारी  बनाने  की  आवश्यकता  है  l  मनुष्य  यदि  अपना  द्रष्टिकोण  सही  रखे   तो  वह  किसी  भी  काम  को  करता  हुआ   लोक  सेवा  कर  सकता  है   l  '
  गुप्त  साम्राज्य   के  पतन  के  बाद   सम्राट  हर्षवर्धन  ने  सम्पूर्ण  भारत  को  एकसूत्र  पे  पिरोकर  एक  सुद्रढ़  साम्राज्य  गठित  किया  l  जिससे  भारत  शक्तिशाली  हो  गया  l  उनकी  विशेषता  यह  थी  कि  उन्होंने  यह  सब  सहयोग  और  सदभावना  के  आधार  पर  किया  l
  सम्राट  हर्षवर्धन  कुशल  प्रशासक  , योद्धा  व  जनसेवी राजा  होने  के  साथ  श्रेष्ठ  लेखक  भी  थे  l  उन्होंने  नागानन्द, रत्नावली ,  प्रियदर्शिका   आदि  ग्रन्थों  की  रचना  की  थी  l  महाकवि  बाणभट्ट  उन्ही  के  दरबार  का  रत्न  था  ,  ' हर्षचरित '  और  ' कादम्बरी '  उसकी  प्रमुख  रचनाएँ  हैं   l 

24 July 2017

WISDOM

 लिंकन  जब  राष्ट्रपति  बने   तो  उनके  किसी  मित्र  ने   उनसे  पूछा  --- " जीवन  में  सफलता  प्राप्त  करने  के    लिए   क्या  करना  पड़ता  है  ? "  उन्होंने  उत्तर  दिया ---- " सफलता  प्राप्त  करने  के  लिए  उसका  मूल्य  चुकाना  पड़ता  है   l  मंजिल  तक  पहुँचने  के  लिए  पहले  मार्ग  की  जानकारी  होना  आवश्यक  है  l  मार्ग   जानने  के  बाद  सफलता  तक  पहुँचने  के  लिए   उस  मार्ग  पर  चलने  का   साहस  और  धैर्य  उस  सफलता  की  कीमत  है   l
   जीवन  का  मार्गदर्शन  करने    वाले  सैकड़ों  तत्व  दुनिया  में  मिलते  हैं   परन्तु  ये  सब  कील - कांटे  की  तरह  हैं   ,  बिना  प्रयत्न  किये  इनका  कोई  मूल्य  नहीं   l   इनका  होना  भर  अपर्याप्त  है   l  मार्ग  और  साधनों  के  साथ  - साथ  साहस  और  धैर्य  के  साथ  प्रयत्न  करना  अनिवार्य  है  l  

23 July 2017

WISDOM ----

 '  जो  राष्ट्र  केवल  अपने  समय  में  वर्तमान  में  ही  जीता  है ,  वह  सदा  दीन  होता  है ,  यथार्थ  में  समुन्नत  वही  होता  है  जो  अपने  अतीत  से  शिक्षा  लेकर   अपने  आपको   भविष्य  की  संभावनाओं  के  साथ   जोड़कर  रखता  है  l '
  सिकंदर  के  समय  ( ई. पू. चौथी  सदी )  यूरोप  में  भारत और  भारतीय  संस्कृति  का  नाम  काफी  प्रसिद्ध  था  l  वहां  के  लोग  जानते  थे  कि  भारत  धन  और  ज्ञान  का  भंडार  है  l  इसी  प्रसिद्धि  ने  सिकंदर  को  भारत  की  ओर  बढ़ने  की  प्रेरणा  दी   और  इसी  कारण  वास्कोडिगामा  भारत  पहुंचा  l  ईस्ट इंडिया  कम्पनी  की  स्थापना  1600 ई.  में  हुई  l  अंग्रेज  भारत  में  मुख्यतः व्यापार  के  लिए  आये  थे   l  आरम्भ  में  राज्य - स्थापना  अथवा  धर्म  प्रचार  उनका  उद्देश्य  नहीं  था  , परन्तु  भारत  की  दयनीय  दुरवस्था  के  कारण    वे  हमारी  सभ्यता  की  छाती  पर  डटे  रहे   l  इसकी  विवेचना  अमेरिकी  दार्शनिक  विल ड्युरो  के  विचारों  में  झलकती  है  ------ "  जिस  जाति  और  सभ्यता  में  अपना  शासन  स्वयं  चलाने  की  शक्ति  नहीं  रहती ,  जो   जाति  अपने   धन - जन  का  स्वयं  विकास  नहीं  कर  सकती   और  जिस  देश  का   एक  प्रान्त  दूसरे  प्रान्त  को   तथा  एक   जाति  दूसरी  जाति  को   बराबर  का  दरजा  देने  को  खुद  तैयार  नहीं  होती  ,  वह  जाति  और  देश  उन  लोगों  का  गुलाम  होकर  रहता  है  ,  जिन्हें  लोभ  की  बीमारी  और  शक्तिमत्ता   का  रोग  है  l "

जिन्होंने पत्रकारिता के माध्यम से देश को जगाया ----- सूफी अम्बा प्रसाद

'  साधन  तथा  प्रभुत्व  अपने  आप  में  महान  नहीं   वरन  इनका  सदुपयोग  कर  के  ही  इन्हें  महत्ता  दिलाई  जा  सकती   है  l  मनुष्य  की  प्रतिभा  तथा  योग्यता  की  भी  यही  स्थिति  है   l  सदुपयोग  एक  आवश्यक  शर्त  है   l  '   सूफी  अम्बा  प्रसाद  ने  अपनी  लेखनी  का  उपयोग  एक  महान  प्रयोजन  के  लिए  किया   l
     उन्होंने  देखा  कि भारतवासी  इतने  अत्याचार   सहते   हैं   फिर  भी  चुप   रहते  हैं     इसलिए  उन्होंने  भारतवासियों  को  जगाने  के  लिए  पत्रकारिता  को   चुना  और ' पेशवा '  समाचार  पत्र  के  माध्यम  से  वह  हवा  बहाई  कि  उससे  चिनगारियाँ  दावानल  बनने  लगीं   l  ' पेशवा ' के  माध्यम  से  इन  क्रान्तिकारियों  की  आवाज   जन - जन  के  अन्दर  सोई  हुई  मर्दानगी , आदर्शवादिता  तथा  राष्ट्र प्रेम  जगा  रही  थी   l 

21 July 2017

इतालवी - भाषा के जनक ------ महाकवि दांते

 सद्विचार  और  सत्कर्मों  का    जोड़   होना  बहुत  आवश्यक  है   l  विचारों  की  शक्ति  जब  तक  कर्म   में  अभिव्यक्त  नहीं  होती   उसका  पूरा  लाभ  नहीं  होता  l  महाकवि  दांते  ने  विचार  और  कर्म  दोनों  में  ही  अपनी   गति  प्रमाणित  की  l  इसी  कारण  वे  अपने  अमर  महाकाव्य  'डिवाइन कॉमेडी '  की  रचना  में  सफल  हुए  l 
  दांते का   जन्म  अभिजात्य  वर्ग  में  हुआ  था   किन्तु  वे  उन  सब  दोषों  से  मुक्त  थे   जो  सम्पन्नता  के  मिथ्याभिमान   के  कारण   पैदा  हो  जाते  हैं   l    युवावस्था  में  ही  उन्होंने   अपनी  उस  कवित्व  शक्ति का
जिसे  वे  ईश्वरीय  वरदान  मानते  थे  , लोक हित  में  सदुपयोग  करना  आरम्भ  कर  दिया  l   जिस  प्रकार  भारत  में  संत  तुलसीदास  ने   रामचरितमानस  को  संस्कृत  में  न  लिखकर  जनता  की  भाषा  ' अवधी '  में    लिखा  ,  उसी  प्रकार  महाकवि  दांते  ने   इस  महाकाव्य  की  रचना    इटली  के  पंडितों  की  भाषा  लैटिन  में  न  कर  के    सामान्य  जन  की  भाषा में    की  '                                                                                                                                                                                                                                                                                                            

20 July 2017

देश - सेवा के लिए जीवन समर्पित -------- महादेव गोविन्द रानाडे

  '  संसार  में  गुणों  की  ही  पूजा  होती  है  l  सच्चा  और  स्थायी  बड़प्पन   उन्ही  महापुरुषों  को  प्राप्त  होता  है   जो  दूसरों  के  लिए   निष्काम  भाव  से  परिश्रम  और  कष्ट  सहन  करते  हैं   l '
  बहुत   से  लोग  रानाडे  को  एक  विद्वान  समाज सुधारक   और  न्यायमूर्ति  जज  के  रूप  में  ही  जानते  हैं  l पर  यह  उनकी  अनोखी  प्रतिभा  थी   कि  हाई   कोर्ट के   जज  जैसे  उच्च  सरकारी  पद  पर   काम  करते    हुए  भी   उन्होंने  भारत    के    राजनीतिक  क्षेत्र  में  अपना  चिर स्मरणीय  स्थान  बना  लिया  l  वे  श्री  तिलक  और  गोखले  दोनों  के  राजनीतिक  गुरु  थे   l   लोकमान्य  तिलक  ने  उनका  स्वर्गवास   होने  पर   अपने  ' मराठा  पत्र '  में  श्रद्धांजलि  देते  हुए  लिखा  था ---- " श्री  रानाडे  के  समान  महापुरुष - रत्न  की  मृत्यु  से  भारत  की  जो  हानि  हुई  है  ,  उसका  ठीक - ठीक  अनुमान  करना  कठिन  है  l  वे  अद्वितीय  वक्ता  थे  ,  श्रेष्ठ  ग्रन्थकार  थे  , प्रभावशाली  समाज सुधारक   और  प्रसिद्ध  पंडित  थे   l  उनकी  राजनीतिक  विवेचना  महत्वपूर्ण  हुआ  करती  थीं   l  वे  पारदर्शी  विद्वान  और  जनता  से  सच्ची  सहानुभूति  रखने  वाले  एक  पवित्र  देशभक्त  थे  l  यदि  वे  अंग्रेज  होते  तो  ब्रिटिश  मंत्रिमंडल  में  एक  बहुत  ऊँचा  पद  प्राप्त  कर  लेते  l उन्होंने  अनेक  जन कल्याणकारी  संस्थाएं  स्थापित  कीं  और  अनेक   राष्ट्रीय    कार्यकर्ताओं  को  तैयार
 किया  l "  
 भारत  के  राष्ट्रीय  आन्दोलन  के  इतिहास  में   ह्यूम  साहब  को  कांग्रेस  का  जन्म दाता  माना  गया  है ,  पर  जानकार  लोगों  का  कहना  है  कि  उनको  इसकी  सर्वप्रथम  प्रेरणा  देने  वाले    रानाडे  ही  थे  l   ह्युम  साहब  भी  रानाडे  को   '  गुरु  महादेव '  कह  कर  पुकारते  थे  l   

19 July 2017

WISDOM ---- आध्यात्मिक बनने का मतलब है --- मन - कर्म - वचन से पवित्र बनना

    अध्यात्म  में  जिन  तत्वों  को  प्रधानता  दी  जाती  है   वह  हैं --- अन्त:करण  की  पवित्रता  और  मन  की  एकाग्रता  l  ये  दोनों  एक  दूसरे  की  पूरक  हैं   लेकिन  इनमे  श्रेष्ठ  और  सर्वोपरि  " पवित्रता "  है  l  
 मानसिक  एकाग्रता  से   शक्तियां  तो  जरुर  मिलती  हैं  ,  पर  जहाँ  पवित्र  ह्रदय  वाला  व्यक्ति  अपने  ध्येय  में  जुटा  रहता    वहीँ  अपवित्र  ह्रदय  वाले   उनका  उलटा  सीधा  उपयोग  करने  लगते  हैं  l  उनके  लिए  इन  शक्तियों  का  मिलना  बन्दर  के  हाथ  में  तलवार  जैसा  है  l
    रशियन  गुह्यवेत्ता    रासपुटिन  ठीक  ऐसा  ही  व्यक्ति  था  l  उसने  पवित्रता  अर्जित  करने  की  परवाह  किये  बिना  तरह - तरह  की  साधनाएं  की   पर  अन्त:करण  की  शुद्धि  के  अभाव   के  कारण  उसने  सारे  काम  गलत  किये  l    जार  तथा  उसकी  पत्नी  को  भी  प्रभावित  किया  किन्तु  गलत  कामों  के  कारण  उसे  जहर  दिया  गया , गोलियां  मारी  गईं  l  गले  में  पत्थर  बांधकर  वोल्गा  में  फेंका  गया  l   जबकि  महर्षि  रमण ,  संत  गुरजिएफ  आदि  अनेक  महान  संत  अपनी  पवित्रता  के  कारण  जन - जन  के  श्रद्धा  पात्र  बने      महत्वपूर्ण  शक्ति  का  अर्जन  नहीं ,   वरन  उसका  उपयोग  है  l  एक  ही  शक्ति  बुरे  व  भले  अंत:करण   के  अनुसार  अपना  प्रभाव  दिखलाती  है   l 
एकाग्रता   तो  हिटलर  के  पास  भी  थी  l   इससे  उपार्जित  अपनी  मानसिक  शक्तियों  के  कारण  उसने   जर्मन  जैसी  बुद्धिमान  जाति  को  भी  गुमराह  कर  दिया  l  उसने  सम्मोहन  जैसी  स्थिति  उत्पन्न  कर
 दी  l  जर्मनी  की  पराजय  के  बाद   वहां  के  बुद्धिमान  प्राध्यापकों  ने  अंतर्राष्ट्रीय  अदालत  में   दिए  गए  अपने  बयान  में  कहा  कि  हम  सोच  भी  नहीं  पाते  कि  हमने  यह  सब  कैसे  किया  l
  सभी  ने  ह्रदय  की  पवित्रता  को  अनिवार्य  बताया  है  l 

18 July 2017

अभिनव भारत के पितामह -------- दादाभाई नौरोजी

 दादाभाई  नौरोजी  को  भारतीय  स्वाधीनता  के  जनक ,  भारत  के  वयोवृद्ध  महापुरुष  आदि  आदर सूचक  संबोधनों  से  स्मरण  किया  जाता  है   l  ब्रिटिश  संसद  के  सदस्य  हो  जाने  पर  उन्होंने  भारत  के  हित  के  लिए  अपनी  सम्पूर्ण  शक्ति  लगा  दी   l  उन्हें  भारतीयों  ने  जितना  सम्मान  दिया  उतना  ही  अंग्रेजों  ने  भी  दिया   l  इसका  प्रमाण  इंग्लैंड  के  श्री  वर्डउड  के  उस  पात्र  से  हो  जाता  है   जो  नुन्होने  ' टाइम्स  आफ  इंडिया '  के  लन्दन  स्थित  प्रतिनिधि  को  लिखा  था  ------ "  दादाभाई  नौरोजी  उन  लोगों  में  से  थे  जिनको  किसी  भी  विषय  का   ज्ञान  सम्पूर्ण  होता  है  और  जो  तब  तक  जीवित  रह  सकते  हैं   जब  तक  जीवन  की  आकांक्षा  का   स्वयं  ही  त्याग  न  कर  दें   l वे    हर  बात  को  गंभीर  ढंग  से  रूचि पूर्वक  किया  करते  थे  l   उनके  साथ  बात  करने  पर  ऐसा लगता  था   कि  मृत्यु  हो  जाने  पर  भी  दादाभाई  नहीं  मरेंगे  ,  केवल  उनका  पार्थिव  शरीर  ही  मरेगा  l  वे  सदा  के  लिए  अजर - अमर  ही  रहेंगे   l  "

17 July 2017

अंध परम्पराओं का निराकरण ------- स्वामी दयानन्द सरस्वती

  स्वामीजी  ने  कहा  था ----" वर्तमान  आर्य  सन्तान  हमें  चाहे  जो  कहे   परन्तु  भारत  की  भावी  संतति   हमारे  धर्म  सुधार  को  और  हमारे  जातीय  संस्कार  को  अवश्यमेव महत्व  की  द्रष्टि  से  देखेगी   l हम  लोगों  की  आत्मिक  और  मानसिक  निरोगता  के  लिए  जो  कुरीतियों  का  खंडन  करते  हैं  वह  सब  कुछ   हित  भावना  से  किया  जाता  है  l  "
    स्वामीजी  का   यह  कथन   आज  एक ' भविष्यवाणी ' की  तरह  यथार्थ   सिद्ध    रहा  है   l   उनके  प्रचार  कार्य    के   आरंभिक  वर्षों   में    आर्य   समाज  की  स्थापना  होते  समय   उनके  विरोध  और  आक्षेपों    जो  तूफान  उठा  था   आज  उसका  चिन्ह    भी  नहीं   है  l   आज  हिन्दू  - समाज  में   केवल  थोड़े  से  पुराने  ढर्रे
के  पंडा - पुजारियों  को  छोड़कर  कोई  स्वामीजी  के  कार्यों  को   बुरा  कहने  वाला  न  मिलेगा  l  आज  के  समय  में  जब  लोगों  के  जीवन  में  व्यस्तता  अधिक  है , अवकाश  की  समस्या  है ,  परिवहन  कठिन  और  खर्चीला  है   तो  लोग  मृत्यु भोज  जैसे  विशाल  खर्चे  के  स्थान  पर   ' शुद्धता '  ' तेरहवीं '   श्राद्ध  -  आर्य - समाजी  विधि  से  कम  खर्च  व  कम  समय  में  संपन्न  कर  देते  हैं  l
  अन्य  देशों  के  निष्पक्ष  विद्वान  भी   स्वामीजी  के  लिए  ' हिन्दू  जाति  के  रक्षक '    ' हिन्दुओं  को  जगाने  वाले '  आदि  प्रशंसनीय  विशेषण  का  प्रयोग  करते  हैं   l   वास्तव  में  स्वामीजी  उन  महापुरुषों  में  से  थे   जो  किसी  जाति  की  अवनति  होने  पर   उसके  उद्धार  के  लिए  जन्म  लिया  करते  हैं  ,  वे  जो  कुछ  करते  हैं  मानव   मात्र  की   कल्याण   भावना  से  होता  है   l 
 अलीगढ़   में  मुसलमानों  के  सबसे  बड़े  नेता सर सैयद  अहमद  खां  स्वामीजी  से  भेंट  करने  कई  बार  गए  l   उन्होंने    कहा --- " स्वामीजी  आपकी  अन्य  बातें  तो  युक्ति युक्त  जान  पड़ती  हैं  ,   लेकिन  थोड़े  से  हवन  से   वायु  में  सुधार  हो  जाता  है    युक्ति संगत  नहीं  जान  पड़ती   l "
स्वामीजी  ने  समझाया ---" जैसे   छह - सात  सेर  दाल  को  माशा  भर  हींग  से  छोंक  दिया  जाता  है  तो  इतनी  सी   हींग  पचास  आदमियों   के  लिए  दाल  को  सुगन्धित  बना  देती  है  l  उसी  प्रकार  थोड़ा  सा  हवन  भी   वायु  को  सुगन्धित  बना  देता  है  l स्वामीजी  के  तर्क  से  सभी  श्रोता  प्रभावित  हुए   और  सर  सैयद  उनकी  स्तुति  करते  हुए  अपने  घर  गए   l
इसी  तरह  उन्होंने  बताया  कि  भारत  में   दूध , दही , घी  को  आहार  सामग्री  का  सर्वोत्तम  अंग  माना  जाता  है   l  अत:  जो  लोग  उत्तम  और  उपयोगी  दूध  देने  वाले   पशुओं  के  विनाश  का  कारण  बनते  हैं  ,  वे  निस्संदेह  समाज  के   बहुत  बड़े  अनीति करता  माने  जाने  चाहिए   l
 " भारत  पर  स्वामीजी  के  महान  ऋण  हैं  l  अपने  छोटे  से  जीवन  में   उन्होंने  देश  के  एक  कोने  से  दूसरे  कोने  तक   फैले  हुए  ' पाखण्ड  और  कुप्रथाओं ' का  निराकरण  कर  के  वैदिक  धर्म  का  नाद  बजाया   l 

16 July 2017

अत्याचार - पीड़ितों की सहायता में सर्वस्व समर्पण करने वाले योद्धा ------ श्री गणेश शंकर विद्दार्थी

 ' अन्याय  को  सहन  करना  ,  जो  कुछ  हो  रहा  है   उसे  अनुचित  और  अस्वाभाविक  मानते  हुए  भी  ऐसे  चुपचाप  बैठना   मानव - धर्म   नहीं  है  l '
    जब  भारत  पर  ब्रिटिश  शासन  था  तो  देशी  राज्यों  की  जनता  की  दशा  बड़ी  शोचनीय  थी   l  इन  राजाओं  ने  ब्रिटिश  गवर्नमेंट  की  आधीनता  स्वीकार  कर  ली  थी  , इसके  बदले  उसने  इनको   ' सुरक्षा  की  गारंटी '  दे  रखी  थी  l  इसका  नतीजा  हुआ  वे  निर्भय  होकर  प्रजा  का  शोषण  करने  लगे    और  उस  धन  को  दुर्व्यसनों  और  अपने  शौक  की  पूर्ति  में  उड़ाने  लगे  l  जब  ' स्वामी '  की  यह  दशा   तो  ' सेवक '  लोग  क्यों  पीछे  रहते  l  रियासती  अधिकारी  और  छोटे - बड़े  राज्य  कर्मचारी  दोनों  हाथों  से  प्रजा  को  लूटते - मारते  थे   l
     ऐसे  समय  में   श्री  गणेश शंकर   विद्दार्थी  ( 1890 - 1931 ) ने  कानपुर  से  ' प्रताप ' साप्ताहिक प्रकाशित  करना  आरम्भ  किया  l  उसका  उद्देश्य  था --- दीन - दुःखी ,  अत्याचार - पीड़ितों  की  आवाज  को  बुलंद  करना  और  उनके  कष्टों  को  मिटाने  के  लिए  आन्दोलन  करना   l ----
     अवध  के  किसान  तालुकेदारों  के  अत्याचारों  से  कराह  रहे  थे   l  ये ' लुटेरे ' तरह -तरह  के  लगानों   और  करों  के  नाम  पर  गरीबों  के  पसीने  की  कमाई   का  इस  प्रकार  अपहरण  करते  कि  दिन - रात  मेहनत  करने  पर  भी   उनको  दो  वक्त  भरपेट  रोटी  नसीब  नहीं  होती  l  जब  कानपुर  के  निकटवर्ती  रायबरेली  के  किसान  बहुत  पीड़ित  हुए  और  उन्होंने  तालुकेदार  वीरपाल  सिंह  के  विरुद्ध  सिर  उठाया   तो  उसने  गोली  चलवाकर  कितनो  को  ही  हताहत  कर  दिया   l       जब  विद्दार्थी जी  के  पास  खबर  पहुंची   तो  उन्होंने  एक  प्रतिनिधि  भेजकर  जांच  कराई  और  वीरपाल सिंह  की  शैतानी  का  पूरा  कच्चा  चिटठा  ' प्रताप '  में  प्रकाशित  कर  दिया  l
 तालुकेदार साहब  ऐसी  बातों  को  कैसे  सहन  करते ,  उन्होंने  विद्दार्थी  जी  को  नोटिस  भेजा  '  या  तो  माफ़ी  मांगो ,  नहीं  तो  अदालत  में  मानहानि  का  दावा  किया  जायेगा  l  विद्दार्थी जी  ने  उत्तर  दिया ---- ' आप  खुशी  से  अदालत  की  शरण  लें  l   हम  वहीँ  आपकी  करतूतों  का  भांडाफोड़  करेंगे  l  माफी  मांगने  वाले  कोई  और  होते  हैं  l  "
  छह  महीने  तक  मुकदमा  चला , तीस  हजार  रुपया  उसमे  बर्बाद  करना  पड़ा ,  तीन  माह  की  सजा  भी  भोगी  ,   पर  किसानों  की  दुःख  गाथा  और  तालुकेदारों  के  अन्याय  संसार  के   सम्मुख  प्रकट  हो  गए  l  और  उस  समय  से  जो  किसान - आन्दोलन  शुरू  हुआ  तो  उसने  जमीदारी  प्रथा  को  जड़मूल  से  उखाड़  कर  ही  दम  लिया   l 

15 July 2017

विश्व - मानवता के पुजारी ------ महात्मा फ्रांसिस

  सन्त  फ्रांसिस  का   जन्म  यद्दपि  इटली  में  हुआ  था  , पर  उनका  सादा  जीवन  ,प्राणीमात्र  से  प्रेम  , स्वयं  कष्ट  उठाकर  दूसरों  को   सुख  पहुँचाना  आदि  अनेक  ऐसे  गुण  हैं   जिनके  कारण   संत  फ्रांसिस   जैसे   दैवी  आत्म  संपन्न   महामानव   के  चरित्र  का  अध्ययन   समस्त  संसार   के  लिए  कल्याणकारी  है  l वे  कहा  करते  थे --- मनुष्य  के  समस्त  कर्तव्य -- छोटे  हों  या बढ़े,  वे  ईश्वर    प्रदत्त हैं      उन  का   निस्वार्थ  भाव  से    पालन  करना  चाहिए   l  प्रारंभ  में  वे  भजन  गा कर  अपनी  रोटी   पा  लेते  थे  ,  फिर  बाद  में   वे   किसी  के  घर  जाकर   वहां  काम  कर   के  भोजन   पा  लेते  थे  ,  वे  कहते  थे  मुझे  काम  करके  ही  अन्न  पाना  है ,  रोटी  पाने  का  सच्चा  अधिकारी  वही   है  जो  बदले  में  ठोस  कार्य  करे  l                                        

14 July 2017

टैंक - युद्ध के अनुभवी विजेता ------ जनरल जयन्त नाथ चौधरी

' भारत   की   स्वतंत्रता  के  शत्रुओं  को   अहिंसावादियों   की   शक्ति  से  शिक्षा  लेनी  चाहिए  l  '
  भारतीय  सेनाध्यक्ष -' जनरल  जयन्त  नाथ  चौधरी '  एक  वीर  अनुभवी  और  तपे  हुए  सेनानी  थे  l विश्व  के  माने  हुए  छह  टैंक  युद्ध  महारथियों  में  उनका  विशेष  स्थान  है  l 
   द्वितीय  महायुद्ध  में  जर्मन  सेनापति  रोमेल   को  हराने  का  जो  श्रेय  मित्र राष्ट्र -सेनाध्यक्ष  अकिनलेक  को  मिला  था ,  वह  वास्तव  में  हमारे  जनरल  चौधरी   और  चौथी  भारतीय  डिवीजन  के  जवानो  की  उपलब्धि  थी  l   जनरल  चौधरी  ने    लीबिया   के   मरुस्थल   की  हड्डी  गला  देने  वाली  सर्दी  और  आत्मा  हिला  देने  वाली  रेगिस्तानी  आँधियों  के  बीच  जान  हथेली  पर  रखकर  टैंक  युद्ध  की  बारीकियों  का  अध्ययन  किया  था  l उनकी  प्रत्युत्पन्न  बुद्धि  ने  उन्हें  टैंक  युद्ध  में  इतना  दक्ष  बना  दिया  था  कि  संसार  में  उनकी  विशेषता  का  नक्कारा  बज  रहा  है  l
         लीबिया  का  युद्ध  एक  निर्णायक  युद्ध  था ,  यदि  मित्र - राष्ट्रों  की  सेना  इसमें  हार  जाती  तो  हिटलरशाही  के  नीचे  दबे  यूरोप  का  कुछ  और  ही  रूप  होता  l
जर्मन  सेनापति जनरल  रोमेल  ने  लीबिया  पर  पूर्ण  अधिकार  कर के  उसे  मिश्र  से  अलग  करने  के  लिए  दस  गज  चौड़ी  कांटेदार तारों  की  एक  बाड़  लगवा  दी  थी  और  इस  विश्वास  के  साथ  निश्चिंतता  की  चादर  तान  ली   कि  लीबिया  की  प्राण -लेवा  ठण्ड   में   इन  लौह  कंटकों  को  पार  कर  कोई  नहीं  आएगा  l              10 नवम्बर  1941  की  प्रलयंकारी  रात  को  जब  लीबिया  का  रेगिस्तानी  तापमान  गौरीशंकर  के  तापमान  को  मात  दे  रहा  था  ,  हिम -हवाएं  तीर  की  भांति  शरीर  में  चुभ  रहीं  थीं ,  तब   मित्र -सेना  के  सैनिक , इंजीनियर  असह्य  ठण्ड  में  अपनी  आत्मा  की  शक्ति  लगाकर  उस  लोहे  की  कंटीली  बाड़  को  काट  रहे  थे   कठिन  प्रयत्नों  के  बाद  वह  कटीली  बाड़  बीस  जगह  से  काट  गिराई  l  मित्र राष्ट्र  की  सेनाओं  के  टैंक -दस्ते , बख्तर बंद गाड़ियों , मोटार्र  का  दल   तोपों  के  साथ   लीबिया  में  घुस  गया  l
 इस  अभियान  में   चौथी  भारतीय  डिवीजन  के   जवान  और  उनके   नायक --जनरल  चौधरी  सबसे  आगे  थे  l  कई  दिन  लगातार  रेतीली  यात्रा  पार  कर के  मित्र  सेनाओं  ने  लीबिया  में  सिदी  उमर  के  मैदान  पर  मोर्चा  जमा  लिया   और  जर्मन  सेनापति  रोमेल  के  आक्रमण  की  प्रतीक्षा  करने  लगी  l   दूर  समुद्र  तट  पर  अपने  शिविर  में  पड़े  रोमेल  को  जब  आक्रमण  की  सूचना  मिली  तो  वह  अपनी  सेना  के  साथ  तोपें  दागता , गोले  बरसाता,  आग  उगलता  चला  l उसकी  तोपों  के  वार  से  टैंक  टूटने  लगे , जवान  मर -मर कर  गिरने  लगे , अमरीकी  लड़ाकों  की  हिम्मत  पस्त  कर  दी  गई  l  दूसरे  दिन  के  युद्ध  में  भी  रोमेल  विजयी  हुआ  l  ऐसा  लगने  लगा  था  कि  मित्र  सेना  लीबिया  के  रेगिस्तान  में  दफ़न  हो  जाएगी   किन्तु  भारत  के  वीर  जवानो  और   जनरल  चौधरी  ने  हिम्मत  नहीं  हारी  l  वे  एक  संगठित  अनुशासन  में  होकर  बढ़े  और  तीसरे  दिन  के  घमासान  युद्ध  में  रोमेल  के  छक्के  छुड़ा  दिए  l रोमेल  भाग  गया  और  मैदान  मित्र - सेनाओं  के  हाथ  रहा  l
  लीबिया  की  पराजय  को  विजय  में  बदलने  वाले  इन्ही  जनरल  जयन्त  नाथ  चौधरी  ने  पाकिस्तान  के  विरुद्ध  युद्ध  की  कमान  संभाली   और  तब  जिस  कौशल  से   जर्मन  के  अभेद्द  टैंकों  की  मिटटी  बनाई  थी  , उसी  कौशल  से   भारत  भूमि  पर  चढ़  कर  आये   अमेरिका  के  पैटर्न - टैंकों  के  टुकड़े - टुकड़े  कर  के  फेंक  दिया   l