4 October 2013

WISDOM

' सूफी  फकीर  शेख  सादी  के  वचन  हैं-- " बहुत  समय  पहले  दजला  के  किनारे  एक  मुरदे  की  खोपड़ी  ने  कुछ  बातें  एक  राहगीर  से  कही  थीं  | वह  बोली  थी -- " ऐ  मुसाफिर , जरा  होश  में  चल  ! मैं  भी  कभी  भारी  दबदबा  रखती  थी  | मेरे  सिर  पर  हीरों  जड़ा  ताज  था  | फतह  मेरे  पीछे-पीछे  चली  और  मेरे  पाँव  कभी  जमीन  पर  न  पड़ते  थे  |  होश  ही  न  था  कि  एक  दिन  सब  कुछ  खत्म  हो  गया  | कीड़े  मुझे  खा  गये  हैं  और  आज  हर  पाँव  मुझे  बेरहम  ठोकर  मारकर  आगे  निकल  जाता  है  |  तू  भी  अपने  कानो  से  गफलत  की  रुई  निकाल  ले , ताकि  तुझे  मुरदों  की  आवाज  से  उठने  वाली  नसीहत  हासिल  हो  सके  | "
          मुरदों  की  आवाज  से  उठने  वाली  नसीहत  को  जो  सुन  लेता  है , वह  जान  लेता  है  कि  जन्म  के  साथ  मृत्यु  भी  जुड़ी  है  | इन  दोनों  के  बीच  जो  जीवन  है  , उसे  वह  अनवरत  तप  और  सतत  निष्काम  कर्म  द्वारा  सार्थक  कर  अमर  हो  जाता  है  |

1 comment: