29 March 2014

निष्काम कर्म

'THE  MAN  WHO  WORKS  FOR  OTHERS,  WITHOUT  ANY  SELFISH  MOTIVE, REALLY  DOES  GOOD  TO  HIMSELF. '
         एक  सेठजी  थे, उनका  नाम  था  फकीरचंद, परंतु  धन  का  उनके  पास  कोई  अभाव  नहीं  था  | वे  सदा  ही  लोगों  की  सहायतार्थ  खर्च  करते  रहते  थे  । किसी  संत  ने  उनसे  एक  बार  कहा  था--" सेठ, सबकी  सहायता  किया  कर  ।  प्रभु  तेरी  सहायता  करते  रहेंगे  । " तभी  से  वह  दानी-परोपकारी  बन  गया  था  ।   संत  की  बात  भी  मिथ्या  नहीं  हुई  । वह  जितना  देता, उससे  अधिक  पाने  लगा  । यह  क्रम  वर्षों  तक  चलता  रहा, सुखपूर्वक  समय  व्यतीत  हो  रहा  था  ।
  एक  बार  सेठजी  व्यापारिक  कार्य  से  कहीं  बाहर  गये, वह  एक  गाँव  में  पहुंचे  । गाँव  के  निवासी  उनको  अच्छी  तरह  जानते  थे  और  उनसे  सहायता  प्राप्त  करते  थे  । उस  समय  सेठजी  थकान  से  परेशान  थे  और  उन्हें  भूख  भी  व्याकुल  कर  रही  थी  लेकिन  वह  अपने  मुँह  से  कुछ  नहीं  कह  पा  रहे  थे  । सेठजी  को  आशा  थी  कि  गाँव  वाले  उनकी  आवभगत  में  पलकें  बिछा  देंगे, परंतु  गाँव  वालों  ने  उनसे  कुछ  नहीं  पूछा  ।
सेठजी  घर  लौटे,  इस  बार  वे  बेहद  परेशान  थे । बार-बार  यह  प्रश्न  उनके  दिमाग  को  मथता  रहा  कि  मैं  सदा  सबकी  सहायता  करता  हूँ  और  वे  सहायता  प्राप्त  करने  वाले  थोड़ा  सा  भी  अहसान  नहीं  मानते, ! यह  कैसी  स्थिति  है ? उनका  अशांत  मन  छटपटाने  लगा  ।
दैवयोग  से  वही  संत  फिर  उस  गाँव  में  आये  । सेठ  बेचैन  तो  थे  ही  । तत्काल  दर्शन  करने  पहुंचे  और  उन्हें  प्रणाम  कर  खिन्न  मन  से  बैठ  गये  । संत  ने  पूछा--" कैसे  हो  सेठजी ?"  सेठ  बोले--" आपकी  कृपा  है  महाराज  । " संत  ने  कहा --" फिर  चेहरा  मलिन  क्यों  है, कोई  कष्ट  आ  पड़ा  क्या  ?"
सेठजी  ने  सहायता  करने  से  लेकर  अहसान  नहीं  मानने  तक  की  संपूर्ण  व्यथा-कथा  कह  डाली  और  बोले--" महाराज ! यह  दुनिया  अहसानफरामोश  क्यों  है  ?" यही  प्रश्न  मेरे  अंतर्मन  में  हमेशा  कुलबुलाता  रहता  है  ।
संत  मुसकरा  दिये  और  बोले--" वृक्ष  प्रसन्नता  पूर्वक  देते  है, हवा  की  झोली  में  सौरभ  भरने  वाले  खिलते  पुष्पों  और  दूध  के  बदले  कोई  प्रतिदान  न  मांगने  वाली  गायों  से  हम  शिक्षण  लें  ।  गीता  में    भगवान  ने  कहा  है-----
       सच्चा  कर्म  वही  है  जिसमे,  नहीं  छिपी  हो  फल  की  चाह
      सच्चा  धर्म  वही  है  जिसमे, रहे  निरंतर  एक  प्रवाह  
अत:  तुम   अपने  पथ  पर  अग्रसर  रहो  । यह  चिंता  क्यों  करते  हो  कि  लोग  तुम्हारे  इस  कार्य  को  महत्व  देते  हैं  या  नहीं   । " संत  की  बात  सुनकर  सेठजी  का  मन  स्वस्थ,प्रसन्न  और  निर्मल  बन  गया  वह  परोपकार  व  निष्काम  कर्म  की  महत्ता  समझ  गये  । 

1 comment:

  1. True... but really hard to follow in life.

    ReplyDelete