19 June 2016

योग - विद्दा के अन्वेषक ------ स्वामी कुवलयानन्द

 ' स्वामी  कुवलयानन्द  जी  ऐसे  असामान्य  योगी  थे  जिन्होंने  योग  शिक्षा  द्वारा  समाज  का  आध्यात्मिक  पुनर्निर्माण  करने  के  लिए  सारा  जीवन  अर्पित  कर  दिया   ।  उन्होंने  योग  द्वारा  अनेक  असाध्य   रोगों  की   चिकित्सा का  अन्वेषण  कर  उसे  जन - साधारण  तक  पहुँचाने  का  सतत  प्रयास  किया   ।
     योग - विद्दा  जो  अब  तक  विशिष्ट  योगियों  तक  सीमित  माना  जाता  था  ,  उसे  सामान्य  साधक  की  पहुँच  तक  लाने  का  अधिकांश  श्रेय  ' कैवल्यधाम  '  के  संस्थापक  स्वामी  कुवलया नन्द  को  जाता  है  ।
  स्वामीजी  का  यह  विश्वास  था  कि  जब  तक  मनुष्य  स्वार्थ ,  ईर्ष्या , क्रोध , लोभ , भय  आदि  विषयों  से  अलिप्त  नहीं  हो  पाता,  तब  तक  स्थायी  विश्व शान्ति  की  आशा  नहीं  है  ।  उनकी  मान्यता  के  अनुसार   योग  इस  ध्येय  प्राप्ति  के  लिए  एक  महत्वपूर्णसाधन  हो  सकता  है  । 
स्वामी  जी  का  स्वप्न  एक  ऐसे  योग निष्ठ  समाज  के पुन: निर्माण  का  था    जिसके  द्वारा  राजकीय , आर्थिक , सामाजिक  एवं  नैतिक   मूल्य  --- आध्यात्मिक  मूल्यों  पर  अधिष्ठित  हों    ।  

No comments:

Post a Comment