1 September 2013

WISDOM

मिट्टी  का  एक  कण , पानी  की  एक  बूंद , हवा  की  एक  लहर , अग्नि  की  एक  चिनगारी और  आकाश  के  एक  स्फुलिंग --पांचों  पहाड़  की  चोटी  पर  खड़े  होकर  भगवान  सूर्य  से  प्रार्थना  करने  लगे --" हे  सविता  देव ! हमें  भी  अपने  समान  प्रकाशमान  और  ऐश्वर्यशाली  बनाओं  । "
  सूर्य  से  एक  किरण  चमकी  और  बोली --" भाइयों  ! सूर्य  के  समान  तेजस्वी  बनना  है  तो  उठो , किसी  से  कुछ  मांगो  मत , अपना  जो  कुछ  है , वह  प्राणी  मात्र  की  सेवा  में उत्सर्ग  करना  प्रारंभ  करो ।

     अमरीका  के  प्रसिद्ध  दार्शनिक  थोरों  जब  मृत्यु  शय्या  पर  अंतिम  सांसे  गिन  रहे  थे , तो  किसी  ने  उनसे  पूछा -" क्या  आपने  ईश्वर  से  मित्रता  कर ली  है । "
     थोरों  ने  बड़े  सहज  भाव  से  उत्तर  दिया -" मेरी  उससे  शत्रुता  ही  कब  थी ।  यदि  इस  संसार  में  सचमुच  ही  ईश्वर  है , तो  मैं  उसकी  मनुष्य  में  झांकी  करता  हूँ  और  मानवतावादी  होने  के  नाते  उसकी  सेवा -सहायता  में  ही  भगवान  की  भक्ति  समझता  हूँ । "

1 comment:

  1. Nice ... really liked so much !

    ReplyDelete